डॉ. आरआर गहलोत होंगे नए सीएमएस

Bareilly Updated Sat, 25 Aug 2012 12:00 PM IST
बरेली। डॉ. ऋषिराम गहलोत को संयुक्त जिला अस्पताल का नया सीएमएस बनाया गया है। जिला अस्पताल में सीएमएस के पद को लेकर चल रहे विवाद में डॉ. गहलोत की तीसरी एंट्री हैं। फिलहाल डॉ. सुधांशु कुमार इस पद पर तैनात हैं, जबकि उनसे पहले सीएमएस रहे डॉ. आरसी डिमरी ने अपना दावा पेश करते हुए हाईकोर्ट में रिट ठोक रखी है।
डॉ. गहलोत अभी तक पीलीभीत के जिला अस्पताल में सीएमएस थे। शुक्रवार को उनके तबादले का आदेश यहां पहुंचते ही डॉक्टरों और कर्मचारियों के बीच चर्चा का विषय बन गया। वजह यह है कि संयुक्त जिला चिकित्सालय में सीएमएस का पद खाली ही नहीं है। ऊपर से उस पर पहले से विवाद भी चल रहा है। मौजूदा समय में इस पद पर डॉ. सुधांशु कुमार तैनात हैं। उनसे पहले सीएमएस रहे डॉ. आरसी डिमरी ने हाईकोर्ट में रिट दाखिल कर रखी है। अब डॉ. गहलोत की इस पद पर नियुक्ति कर दी गई है, वह भी तब जबकि वह 31 अगस्त को रिटायर होने जा रहे हैं। कुछ डॉक्टरों का मानना है कि डॉ. गहलोत ज्वाइन नहीं करेंगे, शासन ने उन्हें केवल प्रमोट किया है।
इसके अलावा डॉ. रमेश कुमार श्रीवास्तव को बरेली मंडल का अपर निदेशक स्वास्थ्य बनाया गया है। वह इलाहाबाद में संयुक्त निदेशक के पद पर थे। मानसिक चिकित्सालय के निदेशक डॉ. जयप्रकाश नारायण को केंद्रीय औषधि एवं रसायन भंडार (सीएमएसडी) का निदेशक बनाया गया है। उनकी जगह सीएमओ पीलीभीत से अटैच डॉ. सईद फातिमा को मानसिक अस्पताल का निदेशक बनाया गया है। डॉ. फातिमा मानसिक रोग विशेषज्ञ नहीं हैं, फिर भी उन्हें मानसिक अस्पताल में निदेशक बनाया गया है। हालांकि राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग और मानसिक स्वास्थ्य अधिनियम-1987 में स्पष्ट तौर पर मानसिक अस्पताल में मानसिक रोग विशेषज्ञ को ही निदेशक या डॉक्टर बनाए जाने के निर्देश हैं।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

प्रेम में बदनामी के डर से नाबालिग ने खुद को फूंका

शाहजहांपुर में एक नाबालिग लड़की ने बदनामी के डर से आग लगाकर जान दे दी। लड़की के प्रेमी ने लड़की के घर फोन करके दोनों के प्रेम प्रसंग की बात कही। जिसके बाद लड़की ने बदनामी से बचने के लिए ये कदम उठाया।

22 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls