खुतबा पढ़कर खुदा से रोजे कबूल करने की दुआ

Bareilly Updated Sat, 18 Aug 2012 12:00 PM IST
बरेली। रमजान का मुबारक महीना शुक्रवार को विदा हो गया। कर्फ्यू के माहौल में शहर भर की मस्जिदों में अलविदा की नमाज अदा की गई। सबसे ज्यादा लोगों ने किला की शाही जामा मस्जिद में नमाज अदा की। सभी मस्जिदों में अलविदा की नमाज के बाद तमाम दिनों से तनाव के माहौल से गुजर रहे शहर और मुल्क में अमन के लिए दुआ की गई।
शाही जामा मस्जिद में दोपहर डेढ़ बजे इमाम मौलाना तंजीम रजा खां ने नमाज अदा कराई। इससे पहले उन्होंने खुतबा पढ़ा। बाद में तकरीर करते हुए कहा कि इस्लाम अमन का पैगाम देता है। इसलिए हम सभी को चाहिए कि हम अमन की बात करें और आपसी भाईचारे को बनाए रखें ताकि अपने शहर का माहौल न बिगड़े। उन्होंने कहा कि दीनी तालीम पर भी जोर देते हुए कहा कि मुसलमान यह न सोचें कि दीन की पढ़ाई करने वाले कुछ नहीं कर सकते। दीनी तालीम लेने वालों के लिए जरूरी नहीं कि वे मस्जिद और मदरसों में ही रोजगार की तलाश करें। वे बिजनेस भी कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि आखिरत के लिए कोई कुछ नहीं करना चाहता। खासतौर पर मालदार लोग को अपने बच्चों को दीनी तालीम से दूर रखते हैं। उनका जोर बच्चों को अंग्रेजी पढ़ाने पर रहता है, लेकिन इससे आखिरत में उन्हें कुछ नहीं मिलेगा। नमाज के बाद उन्होंने दुआ कराई। नमाजियों ने खुदा से रोजे कुबूल करने और बरेली में अमन के लिए दुआ की।
नौमहला मस्जिद में मुफ्ती शुएब रजा साहब ने दोपहर ढाई बजे नमाज अदा कराई। बिहारीपुर बीबी जी मस्जिद में मुफ्ती अय्यूब साहब, सुनहरी मस्जिद कुतुबखाना में कारी गुलाम यासीन ने साढ़े बारह बजे, घेर शेख मिटठी मस्जिद न्यारियान में हाफिज अशफाक साहब, जसौली की वीरशाह मस्जिद मेें मौलाना अहसन रजा, दरगाह शराफत मियां में हजरत सकलैन मियां, रेलवे जंक्शन की मस्जिद में मुफ्ती मो. आजम साहब, और किशोर बाजार की बन्नी आपा मस्जिद में मुफ्ती बहाउल मुस्तफा ने नमाज अदा कराई। इसके अलावा बड़े बाजार की हरी मस्जिद, आजमनगर की मसीतुल्ला मस्जिद, किला छावनी की मस्जिद रजा मुस्तफा, शहामतगंज की हबीब शाह मस्जिद. कैंट की हाथीखाना मस्जिद, चखनवाड़ा की नूर नबी मस्जिद में समेत शहर की सभी मस्जिदों में शांतिपूर्ण माहौल में नमाज अदा हुई। सबसे आखिर में दोपहर करीब साढ़े तीन बजे आला हजरत दरगाह स्थित मस्जिद में मदीने शरीफ से गुरुवार को ही लौटे हजरत मुफ्ती अख्तर रजा खां अजहरी मियां ने अलविदा की नमाज अदा कराई। सभी मस्जिदों रोजे की फजीलतों का बयान करते हुए मु्ल्क और शहर में अमन के दुआएं की गईं। जामा मस्जिद में डा.कदीर, डा. नफीस खां, शकूर अहमद, जाहिद नूरी, केआर बेग ने इंतजाम देखा।

बाहरी इलाकों से नहीं आ पाए ज्यादा लोग
बरेली। कर्फ्यू के बीच नमाज अदा करने में लोगों को दिक्कत तो नहीं हुई, लेकिन जो लोग गांवों से शाही जामा मस्जिद में जुमा अलविदा की नमाज पढ़ने आते थे, वे इस बार नहीं आ पाए। बाहरी इलाके की मस्जिदों में भी भीड़भाड़ नहीं रही। सुरक्षा के इतने कड़े इंतजाम थे कि नमाज के दौरान मुस्लिम इलाकों को सील कर दिया गया था। हर आने-जाने वाले पर पैनी नजर रखी जा रही थी। शहर की चौकी चौराहा मस्जिद, नैनीताल रोड की जहमी मस्जिद और सिटी स्टेशन वाली शहर के बाहरी इलाकों की मस्जिदों में ज्यादा नमाजी नहीं पहुंच पाए। कर्फ्यू में पुलिस के खौफ की वजह से लोगों ने अपने मोहल्ले की ही मस्जिदों में जुमा अलविदा की नमाज अदा की।

इंसेट--
हर साहिबे निसाब पर फर्ज है जकात
बरेली। जकात हर साहिबे निसाब पर फर्ज है, इसलिए ईद की नमाज से पहले हर हाल में जकात और फितरे की रकम किसी गरीब को देनी चाहिए। जमात रजा-ए- मुस्तफा के महासचिव मौलाना शहाबुददीन ने बताया कि साहिबे निसाब वह होता है जिसके पास साढ़े सात तोले सोना या 25 तोले चांदी या फिर इतनी ही हैसियत की कोई और मालियत हो। ऐसे सभी लोगों पर जकात फर्ज की गई है। जकात मालियत की ढाई फीसदी देनी होती है। इसे ईद की नमाज से पहले हर हाल में अदा कर देना चाहिए। इसी तरह फितरा तो आज दिन पैदा होने वाले बच्चे का भी अदा करना चाहिए। फितरे में एक शख्स का दो किलो साढे़ 45 ग्राम राशन या इसकी रकम किसी गरीब को देनी चाहिए। फितरा भी ईद से पहले किसी गरीब को दे देना जरूरी है।

गश्त करते रहे पुलिस-प्रशासन के अफसर

बरेली। प्रशासन ने अलविदा की नमाज शांति से निपट जाने पर राहत की सांस ली। हालांकि इसके लिए सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए थे। संवेदनशील इलाकों और मस्जिदों के आसपास भारी फोर्स तैनात रहा। अफसर पुलिस और पीएसी के जवानों के साथ लगातार गश्त करते रहे। मस्जिदों के आसपास घरों की छतों पर भी पुलिस तैनात थी। संवेदनशील इलाकों और प्रमुख मस्जिदों की सुरक्षा में खास सतर्कता बरती गई। नमाजियों के अलावा और किसी को सड़कों पर नहीं निकलने दिया गया। आईजी देवेंद्र सिंह चौहान, कमिश्नर के. राममोहन राव, डीएम अभिषेक प्रकाश, एसएसपी सत्येंद्र वीर सिंह समेत तमाम अफसर सुरक्षा इंतजामों का जायजा लेते रहे। खुफिया एजेंसियां भी अलर्ट रहीं।

Spotlight

Most Read

Kanpur

बाइकवालाें काे भी देना हाेगा टोल टैक्स, सरकार वसूलेगी 285 रुपये

अगर अाप बाइक पर बैठकर आगरा - लखनऊ एक्सप्रेस वे पर फर्राटा भरने की साेच रहे हैं ताे सरकार ने अापकी जेब काे भारी चपत लगाने की तैयारी कर ली है। आगरा - लखनऊ एक्सप्रेस वे पर चलने के लिए सभी वाहनों को टोल टैक्स अदा करना होगा।

17 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: बरेली के अस्पताल के ICU में लगी आग, दो महिला मरीजों की मौत

बरेली के एक प्राइवेट अस्पताल में आग लगने से दो महिला मरीजों की मौत हो गई। जबकि एक मरीज गंभीर रूप से घायल हो गया। आग आईसीयू में लगी थी और बताया जा रहा है मरीजों की मौत दम घुटने से हुई है। हालांकि आग की वजह अभी साफ नहीं हुई है।

16 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper