विज्ञापन
विज्ञापन

बच्चों को अभी भी कर्फ्यू का खामियाजा भुगतना बाकी

Bareilly Updated Fri, 03 Aug 2012 12:00 PM IST
ख़बर सुनें
बरेली। स्कूलों में नए शिक्षा सत्र की शुरुआत ही इस बार देर से हुई। जुलाई की शुरूआत में गर्मी इतनी ज्यादा थी कि जिला प्रशासन ने स्कूल खोलने पर रोक लगा दी। नए शिक्षा सत्र के लिए स्कूल दो जुलाई के बजाय नौ जुलाई को खुल पाए। कुछ और वक्त बच्चों और कक्षाओं को एडजस्ट करने में लगा। इसके बाद बमुश्किल एक हफ्ते ही पढ़ाई हो पाई कि दंगा हो गया और स्कूल फिर बंद हो गए। यह वक्त सभी स्कूलों में फॉर्मेटिव एसिसमेंट-2 की परीक्षाओं की तैयारियों का था, लेकिन सभी स्कूल अभी तक बंद पड़े हैं। दरअसल पूरा एकेडमिक कैलेंडर ही बुरी तरह पिछड़ चुका है। स्कूलों के लिए उसे किसी तरह लागू करना तो मुश्किल होगा ही, लेकिन जुलाई का तकरीबन पूरा महीना छुटिटयों में गुजर जाने का असल खामियाजा बच्चों को भुगतना होगा। उन्हें परीक्षाओं की तैयारी के लिए काफी कम वक्त मिल पाएगा। टीचर्स के लिए भी यह चुनौती होगी कि कम वक्त में वे कैसे परीक्षाओं की तैयारी करा पाएंगे।
विज्ञापन
विज्ञापन
--------------

अतिरिक्त गतिविधियों में करेंगे कटौती
किसी तरह से फॉरमेटिव एसिसमेंट-1 की तो परीक्षाएं हो गईं, लेकिन उसके बाद जुलाई में पढ़ाई शुरू ही नहीं हो पाई। इसकी वजह से एफए-2 लेट हो जाएगा। इसकी परीक्षाएं अगस्त के अंत तक हो जानी चाहिए, लेकिन अब सितंबर में हो पाएंगी। बच्चों को सिलेबस पूरा कराने के लिए अतिरिक्त गतिविधियों में से ही समय निकालना पड़ेगा।
एसके सक्सेना, प्रिंसिपल आर्मी पब्लिक स्कूल

---------------

अब रिवीजन होना भी मुमकिन नहीं
जुलाई में पहले तो गर्मी की वजह से पढ़ाई नहीं हो पाई और बाद में कर्फ्यू की वजह से स्कूल बंद हो गए। जुलाई में सिर्फ एक हफ्ते ही बच्चे पढ़ाई कर पाए। ऐसे में उनकी पढ़ाई के साथ ही परीक्षाएं भी आगे बढ़ानी पड़ेंगी। पहले रिवीजन कराकर आराम से परीक्षाएं होती थीं, लेकिन अब ऐसा नहीं हो पाएगा। कोर्स पूरा कराना काफी मुश्किल होगा।
ग्रेस जोस, प्रिंसिपल जीआरएम
-----------

अब तो पूरा साल ही पिछड़ गए
जुलाई की पढ़ाई काफी खास होती है। उसमें देर होने का मतलब है पूरा साल पिछड़ना। अब पिछड़ तो गए ही हैं। इसके लिए बच्चों को अतिरिक्त मेहनत करानी होगी, ताकि उनका नुकसान न हो। सबसे ज्यादा मुश्किल तो यह है कि सिलेबस को कैसे पूरा कराया जाएगा। एक ही रास्ता है कि बच्चों के खेलकूद के समय में ही कटौती कर पढ़ाई में इस्तेमाल किया जाए।
फादर ग्रेगरी मास्करहेंस प्रिंसिपल, बिशप कोनरॉड
----------

बच्चों पर पढ़ाई का बोझ बढ़ेगा
अब जुलाई तो गई, आगे के महीने देखने होंगे। बच्चों का हर सोमवार को टेस्ट होता है। लेकिन अब एक हफ्ते में दो टेस्ट कराने होंगे। ताकि हर एक टर्म के सिलेबस को पूरा पढ़ा पाएं। इसके अलावा पढ़ाई से इतर जो दूसरे पीरियड हैं, उनमें अब सिर्फ पढ़ाई कराई जाएगी। कुल मिलाकर बच्चों का बोझ बढ़ जाएगा। उन्हें पूरा कोर्स एक साथ पढ़ाना होगा।
टी खान, प्रिंसिपल, जेएलए स्कूल

Recommended

शनि जयंती (03 जून 2019, सोमवार) के अवसर पर शनि शिंगणापुर में शनि को प्रसन्न करने के लिए तेल अभिषेकम्
Astrology

शनि जयंती (03 जून 2019, सोमवार) के अवसर पर शनि शिंगणापुर में शनि को प्रसन्न करने के लिए तेल अभिषेकम्

कैसे होगा करियर, कैसा चलेगा व्यापार, किसे मिलेगी तरक्की और किसे मिलेगा प्यार ! जानिए विश्वप्रसिद्व ज्योतिषाचार्यो से
Astrology

कैसे होगा करियर, कैसा चलेगा व्यापार, किसे मिलेगी तरक्की और किसे मिलेगा प्यार ! जानिए विश्वप्रसिद्व ज्योतिषाचार्यो से

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

लोकसभा चुनाव 2019 (lok sabha chunav 2019) के नतीजों में किसने मारी बाजी? फिर एक बार मोदी सरकार या कांग्रेस की चुनावी नैया हुई पार? सपा-बसपा ने किया यूपी में सूपड़ा साफ या भाजपा का दम रहा बरकरार? सिर्फ नतीजे नहीं, नतीजों के पीछे की पूरी तस्वीर, वजह और विश्लेषण। 23 मई को सबसे सटीक नतीजों  (lok sabha chunav result 2019) के लिए आपको आना है सिर्फ एक जगह- amarujala.com  Hindi news वेबसाइट पर.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Bareilly

खेत में पानी लगाते समय पाइप सही करने पहुंचा था युवक, मगरमच्छ ने कर दिया हमला

नदी से बाहर निकलकर आए एक मगरमच्छ ने अमरिया क्षेत्र के ग्राम लक्ष्मीपुर गांव की सीमा पर फसल में पानी लगाने के लिए डबरी (बरसाती नदी) में पाइप डालने पहुंचे एक युवक पर हमला कर दिया।

26 मई 2019

विज्ञापन

अमर उजाला की महिला सशक्तिकरण की मुहिम ‘अपराजिता’ के तहत 500 महिलाओं ने डाली नाटी

हिमाचल प्रदेश के मंडी में जिलास्तरीय बालीचौकी मेले में बालीचौकी स्कूल मैदान में 500 से अधिक महिलाएं अमर उजाला की महिला सशक्तीकरण की मुहिम ‘अपराजिता’ के तहत एक साथ नाटी डालकर बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ का संदेश दिया।

26 मई 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree