200 का पेपर था, दे दिए 800 नंबर

Bareilly Updated Fri, 06 Jul 2012 12:00 PM IST
बरेली। रूहेलखंड विश्वविद्यालय में हाल ही में हुई कुछ प्रवेश परीक्षाओं में पेपर का पूर्णांक तो सिर्फ दो सौ था, लेकिन इसमें शामिल अभ्यर्थियों को आठ सौ नंबर तक दे दिए गए हैं। विश्वविद्यालय के इस कारनामे से अभ्यर्थी हैरान हैं और परेशान भी। उन्हें आशंका है कि कहीं यह गड़बड़ी प्रवेश परीक्षा को ही रद्द न करा दे। हालांकि विश्वविद्यालय के अधिकारियों के मुताबिक इसमें कोई गड़बड़ी नहीं है।
रूहेलखंड विश्वविद्यालय में पिछले दिनों एमएड, एमएससी, एलएलबी, एलएलएम की प्रवेश परीक्षा हुई थी। इन सभी परीक्षाओं के प्रॉस्पेक्टस में प्रश्नपत्र का पूर्णांक में 200 लिखा गया है। इसमेें हर प्रश्न एक नंबर का था और गलत जवाब देने पर 25 प्रतिशत नंबर कटने थे। प्रवेश परीक्षा कोआर्डीनेटर प्रो. वीपी सिंह ने बताया कि निगेटिव मार्किंग की गिनती में कोई दिक्कत न हो, इसलिए हर प्रश्न को एक के बजाय चार नंबर का कर दिया गया। इसी वजह से सभी प्रश्नपत्रों का पूर्णांक दो सौ से बढ़कर 800 हो गया। इस तरह सभी प्रवेश परीक्षाओं का मूल्यांकन 800 पूर्णांक के आधार पर ही किया गया। उन्होंने बताया कि इसमें पूर्णांक तो बढ़ा, लेकिन इससे किसी अभ्यर्थी का नुकसान नहीं हुआ। बल्कि सबको एकदम सही नंबर मिल गए।
हालांकि ऐसे अभ्यर्थी जिन्हें परीक्षा में दो सौ से ज्यादा नंबर मिले हैं, वे मूल्यांकन में कहीं कोई गड़बड़ी होने की आशंका से परेशान हैं। एक अभ्यर्थी फरहा ने बताया कि वह नंबर देखकर समझ ही नहीं पाईं कि उन्हें 200 नंबर के पेपर में 272 नंबर कैसे मिल गए। माजरा पता करने के लिए उन्हें विश्वविद्यालय जाना पड़ा। असलियत मालूम हुई तो निराश हो गईं। एलएलबी की प्रवेश परीक्षा में शामिल हुए रजत अरोरा ने बताया कि सभी अभ्यर्थी हैरान हैं कि उन्हें इतने नंबर कैसे मिल गए।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

प्रेम में बदनामी के डर से नाबालिग ने खुद को फूंका

शाहजहांपुर में एक नाबालिग लड़की ने बदनामी के डर से आग लगाकर जान दे दी। लड़की के प्रेमी ने लड़की के घर फोन करके दोनों के प्रेम प्रसंग की बात कही। जिसके बाद लड़की ने बदनामी से बचने के लिए ये कदम उठाया।

22 जनवरी 2018