बेहतर सड़कों के लिए याद की जाएंगी सुप्रिया ऐरन

Bareilly Updated Wed, 13 Jun 2012 12:00 PM IST
अपने कार्यकाल में 2681 सड़कों को दुरुस्त कराया
- सबसे ज्यादा मोहल्लों की गलियां सुधारी
- प्रमुख सड़कों के सुधार को भी मिला पैसा
बरेली। अब कुछ ही दिनों का कार्यकाल बचा है मेयर सुप्रिया ऐरन का। लेकिन, उन्हें बेहतर सड़कों के लिए हमेशा याद रखा जाएगा। अपने कार्यकाल में उन्होंने मोहल्लों की छोटी-छोटी सड़कों पर खास ध्यान दिया। अवस्थापना निधि की रकम का इस्तेमाल प्रमुख सड़कों पर किया गया, जिससे ये सड़कें भी इन दिनों ठीकठाक स्थिति में हैं।
मेयर सुप्रिया ऐरन के पांच साल के कार्यकाल में करीब 87 करोड़ रुपये सड़कों पर खर्च किए गए। इनसे कुल 2681 सड़कें सुधारी गईं। गली-कूचों की उन सड़कों की दशा ठीक की गई, जिन पर इससे पहले कभी ध्यान नहीं दिया गया। मसलन, कार्यभार संभालते ही उन्होंने जाटवपुरा में रफीक की दुकान से यमुना जी की मंदिर तक गली की स्थिति ठीक कराई। इसमें धनराशि तो 86500 रुपये ही खर्च ई, लेकिन लंबे समय से गली ठीक कराने की लोगों की मुराद पूरी हो गई। बिहारीपुर सिविल लाइंस में सिटी स्टेशन के पास गलियों में गड्ढे ही गड्ढे थे, जिन्हें मेयर अपने खास प्रयासों से ठीक कराया। यह काम सिर्फ 137460 रुपये में हो गया। नवादा शेखान में अलीशाह बाबा के मजार के पास टाइल्स का काम कराया तो जाटवपुरा में महर्षि वाल्मीकि पार्क की बाउंड्री की रंगाई पुताई कराई। सुभाषनगर की सड़कों की स्थिति भी उन्हीं के कार्यकाल में ठीक हुईं। यहां खन्ना बिल्डिंग के पीछे वाली दोनों सड़कें सुधारी तो गंदे नाले के किनारे सड़क डाली गई। बिहारमान नगला और उसे जुड़े क्षेत्रों में सड़कों, नाले और सामुदायिक केंद्रों की मरम्मत आदि 36 काम कराए। हजियापुर, कटरा चांद खां, परतापुर जीवन सहाय, हरूनगला, राजेंद्र नगर, नदोसी, सीबगंज, मॉडल टाउन, चौधरी तालाब, शाहदाना, सौदागरान और जखीरा आदि इलाकों में तमाम छोटी-छोटी सड़कें बनवाई।
चौपुला से किला तक कई करोड़ की लागत से सड़क के फोरलेन होने का काम उनके कार्यकाल में ही किया गया। सड़क किनारे की बस्तियों में रहने वालों के लिए बेहतर जल निकासी की सुविधा देने के लिए हाइवे के किनारे बने नाले का चौड़ीकरण भी किया गया। रेलवे जंक्शन से चौकी चौराहा तक सड़क को भी सुधारा गया। मानसिक अस्पताल परिसर से सटी खुर्रम गौंटिया वाली रोड बेहद खराब हालत में थी। उनके पत्र लिखने पर ही आवास विकास परिषद ने 900 मीटर लंबी इस सड़क को सुधारने पर 50 लाख रुपये खर्च किए। राजेंद्रनगर और डीडीपुरम की मुख्य सड़कें भी ठीकठाक हालत में हैं। यह बेहतर सड़क ही है कि नावल्टी चौराहे से कुतुबखाना और कोहाड़ापीर होते हुए कुदेशिया फाटक तक पहुंचना अब कष्टदायी नहीं लगता। इन दिनों रामपुर बाग की सड़कें अवस्थापना निधि से सुधारी जा रही हैं। कुतुबखाना से किला तक की सड़क नए सिरे से बनाने को मंजूरी मिल चुकी है।

---------
बड़े काम न करा पाने का अफसोस
मैंने तमाम छोटी-बड़ी सड़कें तो बनवाईं, मगर पार्किंग के बड़े प्रोजेक्ट स्वीकृत नहीं करा सकी, इसका मुझे हमेशा अफसोस रहेगा। मोती पार्क के पास अंडरग्राउंड पार्किंग स्थल का निर्माण कराना चाहती थी। नगर निगम के सामने मॉडर्न सब्जी मंडी बनाने का सपना था। लेकिन, बसपा सरकार ने अवस्थापना निधि के प्रस्तावों को पास करने वाली कमेटी का अध्यक्ष मेयर के बजाय कमिश्नर को बना दिया। नतीजतन, मेयर के हाथ में ज्यादा कुछ नहीं रह गया। - सुप्रिया ऐरन
---------
कार्यकाल में सड़कों पर खर्च का ब्यौरा
वर्ष संख्या धनराशि (लाख रुपये में)
2007-08 1023 1894.28
2008-09 989 3687.06
2009-10 218 830.83
2010-11 207 1110.54
2011-12 244 1189.12
कुल 2681 8711.83

Spotlight

Most Read

Hapur

अब जिले में नहीं कटेंगे बूढ़े हो चुके फलदार वृक्ष

अब जिले में नहीं कटेंगे बूढ़े हो चुके फलदार वृक्ष

22 जनवरी 2018

Related Videos

प्रेम में बदनामी के डर से नाबालिग ने खुद को फूंका

शाहजहांपुर में एक नाबालिग लड़की ने बदनामी के डर से आग लगाकर जान दे दी। लड़की के प्रेमी ने लड़की के घर फोन करके दोनों के प्रेम प्रसंग की बात कही। जिसके बाद लड़की ने बदनामी से बचने के लिए ये कदम उठाया।

22 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper