रोके गए रिजल्ट पर फैसला न होने पर भड़के जीएसएम कॉलेज के छात्र

Bareilly Updated Sat, 09 Jun 2012 12:00 PM IST
बरेली। इंटरमीडिएट की रिजल्ट रुकने के बाद कई दिनों से कशमकश से गुजर रहे जीएसएम इंटर कॉलेज के विद्यार्थियों का सब्र शुक्रवार को जवाब दे गया। वे इकट्ठे होकर यूपी बोर्ड के क्षेत्रीय कार्यालय पहुंचे और वहां जमकर तोड़फोड़ और हंगामा किया। विद्यार्थियों के अचानक धावा बोलने से सकते में आए दफ्तर के कर्मचारी भाग निकले। सूचना पर पुलिस पहुंची, लेकिन इससे पहले ही विद्यार्थी वहां से जा चुके थे। बोर्ड के अधिकारियों ने पुलिस अफसरों को दफ्तर में सुरक्षा मुहैया कराने के लिए लिखा है।
जीएसएम कॉलेज में इंटरमीडिएट के 504 विद्यार्थियों के आवेदन फॉर्म देरी से जमा हुए थे, इसलिए यूपी बोर्ड ने इन्हें स्वीकार करने से इनकार कर दिया था। इस मामले में एक याचिका दायर होने के बाद हाईकोर्ट के आदेश पर आवेदन फॉर्म स्वीकार तो कर लिए गए, लेकिन विद्यार्थियों की दिक्कतें इसके बाद भी खत्म नहीं हुईं। पहले तो उनके प्रवेश पत्र समय से जारी नहीं किए गए। काफी जद्दोजहद के बाद तय हुआ कि उनके प्रवेश पत्र परीक्षा केंद्रों से ही जारी किए जाएंगे। जैसे-तैसे ये विद्यार्थी परीक्षा में शामिल तो हो गए, लेकिन इसके बाद बोर्ड ने कॉलेज के सभी विद्यार्थियों का रिजल्ट रोक दिया। तीन दिन से ये विद्यार्थी कॉलेज के प्रधानाचार्य, डीआईओएस और क्षेत्रीय बोर्ड कार्यालय के चक्कर काट रहे थे, लेकिन उनके रिजल्ट के बारे में कोई फैसला नहीं हो पा रहा था।
शुक्रवार को सुबह ही तमाम विद्यार्थी इकट्ठे होकर क्षेत्रीय बोर्ड दफ्तर पहुंच गए। दफ्तर खुला ही था और अधिकारी और कर्मचारी हाईस्कूल का रिजल्ट आने के इंतजार और तैयारियों में मशगूल थे। अचानक शोरशराबा और नारेबाजी करते हुए विद्यार्थियों का रेला अंदर घुसा तो हड़कंप मच गया। विद्यार्थियों ने दफ्तर में घुसते ही तोड़फोड़ शुरू कर दी। दफ्तर में लगे शीशे चटकाने के बाद उन्होंने फर्नीचर भी तोड़ दिया। इसके बाद दरवाजों पर लातें मारते हुए उपसचिव के कमरे में पहुंचे। गुस्साए विद्यार्थियों के हमले का शिकार होने की आशंका से दफ्तर के कर्मचारी अपने कमरों में ताले डालकर बाहर निकल आए। विद्यार्थियों ने धमकी दी कि जब तक उनका रिजल्ट जारी नहीं किया जाएगा, वे दफ्तर से नहीं हटेंगे। हालांकि कुछ ही देर बाद बोर्ड के अधिकारियों की सूचना पर पुलिस पहुंच गई, लेकिन तब तक विद्यार्थी वहां से जा चुके थे।

लेट फीस देने के बाद जारी होगा रिजल्ट
क्षेत्रीय दफ्तर में तोड़फोड़ होने के बाद उपसचिव वेदराम ने यूपी बोर्ड के निदेशक से जीएसएम इंटर कॉलेज के रिजल्ट के मसले पर बात की। सूत्रों के मुताबिक पहले तो निदेशक ने इस मामले को टालना चाहा, लेकिन उपसचिव नेे दफ्तर में दोबारा तोड़फोड़ होने की आशंका जताई तो कुछ देर बाद उन्होंने इस संबंध में निर्देश जारी कर दिए। उपसचिव के मुताबिक निदेशक ने आदेश दिया है कि जिन विद्यार्थियों के परीक्षा आवेदन देर से जमा हुए हैं, उनसे लेट फीस जमा कराई जाए। लेट फीस जमा होने के बाद ही उनके रिजल्ट जारी होंगे।

----------------
मसला 504 का, रोक दिया सबका रिजल्ट
परीक्षा आवेदन 504 विद्यार्थियों के देर से जमा हुए थे, लेकिन यूपी बोर्ड ने कॉलेज के सभी विद्यार्थियों का रिजल्ट रोक दिया। दरअसल इसमें काफी गलती कॉलेज के प्रधानाचार्य की भी रही। बोर्ड की ओर से रिजल्ट जारी होने से पहले ही प्रधानाचार्य से उन 504 विद्यार्थियों की सूची मांगी गई थी, जिनके फॉर्म देर से जमा हुए थे ताकि बाकी का रिजल्ट जारी किया जा सके, लेकिन उन्होंने यह सूची नहीं भेजी। इसी वजह से सभी 1100 विद्यार्थियों का रिजल्ट रोक दिया गया। प्रधानाचार्य लालता प्रसाद ने बताया कि रिजल्ट बोर्ड की गलती की वजह से रुका है। इसमें कॉलेज की कोई गलती नहीं है।

Spotlight

Most Read

Lucknow

यूपी दिवस: प्रदेश को 25 हजार करोड़ की योजनाओं की सौगात, योगी बोले- आज का दिन गौरवशाली

यूपी दिवस के मौके पर प्रदेश को सरकार ने 25 हजार करोड़ करोड़ की योजनाओं की सौगात दी। मुख्यमंत्री योगी ने आज के दिन को गौरवशाली बताया।

24 जनवरी 2018

Related Videos

प्रेम में बदनामी के डर से नाबालिग ने खुद को फूंका

शाहजहांपुर में एक नाबालिग लड़की ने बदनामी के डर से आग लगाकर जान दे दी। लड़की के प्रेमी ने लड़की के घर फोन करके दोनों के प्रेम प्रसंग की बात कही। जिसके बाद लड़की ने बदनामी से बचने के लिए ये कदम उठाया।

22 जनवरी 2018