बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

चिलचिलाती धूप में जाम, दो घंटे फंसे रहे लोग

Bareilly Updated Tue, 05 Jun 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें
बरेली। पुलिस की लापरवाही सोमवार को सैकड़ों लोगों को बेहद भारी पड़ी। टायर फटने के बाद नकटिया पुल खड़ी हुई ट्रैक्टर-ट्राली की वजह से हाईवे पर लगे जाम में वे करीब दो घंटे तक फंसे रहे। चिलचिलाती धूप ने उन्हें खूब तपाया। नकटिया पुलिस चौकी के सामने गाड़ियों की कतारें लग जाने के बावजूद पुलिस तब हरकत में आई जब हालात बेकाबू होने लगे। इसके बाद अफसरों को सूचना देकर क्रेन मंगवाई गई और पुल पर खड़ी ट्रैक्टर ट्राली हटवाकर जाम खुलवाया गया।
विज्ञापन

हाईवे पर जाम करीब साढ़े बारह बजे लगा। ईंटों से भरी एक ट्रैक्टर ट्राली रजऊ से सेटेलाइट चौराहे की तरफ आ रही थी, जिसका नकटिया पुल पर एक टायर फट गया। इसके बाद वह पुल पर ही खड़ा हो गया और इस वजह से डिवाइडर के एक तरफ की सड़क जाम हो गई। इसके बाद कुछ देर दोनों दिशाओं से आने वाले वाहन एक ही सड़क से गुजरे, फिर उस पर भी जाम लग गया। बमुश्किल 15-20 मिनट गुजरे होंगे कि सड़क पर इधर सेटेलाइट स्टैंड तक और उधर नकटिया पुलिस चौकी के आगे तक वाहनों की लंबी कतार लग गई।

नकटिया चौकी की पुलिस इसके बावजूद हरकत में नहीं आई। जाम में ट्रकों के अलावा बसें, टेंपो, डग्गामार जीपें आदि यात्री वाहन फंसे हुए। इनमें बैठे लोगों का चिलचिलाती धूप ने बुरा हाल कर दिया। काफी देर लोगों ने जाम खुलने का इंतजार किया और इसके बाद भी रास्ता साफ होने की कोई सूरत नहीं दिखाई दी तो गाड़ियों से उतरकर जहां भी जरा सी छाया मिली, उसके नीचे खड़े हो गए। जाम की वजह से शाहजहांपुर की ओर जाने वाली तमाम बसों को सेटेलाइट बस स्टैंड से ही रवाना नहीं किया गया। हालांकि पुलिस इसके बावजूद हरकत में नहीं आई।
किसी ने जाम की सीधी सूचना एसपी (सिटी) शिवसागर सिंह को दी तो उन्होंने इंस्पेक्टर कैंट और नकटिया चौकी प्रभारी को मौके पर पहुंचकर जाम खुलवाने का निर्देश दिया। दोनों मौके पर पहुंचे जरूर, लेकिन तब तक हालत इस कदर खराब हो चुकी थी कि जाम नहीं खुलवा पाए। करीब दो बजे टीएसआई गौतम क्रेन लेकर मौके पर पहुंचे। इसके बाद ट्रैक्टर ट्राली को क्रेन से खींचकर पुल से हटाकर एक तरफ खड़ा किया गया। तब कहीं जाम खुल पाया।

पानी के लिए कलपते रहे जाम में फंसे लोग
धूप और गर्मी ने जाम में फंसे लोगों का बुरा हाल कर दिया। पसीने से तरबतर तमाम लोग पानी की तलाश करते दिखाई दिए। आसपास एकाध हैंडपंप मिला तो उस पर लोगों की कतार लग गई। जाम में फंसे बच्चों और महिलाओं को कुछ ज्यादा ही सजा भुगतनी पड़ी। करीब दो घंटे तक चिलचिलाती धूप में वे गाड़ियों में ही कैद रहे। लखनऊ डिपो की एक रोडवेज बस में सीतापुर के गांव सुरैंचा के रहने वाले विनोद बीवी-बच्चों समेत सवार थे। उनका डेढ़ साल का बेटा गर्मी और प्यास की वजह से बुरी तरह बिलख रहा था। दोनों उसे बिस्कुट खिलाकर मनाने की कोशिश कर रहे थे।

रोगी लेकर आ रही गाड़ी भी नहीं निकल पाई
शाहजहांपुर के कस्बे मीरानपुर कटरा में रहने वाले रिटायर्ड टीचर रामपाल की तबियत खराब थी। उनके परिजन उन्हें एक मारुति वैन में डीडीपुरम में डॉ. सुधीर गुप्ता को दिखाने ले जा रहे थे। नकटिया पुल पर लगे जाम में उनकी गाड़ी भी फंस गई। घर वालों के काफी पंखा झलने के बाद भी गर्मी से रामपाल की हालत और बिगड़ गई। घर वालों ने उनकी बीमारी का हवाला देते हुए आगे-पीछे लगी गाड़ियों में बैठे लोगों से निकल जाने देने की काफी गुहार की, लेकिन काफी कोशिश के बावजूद उनकी गाड़ी निकलने के लिए रास्ता नहीं बन सका। ट्रैक्टर ट्राली हटने के बाद जब खुला तभी वे निकल पाए।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us