सवालों का जवाब नहीं दे सके अफसर

Bareilly Updated Tue, 29 May 2012 12:00 PM IST
बरेली। मुचलका पाबंद लोग चुनाव लड़ पाएंगे कि नहीं? नगर निकाय चुनाव की स्थानीय स्तर पर प्रक्रिया शुरू होने से पहले राजनीतिक दल के प्रतिनिधियों के साथ बुलाई गई बैठक में कई सवालों पर जिला प्रशासन के अफसर अटक गए। दरअसल, आयोग से आए निर्देशों में मुचलका पाबंद लोगों के प्रत्याशी बनने पर रोक बताई गई है। डीएम ने फिलहाल यह कहकर बात टाल दी कि इस बिंदु पर आयोग से दिशा निर्देश लिए जाएंगे।
कलक्ट्रेट सभागार में बुलाई गई इस बैठक में सपा से तो कोई पहुंचा ही नहीं। बसपा के जिलाध्यक्ष ब्रह्मस्वरूप सागर के अलावा कांग्रेस-भाजपा से भी कुछ नेता पहुंचे। ब्रह्मस्वरूप सागर ने लिखित रूप से बताई अर्हताओं में से एक पर बात छेड़ दी। इसमें कहा यह गया है कि किसी न्यायालय द्वारा विभिन्न अधिनियमों में उल्लिखित किसी अपराध के लिए दोषी पाया गया हो, या सदाचार बनाए रखने के लिए पाबंद किया गया है और पांच वर्ष की अवधि समाप्त न हो गई हो, ऐसा व्यक्ति चुनाव नहीं लड़ सकता। ब्रह्मस्वरूप सागर का कहना था कि सदाचार बनाए रखने के लिए पाबंद किए जाने का मतलब तो सीधे निरोधात्मक कार्रवाई से है, मगर इसकी जद में आए लोगों को रोके जाने का तो कभी प्रावधान रहा ही नहीं है। यह सुनकर डीएम भी चौंके, उन्होंने पास बैठे सहायक जिला निर्वाचन अधिकारी डा. अजय शुक्ला से दिए गए लेटर में इसका उल्लेख किये जाने पर आपत्ति जताई तो डा. शुक्ला ने बता दिया कि ऐसा तो आयोग से ही लिखकर आया है। तब डीएम को कहना पड़ा कि वह आयोग में बात करके बताएंगे।
एक सवाल यह आया कि सार्वजनिक जगह होर्डिंग लगाना तो मना है, मगर नगर निगम के ठेकेदारों के होर्डिंग इसके लिए इस्तेमाल किये जा सकेंगे या नहीं। इस पर भी आयोग से गाइडलाइन लेने की बात कही गई। बैठक में स्टीकर के बाबत बताया गया कि मोटर व्हीकल एक्ट का उल्लंघन न होता है, उस साइज के स्टीकर लगाए जा सकते हैं। इस पर बसपा के मोंटी शुक्ला, भाजपा के अजय जेटली, कांग्रेस के महेश पंडित और मोनू पांडेय ने कहा कि तब तो बाइक के हेडलाइट के ऊपर के हिस्से पर इसे लगाया जा सकता है, मगर ऐसा करने पर पुलिस परेशान करती है। विकास शर्मा के सवाल पर भी अफसर यह साफ नहीं कर पाए कि निर्दलीय प्रत्याशी के लिए दस प्रस्तावक की बाध्यता है या नहीं।

निकाय चुनाव के लिए जरूरी निर्देश
0 केवल झंडी-बैनर इस्तेमाल किये जा सकेंगे, होर्डिंग पर पूरी तरह रोक है। रिक्शे घुमाने के लिए भी परमीशन लेना होगी।
0 किसी संस्था की ओर से विज्ञापन का इस्तेमाल किये जाने पर उसका खर्चा भी प्रत्याशी के खर्चे में जोड़ा जाएगा।
0 जमानत राशि में अनुसूचित जाति का लाभ पाने के लिए जरूरी होगा कि जाति प्रमाण पत्र लगाया जाए, वरना नामांकन पत्र रद कर दिया जाएगा।
0 एक उम्मीदवार अधिकतम चार ही सैट भर सकेगा और केवल दो क्षेत्र से ही उम्मीदवार बन सकता है।

Spotlight

Most Read

Hapur

अब जिले में नहीं कटेंगे बूढ़े हो चुके फलदार वृक्ष

अब जिले में नहीं कटेंगे बूढ़े हो चुके फलदार वृक्ष

22 जनवरी 2018

Related Videos

प्रेम में बदनामी के डर से नाबालिग ने खुद को फूंका

शाहजहांपुर में एक नाबालिग लड़की ने बदनामी के डर से आग लगाकर जान दे दी। लड़की के प्रेमी ने लड़की के घर फोन करके दोनों के प्रेम प्रसंग की बात कही। जिसके बाद लड़की ने बदनामी से बचने के लिए ये कदम उठाया।

22 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper