... मां के दर्द में शामिल वो हामिद नहीं दिखा

Barabanki Updated Wed, 22 Aug 2012 12:00 PM IST
बाराबंकी।
नये लिबास, दोस्त, झूले, खेल और खिलौने,
फरमाइशें बेशुमार मगर वो जज्बा नहीं दिखा।
सब कुछ दिखा इस बार मेरी ईदगाह में ‘सहज’
मां के दर्द में शामिल वो हामिद नहीं दिखा॥
महान उपन्यासकार प्रेमचंद का वो किरदार भला किसे याद नहीं होगा जो उनकी ईदगाह कहानी का मुख्य पात्र था। बच्चों के जेहन में वो किरदार उनके युवा होने तक इस कदर छाया रहा कि वो आने वाली पीढ़ियों के लिए भी नसीहत बनता रहा। बड़े बच्चों को हामिद जैसी सीख देते रहे लेकिन दौर बदला तो शायद हामिद ईदगाह के मेले की भीड़ में कहीं खोता गया। और अब उस हामिद को ढूंढना भी मुश्किल हो गया है। क्योंकि इस बार ईदगाह में नये लिबास और दोस्तों में मशगूल बच्चों को खेल, खिलौने और झूलों से ही फुरसत नहीं मिली। ईद के दिन मां से जेब खर्च मिलने के बाद मेला गए हामिद को रोटी बनाते समय मां के छाले से भरे हाथ याद आ गए, तो वह चिमटा लेकर घर आ गया। सोमवार को मौका वही था और दस्तूर भी, जेब में खर्च करने के लिए मिली ईदी भी थी, पर कहीं भी हामिद का चेहरा देखने को नहीं मिला। सुबह से शाम के बाद रात भी हो गई पर अपने बचपन के ख्वाबाें को पूरा करने की जगह मां के हाथाें
की फिक्र करता हामिद घर
नहीं पहुंचा।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाले के तीसरे केस में लालू यादव दोषी करार, दोपहर 2 बजे बाद होगा सजा का ऐलान

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

बाराबंकी में 14 मौतों पर बीजेपी सांसद से जवाब देते नहीं बना

बाराबंकी में जहरीली शराब पीने से 14 लोगों की मौत पर शनिवार को बीजेपी सासंद प्रियंका रावत ने मीडिया से बात की। बीजेपी सांसद ने कहा कि गुमराह करनेवाले अफसरों को बक्शा नहीं जाएगा।

14 जनवरी 2018