बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

अंग्रेजी में भी इस्लामी कोर्स की तालीम ले रहे मदरसा छात्र

Kanpur	 Bureau कानपुर ब्यूरो
Updated Thu, 05 Mar 2020 11:45 PM IST
विज्ञापन
मदरसा हथौरा में इंगलिश डिपार्टमेंट के जलसे में स्पीच देते छात्र।
मदरसा हथौरा में इंगलिश डिपार्टमेंट के जलसे में स्पीच देते छात्र। - फोटो : BANDA
ख़बर सुनें
बांदा। आमतौर पर अरबी और उर्दू भाषा में विभिन्न धार्मिक कोर्स करने वाले मदरसों के तलबा (छात्र) ने अब अंग्रेजी भी अपना ली है। अरबी-उर्दू के साथ अब इनकी भाषा और बोलचाल अंग्रेजी भी होगी। गुरुवार को मदरसा जामिया अरबिया, हथौरा में उर्दू शोबा (विभाग) के पहले सालाना जलसे में यह साफ नजर आया। विभिन्न धार्मिक कोर्स कर रहे इन छात्रों ने फर्राटेदार अंग्रेजी में संबोधन किया। उन्हें मदरसा की ओर से स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया गया।
विज्ञापन

मदरसा के सभागार में अंग्रेजी विभाग के पहले सालाना समारोह में छात्रों ने अंग्रेजी में विभिन्न विषयों पर विचार रखे। उस्मान अख्तर (अंबेडकर नगर) ने इस्लाम और शिक्षा, मोहम्मद शहबाज (आजमगढ़) ने टॉलरेंस (सहनशीलता), मोहम्मद कामरान (फतेहपुर) ने इस्लाम में औरतों के अधिकार और पश्चिम सभ्यता, मोहम्मद अमजद (अंबेडकर नगर) ने पैगंबर हजरत मोहम्मद का गैर मुस्लिम इंसानों के प्रति नजरिया, मोहम्मद अफजल (मऊ) ने इस्लाम और आतंकवाद, मोहम्मद सादैन (फतेहपुर) ने इस्लाम में समानता और न्याय तथा मोहम्मद ओसामा (बांदा) ने अन्य विषय पर स्पीच दी।

सभी तलबा को मुख्य अतिथि (चीफ गेस्ट) इंजीनियर काजी अतीक अहमद ने मोमेंटो देकर सम्मानित किया।
जलसे की शुरुआत तिलावत और नात से हुई। मदरसा उर्दू डिपार्टमेंट के डायरेक्टर मौलाना अनस अहमद ने वेलकम स्पीच (स्वागत भाषण) दिया। मदरसे के संचालक मौलाना कारी हबीब अहमद ने सभी का आभार जताया। इंगलिश भाषा के प्रति रुझान बढ़ाने की प्रेरणा देने वाला नाटक मदरसा छात्रों ने पेश किया।
इसके पूर्व समारोह को डा.मोहम्मद रफीक, एएच अंसारी, मौलाना अब्दुर्रशीद (कानपुर) और मौलाना हिफजुर्रहमान आदि ने भी संबोधित किया। मुख्य अतिथि इंजीनियर अतीक अहमद ने कहा कि अंग्रेजी अंतर्राष्ट्रीय भाषा है। दुनिया में ज्यादातर काम और साहित्य इसी भाषा में होते हैं। अंग्रेजी सीखने का यह हरगिज मतलब नहीं कि अपनी तहजीब में कोई बदलाव आए। हर भाषा को सीखना और पढ़ना चाहिए।
डायरेक्टर मौलाना अनस ने उर्दू विभाग की एक साल की रिपोर्ट पेश की। संचालन उर्दू विभाग के प्रमुख के प्रमुख मौलाना सईद द्वारा किया गया।
इस मौके पर एसडीओ मोहम्मद सिद्दीक, मुफ्ती नजीब अहमद, मौलाना फरीद अहमद, पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष हाजी शकील अली, पूर्व डीडीसी मोहम्मेद इदरीश, जामा मस्जिद व ईदगाह मुतवल्ली डा.शेख सादी जमां, रिटायर्ड रेंजर जुनैद अहमद, हाजी शब्बीर बबलू, हाजी वसीम, हाजी गुलाम मुस्तफा, हाजी महफूज, ट्रांसपोर्टर इरशाद अहमद, मुजीब अहमद सहित मदरसे के टीचर्स, छात्र और अन्य लोग उपस्थित रहे।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us