डीआईजी के आदेश पर मामले की जांच शुरू

Banda Updated Fri, 28 Sep 2012 12:00 PM IST
बांदा। दहेज हत्या के मामले में विवेचना कर रही विवेचक दारोगा पर अभियुक्तों से साठगांठ का आरोप लगाया गया है। शिकायत पर पुलिस उप महानिरीक्षक ने जांच के आदेश दिए हैं। अपर पुलिस अधीक्षक ने मामले की पड़ताल शुरू कर दी है।
मरका थाना क्षेत्र के मिर्जापुर गांव निवासी उदयभान तिवारी ने डीआईजी को दी अर्जी में बताया कि 23 जुलाई 2012 को उसकी पुत्री अंजना को संजय मिश्रा और उसकी मां व बहन ने दहेज के लिए मौत के घाट उतार दिया। मरका थाने में दहेज हत्या का मुकदमा दर्ज है। आरोपी संजय व उसकी मां सर्वेश कुमारी जेल में हैं। एक अन्य आरोपी शोभा कुमारी उर्फ स्वर्णलता को पुलिस आरोपियों से मिलजुलकर विवेचना में मुकदमे से बाहर करना चाह रही है। उसकी गिरफ्तारी नहीं हो रही। अधिकारियों से की गई कई बार शिकायतें भी बेअसर रहीं।
डीआईजी के आदेश पर अपर पुलिस अधीक्षक स्वामी प्रसाद इस मामले की जांच कर रहे हैं। उदयभान ने बताया कि अपर एसपी के यहां से बयान देने के लिए उसे नोटिस 26 सितंबर को शाम पांच बजे प्राप्त कराई गई जबकि बयान के लिए 21 सितंबर को बुलाया गया था। बृहस्पतिवार (27 सितंबर) अपर पुलिस अधीक्षक कार्यालय में बयान दर्ज कराएं हैं। दोषी व्यक्तियों को पुलिस द्वारा बचाने की कोशिश पर रोक लगाते हुए न्याय की मांग की है। ब्यूरो

Spotlight

Most Read

Jharkhand

चारा घोटाला: चाईबासा कोषागार मामले में कोर्ट ने सुनाया फैसला, तीसरे केस में लालू दोषी करार

रांची स्थित विशेष सीबीआई अदालत ने चारा घोटाले के तीसरे मामले में बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और आरजेडी के अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव को दोषी करार दिया है। साथ ही पूर्व सीएम जगन्नाथ मिश्रा को भी दोषी ठहराया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

यूपी पुलिस की हैवानियत का चेहरा, पिटाई की वजह से पेट में ही बच्चे की मौत

बांदा जिले की एक महिला ने यूपी पुलिस पर गंभीर आरोप लगाये है। महिला का कहना है कि उसके पति को गिरफ्तार करने आई पुलिस ने उसकी पिटाई कर दी। पुलिस की पिटाई से महिला का तीन माह का गर्भ गिर गया।

19 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls