सुरक्षित रास्ते से लाने को दिया था अतिरिक्त डीजल

Banda Updated Wed, 05 Sep 2012 12:00 PM IST
बांदा। सिपाहियों की जमानत अर्जी पर सुनवाई के दौरान कई खुलासे हुए। जिस वाहन से बंदियों को पेशी में कर्वी ले जाया गया था उसे नरैनी से होकर ले जाए जाने को कहा गया था। इसके लिए पांच लीटर डीजल अतिरिक्त दिया गया था। अतर्रा मार्ग का रास्ता खराब होने से यह एहतियाती उपाय किया गया था। अभियोजन पक्ष ने अदालत को बताया कि पुलिस कर्मियों ने असलहों से लैस होने के बाद भी बंदियों के भागने में कोई बल प्रयोग नहीं किया। क्षमता के अनुसार वाहन में सशस्त्र बल व कैदी थे। वाहन जर्जर भी नहीं था। अगर क्षमता के अनुसार सशस्त्र बल उपलब्ध नहीं था तो पुलिस कर्मियों ने उच्चाधिकारियों से आपत्ति क्यों नहीं की? अभियुक्त पुलिस कर्मियों की ओर से पैरवी करने वाले अधिवक्ता का कहना था कि गार्ड्स एंड स्कार्ट्र रूल्स मानक के मुताबिक पर्याप्त फोर्स उपलब्ध नहीं कराया गया था। बचाव पक्ष ने कहा कि आरोपियों पर धारा 222 का अपराध नहीं बनता और धारा 223 जमानतिया है। ब्यूरो

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

यूपी पुलिस की हैवानियत का चेहरा, पिटाई की वजह से पेट में ही बच्चे की मौत

बांदा जिले की एक महिला ने यूपी पुलिस पर गंभीर आरोप लगाये है। महिला का कहना है कि उसके पति को गिरफ्तार करने आई पुलिस ने उसकी पिटाई कर दी। पुलिस की पिटाई से महिला का तीन माह का गर्भ गिर गया।

19 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls