बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
TRY NOW

‘अलविदा-अलविदा या शहरुल रमजान’

Banda Updated Sat, 18 Aug 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें
बांदा। ‘अलविदा-अलविदा या शहरुल रमजान।’ अलविदा की नमाज के मौके पर खुतबे में यह इबारत सुनकर हजारों आंखों में आंसू छलक आए। जुमातुल विदा की नमाज में मसजिदों में तिल रखने की जगह नहीं रही। मुख्य नमाज नवाबी जामा मसजिद में अदा की गई। अधिकांश मसजिदों में सड़क तक नामाजियों की सफें (पंक्तियां) लगीं।
विज्ञापन

शुक्रवार को रमजान माह के आखिरी जुमा अलविदा के मौके पर सुबह से ही मुसलिम इलाकों में तैयारियों की चहल-पहल थी। दोपहर होते ही बड़े-बूढ़े और उनके साथ बच्चे मसजिदों की ओर चल पड़े। जो देर से पहुंचे उन्हें मसजिद के बाहर सड़क पर नमाज अदा करनी पड़ी। नवाबी जामा मसजिद में लगभग 25 हजार लोगों ने नमाज अदा की। विशाल मसजिद खचाखच भर जाने के बाद सड़क पर पंडाल लगाए गए थे। मुतवल्ली शेख सादी जमां ने सड़क पर शामियाने की व्यवस्था की थी। यहां मौलाना अमीनुद्दीन ने नमाज अदा कराई।

दुआ और खुतबे में मौलाना नफीस अकबर (हथौरा) ने मुल्क की सलामती पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि बदकिस्मत हैं वो जिसने रमजान माह की कद्र न की। खुशनसीब हैं वो रोजदार जिन्होंने इस मुबारक महीने का एहतराम किया। मौलाना ने कहा कि रमजान माह की हर जुमा की फजीलत एक जैसी है। मसजिद के बाहर प्रभारी डीएम केएन सिंह, सिटी मजिस्ट्रेट जयशंकर दुबे, एसडीएम गिरीशचंद्र शर्मा, एएसपी स्वामी प्रसाद, क्षेत्राधिकारी आशुतोष शुक्ल, कोतवाली प्रभारी उमाशंकर यादव सहित भारी तादाद में पुलिस और पीएसी तैनात रही। जल संस्थान ने पानी के टैंकरों की व्यवस्था की थी। मसजिद के बाहर मेला जैसा नजारा रहा। इत्र, टोपी और दातून वगैरह की दुकानें सजी रहीं।
कालवनगंज स्थित शेख सरवर साहब मसजिद में भारी तादाद में लोगों ने नमाज अदा की। यहां भी नमाजियों की सफें सड़क तक रहीं। मौलाना मेराज मसूदी (अकील मियां) ने नमाज अदा कराई। इनके अलावा मरकज वाली मसजिद, हाथी खाना, कचहरी, ऊंट मोहाल, बोड़े की मसजिद, लाठी मोहाल, छावनी, हैजा खाना, छावनी, अलीगंज आदि मसजिदों में भी अलविदा की नमाज अदा की गई। बबेरू, नरैनी, बदौसा, तिंदवारी, कमासिन, मटौंध, जसपुरा, गिरवां आदि ग्रामीण क्षेत्रों में अलविदा की नमाज अदा की गई।
अतर्रा। बदौसा रोड स्थित मसजिद में हजारों लोगों ने नमाज अदा की। आसपास के गांवों से बड़ी तादाद में मुसलिम नमाज के लिए आए। हाजी मोहम्मद हनीफ (अध्यक्ष जामा मसजिद) ने विशेष व्यवस्थाएं कराईं। देश में अमन के लिए दुआएं की गईं। हाजी वली अहमद, हाजी रफीक अहमद, शकील अली उर्फ बच्चा, इदरीस आदि उपस्थित रहे। एसडीएम अशोक कुमार पुष्कर, क्षेत्राधिकारी केसी सिंह, एसओ उमापति मिश्र, ईओ टीएन शुक्ल उपस्थित रहे।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X