बालू से बैर ने बंधवाया बिस्तर!

Banda Updated Wed, 01 Aug 2012 12:00 PM IST
बांदा। डीएम शीतल वर्मा का कार्यकाल भले ही सबके लिए ठीक-ठाक रहा हो लेकिन वह बालू वालों के गले नहीं उतरीं। मुमकिन है कि बालू से बैर ही उनके यहां से हटने का सबब बना हो। पिछले वर्ष इसी माह यानि जुलाई में कार्यभार ग्रहण करने वालीं श्रीमती वर्मा ने 392 दिन बांदा में बिताए। वह उन्नाव से ही यहां तबादले पर आई थीं और वापस भी वहीं जा रही हैं। औरैया के डीएम जीएस नवीन कुमार अब बांदा के जिलाधिकारी होंगे। वह दक्षिण भारतीय हैं।
शीतल वर्मा ने बसपा सरकार में चार जुलाई 2011 को बांदा में जिलाधिकारी के रूप में कार्यभार ग्रहण किया था। कुछ अरसे के बाद उनके पति डा.आदर्श सिंह पड़ोसी जनपद चित्रकूट में डीएम के रूप में तैनात हो गए थे। अपने-अपने जनपदों में यह जोड़ी निर्विवाद रूप से काम कर रही थी।
सत्ता बदलने के बाद यह माना जा रहा था कि बसपा सरकार में तैनात की गईं श्रीमती वर्मा को यहां से हटाया जाएगा लेकिन इन कयासों पर पानी फिर गया। सपा सरकार में भी वह पिछले चार महीने से यहीं डटी रहीं। किसी भी राजनीतिक दल ने उनका खुलकर विरोध नहीं किया। हालांकि बताते हैं कि बालू माफियाओं को वह रास नहीं आईं। दरअसल अवैध खनन पर सख्त तेवर अपनाते हुए डीएम ने कई बार खुद खदानों पर छापे मारे। खदानें बंद कराईं और ट्रक सीज कराए। ब
ालू माफियाओं ने डीएम को अपने माफिक बनाने के लिए काफी डोरे डाले लेकिन वह नाकाम रहे। डीएम खुद भी बालू माफियाओं की कारगुजारियों से आजिज आ गई थीं। कई बार बातचीत में उनकी यह बात जाहिर भी हुई। बसपा सरकार की तरह सपा सरकार में भी बालू माफियाओं की पकड़ मजबूत है। ऐसे में जिलाधिकारी का तबादला कराना माफियाओं के लिए कोई बड़ी बात नहीं। शायद यही हुआ। पूर्व में रंजन कुमार यहां तीन वर्षाें तक डटे रहे थे। औरैया से बांदा आ रहे डीएम जीएस नवीन कुमार दक्षिण भारतीय हैं। बांदा में डीएम के रूप में दूसरी नियुक्ति है।

Spotlight

Most Read

Lucknow

यूपी दिवस: प्रदेश को 25 हजार करोड़ की योजनाओं की सौगात, योगी बोले- आज का दिन गौरवशाली

यूपी दिवस के मौके पर प्रदेश को सरकार ने 25 हजार करोड़ करोड़ की योजनाओं की सौगात दी। मुख्यमंत्री योगी ने आज के दिन को गौरवशाली बताया।

24 जनवरी 2018

Related Videos

यूपी पुलिस की हैवानियत का चेहरा, पिटाई की वजह से पेट में ही बच्चे की मौत

बांदा जिले की एक महिला ने यूपी पुलिस पर गंभीर आरोप लगाये है। महिला का कहना है कि उसके पति को गिरफ्तार करने आई पुलिस ने उसकी पिटाई कर दी। पुलिस की पिटाई से महिला का तीन माह का गर्भ गिर गया।

19 जनवरी 2018