विज्ञापन
विज्ञापन

खेतों में पानी पहुंचा नहीं, 30 साल से दे रहे शुल्क

Banda Updated Tue, 31 Jul 2012 12:00 PM IST
ख़बर सुनें
बांदा। चार गांवों के किसान 30 वर्षों से खेतों की सिंचाई किए बिना ही शुल्क भरने को मजबूर हैं। किसानों ने कई बार तहसील प्रशासन से लेकर विभागीय अधिकारियों तक गुहार लगाई लेकिन अन्नदाता की ये पीड़ा किसी ने नहीं सुनी। गांव से होकर नहर गुजरी है, फिर भी उन्हें सिंचाई का लाभ नहीं मिल रहा।
विज्ञापन
विज्ञापन
अतर्रा तहसील में स्थित पिंडखर गांव से रजबहा निकला है। इसी से एक माइनर निकाली गई है जो सिकलोढ़ी, इटरा, मरौली, पवई तक गई है। किसानों का दर्द यह है कि माइनर में हेड न होने तथा कटान के चलते सिंचाई के वक्त पानी खेतों तक नहीं पहुंच पाता। करीब 30 साल से किसान नहर विभाग के उच्चाधिकारियों तथा तहसील व जिला प्रशासन के चक्कर लगा रहे हैं। बावजूद इसके उनकी पीड़ा सुनने वाला कोई नहीं है। पिंडखर के किसान वैद्य शिवदर्शन सिंह ने बताया कि सींचपाल बिना मौका देखे हर साल सिंचाई दर्ज कर लेते हैं। उन्हें यह शुल्क मजबूरी में जमा करना पड़ता है। किसान रामकुमार कहते हैं कि अन्नदाता अधिकारियों के चौखट पर दर-दर भटकता है। हर बार आश्वासन दे दिया जाता है, लेकिन मौके पर जाकर उनकी समस्या दूर करने की कोई नहीं सोचा। हरेक किसान को लगभग ढाई से तीन सौ रुपए सालाना सिंचाई शुल्क के रूप में अदा करना पड़ रहा है। जो किसान इसे अदा नहीं कर पा रहे उनकी यह राशि बढ़कर हजारों में पहुंच गई है। पिंडखर के ही किसान गऊदीन बताते हैं कि गांव के निकट माइनर में हेड के आसपास कटान है। ऐसे में पानी न तो नहर में चढ़ पाता और न ही खेतों तक पहुंच पाता। कुसमा के किसान रामनेवाज बताते हैं कि दो वर्ष पूर्व नहर विभाग के अधिशाषी अभियंता ने उनकी मन्नत पर झाल के आसपास पटरी पक्की कराने की बात कही थी। बाद में यह आश्वासन कोरा ही निकला। यहीं के किसान शिवदर्शन व रामकुमार प्रशासन व नहर विभाग की मनमानी से आहत हैं। कहते हैं कि यदि पटरी पक्की हो जाए तो उन्हें सिंचाई की सुविधा मिलने लगेगी। बिना सिंचाई यहां के किसानों की करीब दो एकड़ भूमि परती रह जाती है। आसपास नलकूप भी नहीं है।
दूर होगी समस्या : एसडीएम
बांदा। उप जिलाधिकारी अतर्रा अशोक कुमार पुष्कर ने बताया कि मामला उनके संज्ञान में नहीं है। यदि ऐसी शिकायत मिली तो वह मौके की जांच कराकर किसानों की यह समस्या दूर करने का प्रयास करेंगे।

Recommended

Uttarakhand Board 2019 के परीक्षा परिणाम जल्द होंगे घोषित, देखने के लिए क्लिक करें
Uttarakhand Board

Uttarakhand Board 2019 के परीक्षा परिणाम जल्द होंगे घोषित, देखने के लिए क्लिक करें

विवाह में आ रहीं अड़चनों और बाधाओं को दूर करने का पाएं समाधान विश्वप्रसिद्व ज्योतिषाचार्यो से
ज्योतिष समाधान

विवाह में आ रहीं अड़चनों और बाधाओं को दूर करने का पाएं समाधान विश्वप्रसिद्व ज्योतिषाचार्यो से

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

लोकसभा चुनाव 2019 (lok sabha chunav 2019) के नतीजों में किसने मारी बाजी? फिर एक बार मोदी सरकार या कांग्रेस की चुनावी नैया हुई पार? सपा-बसपा ने किया यूपी में सूपड़ा साफ या भाजपा का दम रहा बरकरार? सिर्फ नतीजे नहीं, नतीजों के पीछे की पूरी तस्वीर, वजह और विश्लेषण। 23 मई को सबसे सटीक नतीजों  (lok sabha chunav result 2019) के लिए आपको आना है सिर्फ एक जगह- amarujala.com  Hindi news वेबसाइट पर.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Banda

महिलाओं से अभद्रता की, बाइकें नहर में फेंकी

महिलाओं से अभद्रता की, बाइकें नहर में फेंकी

21 मई 2019

विज्ञापन

जम्मू-कश्मीर के कुलगाम में आतंकियो- सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़ समेत 5 बड़ी खबरें

अमर उजाला डॉट कॉम पर देश-दुनिया की राजनीति, खेल, क्राइम, सिनेमा, फैशन और धर्म से जुड़ी खबरें।

22 मई 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election