पहली बारिश भी नहीं झेल पाया चेकडैम

Banda Updated Mon, 09 Jul 2012 12:00 PM IST
सरैंया (चित्रकूट)। आखिरकार ग्रामीणों की आशंका सच साबित हुई। मूसलाधार बारिश से सेमरदहा गांव का मजरा पिपरहुनी पुरवा को तीन तरफ से जलभराव ने घेर लिया। बाद में चेकडैम भी ध्वस्त हो गया। उधर, विभागीय जिम्मेदारों का कहना था कि लोगों को आवागमन की सुविधा देने के लिए विभाग ने चेकडैम के बगल से मिट्टी काटी है। ग्रामीणों का आरोप है कि चेकडैम तेज जलधारा का दबाव नहीं झेल सका और टूट गया।
गौरतलब है कि दो जुलाई के अंक में अमर उजाला ने ...तो बारिश में टापू बन जाएगा पिपरौंहा (पिपरहुनी पुरवा) शीर्षक से खबर प्रकाशित की थी। ग्रामीणों ने बड़ार नाले के चेकडैम को लेकर आशंका जताई थी कि अगर विभागीय अधिकारियों ने आश्वासन के अनुसार रपटा न बनवाया तो बारिश में तीन ओर से घिरे होने की वजह से मजरे के लोगों को आने-जाने के लिए भीषण दिक्कत होगी। तब विभागीय अधिकारियों ने फंड न होने की बात कहकर इसमें असमर्थता व्यक्त की थी। दो दिन से हो रही बारिश ने जोर पकड़ा और रविवार को यहां से निकलने के लिए मजरे के लोगों के पास कोई रास्ता नहीं बचा। नाले में पानी भरा रहने से जब गांव का संपर्क टूटा तो इसकी जानकारी प्रधान पति बब्बू राजपूत ने अधिकारियों को दी। रविवार की सुबह ग्रामीणों ने चेकडैम को टूटा पाया। इस बात को लेकर दो तरह की चर्चाएं और दावे हैं। ग्रामीणों और प्रधान पति बब्बू का कहना है कि शनिवार की रात पाठा क्षेत्र में हुई बारिश को चेकडैम नहीं झेल पाया और चेकडैम के बगल में एक बीघा खेत को बहाते हुए पानी ने रास्ता बना ही लिया। प्रधान पति का कहना है कि इससे एक ग्रामीण सुहावन पुत्र दयाराम का एक बीघा खेत भी बर्बाद हो गया। पिपरहुनी पुरवा मजरा के तीन ओर से बड़ार नाला बहता है। हर साल बरसात के समय पानी इसी नाले से होकर बह जाता था। ग्रामीणों संजय कुमार, मौला खां, करीम खां, शंकर यादव आदि के अनुसार एक से दो दिन तक ही इसमें पानी रहता फिर बह जाता था, जिससे उनका आवागमन चालू रहता था। इस संबंध में कर्वी रेंजर नरेंद्र कुमार ने बताया कि रपटा फिलहाल फंड की वजह से नहीं बन पा रहा। इस बीच हुई तेज बारिश से चेकडैम की वजह से गांव की नहीं सरैंया से मुसलिमपुरवा, चंद्रामारा तक भीषण पानी भर गया था और वहां का रास्ता बंद हो गया था। लोगों ने जिलाधिकारी, सांसद, विधायक से इस बात की शिकायत की थी, जिसकी वजह से उन्हें चेकडैम के बगल से मिट्टी खाली कर पानी को निकालना पड़ा। उन्होंने कहा कि चेकडैम टूटने की बात गलत है। प्रधानपति द्वारा किसान का खेत बहने की बात भी सरासर गलत है, क्योंकि किसान ने वन विभाग की जमीन पर अनधिकृत कब्जा कर रखा था, ऐसे में मुआवजे या नुकसान का सवाल नहीं उठता।

Spotlight

Most Read

Delhi NCR

फुल ड्रेस रिहर्सल आज, यातायात में होगी दिक्कत, कई जगह मिल सकता है जाम

सुबह 10:30 से दोपहर 12 बजे तक ट्रेनों का संचालन नहीं किया जाएगा। कई ट्रेनें मार्ग में रोककर चलाई जाएंगी तो कई आंशिक रूप से निरस्त रहेंगी।

23 जनवरी 2018

Related Videos

यूपी पुलिस की हैवानियत का चेहरा, पिटाई की वजह से पेट में ही बच्चे की मौत

बांदा जिले की एक महिला ने यूपी पुलिस पर गंभीर आरोप लगाये है। महिला का कहना है कि उसके पति को गिरफ्तार करने आई पुलिस ने उसकी पिटाई कर दी। पुलिस की पिटाई से महिला का तीन माह का गर्भ गिर गया।

19 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper