हजारों मीट्रिक टन गेहूं की रखने की जगह नहीं

Banda Updated Wed, 04 Jul 2012 12:00 PM IST
बांदा। एफसीआई सहित अन्य एजेंसियों के गोदाम गेहूं के बोरों से लबरेज हो जाने के बाद 33,900 मीट्रिक टन गेहूं रखने की जगह नहीं बची। यह गेहूं फिलहाल खरीद केंद्रों में ही असुरक्षित ढंग से रखा हुआ है। बारिश से भीगकर खराब होने का अनदेशा है। दूसरी ओर जानवर भी इनमें मुंह मार रहे हैं। बांदा में 17,223 एमटी गेहूं डिलेवरी को शेष है। इनमें सबसे ज्यादा 10,951 एमटी खाद्य विभाग का है। आढ़तियों के यहां 2422, पीसीएफ में 2527, यूपी एग्रो में 494, यूपीएसएस में 205, कर्मचारी कल्याण निगम में 416 और एनसीसीएफ में 209 मीट्रिक टन गेहूं डिलेवरी के लिए बाकी है। हमीरपुर में कुल 6937 एमटी गेहूं गोदामों में नहीं पहुंच पाया। सबसे ज्यादा 3253 एमटी खाद्य विभाग का है। पीसीएफ का 2155 और यूपी एग्रो का 1559 एमटी गेहूं डिलेवरी नहीं हुआ। महोबा जनपद में कुल 4753 एमटी गेहूं डिलेवरी होना है। खाद्य विभाग का 3668, पीसीएफ का 1085 एमटी गेहूं शामिल है। चित्रकूट में 4986 मीट्रिक टन गेहूं डिलेवरी के लिए बाकी है। इसमें 1820 एमटी खाद्य विभाग, 311 एमटी आढ़ती, 2693 एमटी पीसीएफ और 163 एमटी यूपी एग्रो का है। ब्यूरो

Spotlight

Most Read

National

'पद्मावत' के विरोध में मल्टीप्लेक्स के टिकट काउंटर में लगाई आग

रात करीब पौने दस बजे चार-पांच युवक जिन्होंने अपने चेहरे ढक रखे थे, मॉल में आए और टिकट काउंटर के पास पहुंच कर उन्होंने हंगामा शुरू कर दिया।

20 जनवरी 2018

Related Videos

यूपी पुलिस की हैवानियत का चेहरा, पिटाई की वजह से पेट में ही बच्चे की मौत

बांदा जिले की एक महिला ने यूपी पुलिस पर गंभीर आरोप लगाये है। महिला का कहना है कि उसके पति को गिरफ्तार करने आई पुलिस ने उसकी पिटाई कर दी। पुलिस की पिटाई से महिला का तीन माह का गर्भ गिर गया।

19 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper