लालच में फंसकर हो गया कर्जदार

Banda Updated Mon, 02 Jul 2012 12:00 PM IST
बांदा। गरीबी और कर्ज के दंश से जूझ रहे नरैनी क्षेत्र के बिल्हरका गांव में यूं तो तीन सैकड़ा परिवार दो करोड़ 40 लाख रुपए के कर्जदार हैं लेकिन गुल्ला की कहानी कुछ हटकर है। उसके सिर पर अकेले करीब छह लाख रुपए का बैंक कर्ज है। दो साल तक मजदूरी करने के बाद जमींदारों का 50 हजार कर्ज चुकाया तो लालच में फंसकर बैंक कर्ज की मुसीबत मोल ले ली। बुढ़ापे से खुद कर्ज चुकाने में लाचार हो गया और बेटा यह कहकर मजदूरी के लिए पलायन कर गया कि कहां से और कहां तक कर्ज भोगेगा।
अनुसूचित जाति का 70 वर्षीय गुल्ला अब खाट पर लग गया है। उसे पट्टे पर 6 बीघा जमीन मिली थी लेकिन असिंचित और ऊबड़-खाबड़ होने से पैदावार नहीं हुई। घर की जरूरतों ने उसे पचास हजार का कर्जदार बना दिया। उसे तो उसने दो साल तक मेहनत मजदूरी करके चुका दिया लेकिन इसी बीच वह गांव के एक चालाक आदमी के चक्कर में फंस गया। उसने गुल्ला को सब्जबाग दिखाकर स्टेट बैंक से वर्ष 2007 में कर्ज पर साढ़े तीन लाख का ट्रैक्टर निकला लिया। गुल्ला की जमीन बैंक में बंधक बन गई लेकिन ट्रैक्टर उसके हाथ नहीं लगा। ठग उसका इस्तेमाल करता रहा। दो साल पहले बैंक ने ट्रैक्टर उठवाकर नीलाम करा दिया। इसी बीच उसका कर्ज बढ़कर छह लाख हो गया। गुल्ला अब जिस्म से जर्जर हो गया है। बुढ़ापे का कोई सहारा नहीं बचा। बैंक के कर्ज की तलवार उस पर लटक रही है। गुल्ला का बेटा कल्ला पिछले वर्ष अपने चार बच्चों के साथ पलायन कर गया और गुड़गांव में जा बसा।
विद्याधाम समिति के राजाभइया बताते हैं कि मध्य प्रदेश की सरहद से जुडे़ बिल्हरका गांव में गुल्ला जैसे कई परिवार हैं। लगभग तीन सैकड़ा परिवार दो करोड़ 40 लाख रुपए से ज्यादा का बैंक कर्ज लिए हुए हैं। इन्हीं में एक चुनुबाद है। जिसकी छह बीघा जमीन गिरवी रखी है। उस पर भी चार लाख का कर्ज है। वह पिछले वर्ष मजदूरी के लिए गुड़गांव चला गया। इधर, बारिश में उसका घरौंदा धराशाई हो गया। अब चुनुबाद बारिश से पहले मिट्टी का आशियाना बनाने में जुटा हुआ है।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

यूपी पुलिस की हैवानियत का चेहरा, पिटाई की वजह से पेट में ही बच्चे की मौत

बांदा जिले की एक महिला ने यूपी पुलिस पर गंभीर आरोप लगाये है। महिला का कहना है कि उसके पति को गिरफ्तार करने आई पुलिस ने उसकी पिटाई कर दी। पुलिस की पिटाई से महिला का तीन माह का गर्भ गिर गया।

19 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls