यमुना से जलापूर्ति को जल निगम ने डीपीआर बनाया

Banda Updated Sun, 03 Jun 2012 12:00 PM IST
बांदा। यमुना नदी से पाइप के जरिए पानी लाकर बांदा शहर को आपूर्ति किए जाने की योजना में एक बार फिर तेजी आई है। गर्मियाें में पानी के लिए शहर मेें मची हाय-तोबा को देखने के बाद डीएम शीतल वर्मा ने जल निगम प्रबंध निदेशक को पत्र भेजकर यूआईडीएसएसएमटी कार्यक्रम के तहत शहर की योजना के लिए डीपीआर तैयार करके शासन को शीघ्र भेजने को कहा है।
बांदा शहर में केन नदी के अलावा ट्यूबवेल और कुओं से आपूर्ति की जा रही है। लेकिन जलस्तर में लगातार गिरावट आने से ट्यूबवेल और कुएं लगातार जवाब देते जा रहे हैं। केन नदी में भी पानी का साल-दर-साल टोटा हो रहा है। इसी के मद्देनजर पिछले सालों चिल्ला घाट (यमुना नदी) से बांदा शहर तक पाइप लाइन डालकर यमुना नदी का पानी बांदा में आपूर्ति किए जाने की योजना तैयार की गई थी। पूर्व बसपा सरकार के सिंचाई मंत्री नसीमुद्दीन सिद्दीकी ने भी इसमें दिलचस्पी ली थी। केंद्र सरकार ने अनापत्ति भी दे दिया है। 308 करोड़ रुपए लागत की इस योजना से बांदा शहर को 56 एमएलडी पानी मिलेगा। साथ ही एक स्वतंत्र फीडर के जरिए अबाध्य बिजली मिलेगी।
इस बारे में हाल ही में उत्तर प्रदेश जल निगम प्रबंध निदेशक को पत्र भेजकर बांदा शहर में मंडरा रहे जलापूर्ति संकट के खतरे से आगाह कराते हुए यूआईडीएसएसएमटी योजना के तहत बांदा नगर की जलापूर्ति के लिए डीपीआर बनवाकर शासन को भेजने को कहा था। इस बारे में प्रदेश सरकार के नगर विकास सचिव भी काफी पहले पत्र भेज चुके हैं। पता चला है कि जल निगम ने यह डीपीआर बनाकर शासन को भेज दिया है। शासन की स्वीकृति का इंतजार है।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाले के तीसरे केस में लालू यादव दोषी करार, दोपहर 2 बजे बाद होगा सजा का ऐलान

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

यूपी पुलिस की हैवानियत का चेहरा, पिटाई की वजह से पेट में ही बच्चे की मौत

बांदा जिले की एक महिला ने यूपी पुलिस पर गंभीर आरोप लगाये है। महिला का कहना है कि उसके पति को गिरफ्तार करने आई पुलिस ने उसकी पिटाई कर दी। पुलिस की पिटाई से महिला का तीन माह का गर्भ गिर गया।

19 जनवरी 2018