सरकार की नीतियों को दोषपूर्ण बताया

Banda Updated Mon, 14 May 2012 12:00 PM IST
बांदा। बीएड/बीपीएड बेरोजगार संघ ने स्नातक प्रशिक्षित बेरोजगारों के बारे में प्रदेश सरकार की नीतियों को दोषपूर्ण और अलोकतांत्रिक बताते हुए लखनऊ कूच करने की घोषणा की है। रविवार को अवस्थी धर्मशाला में संघ की बैठक संबोधित करते हुए प्रांतीय अध्यक्ष संतोष द्विवेदी ने आरोप लगाया कि विशिष्ट बीटीसी भर्ती प्रक्रिया में प्रदेश सरकार बेरोजगारों को गुमराह और परेशान कर रही है।
बैठक में यह मांग की गई की मुख्यमंत्री मौजूदा चयन प्रक्रिया को रद्द करके पारदर्शी और ठोस नीति बनाएं। बीटीसी की तर्ज पर वरिष्ठताक्रम चयन प्रक्रिया अपनाई जाए। जिलाध्यक्ष विजय साहू ने कहा कि अन्य राज्यों में बीएड डिग्रीधारकों की सीधी भर्ती की गई है। उत्तराखंड, बिहार आदि इसकी बानगी हैं। सर्वोच्च न्यायालय के आदेश के अनुसार 1997 के पूर्व स्नातक प्रशिक्षितों को एनसीटीई मान्यता की अनिवार्यता खत्म की जाए। अरविंद त्रिपाठी ने कहा कि प्रदेश में रिक्त तीन लाख से अधिक प्राथमिक शिक्षकों की भर्ती के लिए शीघ्र विज्ञापन जारी किया जाए। सपा ने घोषणा पत्र में कहा है कि पहले रोजगार, फिर भत्ता दिया जाएगा। बैठक में आनंद द्विवेदी ने अधिकतम आयु सीमा 50 वर्ष किए जाने की मांग की। बैठक में शोभा प्रसाद, इंद्रगोपाल साहू, गोविंद तिवारी, सुरेश यादव, अशोक साहू, विजय साहू आदि शामिल रहे।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाले के तीसरे केस में लालू यादव दोषी करार, दोपहर 2 बजे बाद होगा सजा का ऐलान

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

यूपी पुलिस की हैवानियत का चेहरा, पिटाई की वजह से पेट में ही बच्चे की मौत

बांदा जिले की एक महिला ने यूपी पुलिस पर गंभीर आरोप लगाये है। महिला का कहना है कि उसके पति को गिरफ्तार करने आई पुलिस ने उसकी पिटाई कर दी। पुलिस की पिटाई से महिला का तीन माह का गर्भ गिर गया।

19 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls