थम नहीं रहा डायरिया, छह बच्चे भर्ती

Banda Updated Mon, 07 May 2012 12:00 PM IST
बांदा। गर्मी के साथ संक्रामक बीमारियों का प्रकोप बढ़ने लगा है। डायरिया और वायरल फीवर से बीमार होने वालों का ग्राफ बढ़ता जा रहा है। डायरिया की चपेट में आने वाले छह बच्चों को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। वरिष्ठ बाल विशेषज्ञ ने लक्षण और उपचार के तरीके बताते हुए संक्रामक बीमारियों के प्रति सचेत किया है।
मौसम के बदलते मिजाज से डायरिया और वायरल फीवर की चपेट में आने वालों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। जिला अस्पताल और प्राइवेट अस्पतालों में मरीजों की भरमार है। डायरियाग्रस्त होने वाले ज्यादातर बच्चे हैं। आकाश (2) पुत्र श्रीकांत निवासी डिंगवाही, अंश (6) पुत्र रामकिशोर निवासी कालू कुआं, विधि (8 माह) पुत्री पंकज साहू निवासी डीएम कालोनी, स्नेहा (7 माह) पुत्री रामनरेश निवासी बलखंडी नाका, रुद्र मिश्रा (2) पुत्र आशुतोष निवासी अलीगंज और विनोद (9) पुत्र मोहन निवासी बबेरू डायरिया की चपेट में आ गए। सभी को रविवार को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया।
उधर, जिला अस्पताल के वरिष्ठ बाल विशेषज्ञ डा.आरके गुप्ता ने डायरिया के लक्षण बताते हुए कहा कि बीमारी की शुरुआत उल्टी और दस्त से होती है। धीरे-धीरे आंखे धंसने लगती हैं और चिड़चिड़ापन बढ़ जाता है। पेट की त्वचा में झुर्रियां पड़ने लगती हैं। बचाव के तरीके बताते हुए कहा कि बासी भोजन कतई न करें। पानी उबालने और छानने के बाद पीएं। कटे व खुले फल और आइसक्रीम खाने से परहेज करें। एक लीटर पानी में ओआरएस का घोल तैयार कर मरीज को लगातार पिलाते रहें।

Spotlight

Most Read

Lucknow

यूपी दिवस: प्रदेश को 25 हजार करोड़ की योजनाओं की सौगात, योगी बोले- आज का दिन गौरवशाली

यूपी दिवस के मौके पर प्रदेश को सरकार ने 25 हजार करोड़ करोड़ की योजनाओं की सौगात दी। मुख्यमंत्री योगी ने आज के दिन को गौरवशाली बताया।

24 जनवरी 2018

Related Videos

यूपी पुलिस की हैवानियत का चेहरा, पिटाई की वजह से पेट में ही बच्चे की मौत

बांदा जिले की एक महिला ने यूपी पुलिस पर गंभीर आरोप लगाये है। महिला का कहना है कि उसके पति को गिरफ्तार करने आई पुलिस ने उसकी पिटाई कर दी। पुलिस की पिटाई से महिला का तीन माह का गर्भ गिर गया।

19 जनवरी 2018