विज्ञापन
विज्ञापन

ढाल-ताजिये किए ‘ठंडे’, मोहर्रम विदा

Banda Updated Wed, 05 Nov 2014 05:30 AM IST
ख़बर सुनें
बांदा। ढाई हजार से ज्यादा सजी धजी और फूल मालाआें से लदी ढालों को सुपुर्दे खाक (दफन) कर दिया गया। आधा सैकड़ा से ज्यादा ताजियों को केन नही में सुपुर्दे आब (विसर्जित) किया गया। मंगलवार को सूरज डूबने के साथ ही 10 दिवसीय मोहर्रम के आयोजन खत्म हो गए। ढोल-ताशों की रोजाना गूंजती रहीं सदाएं भी थम गईं। दसवीं पर शहर और केन नदी किनारे तक मेले का हुजूम रहा। हिंदू-मुसलिम बराबरी से शामिल होकर सांप्रदायिक सौहार्द की मिसाल बने रहे।
विज्ञापन
सोमवार की पूरी रात नौवीं पर शहर में रतजगा रहा। शहर में 56 इमामबाड़ों के पास आग से दहकते अंगारे हाथों से लुटाकर अलाव खेला गया। यह तड़के तक चला। इसी के बाद ढाल सवारियाें के जत्थे ढोल-ताशा और गिटार व बैंड की मातमी धुनों के बीच निकल पड़े। रात भर शहर मेें इनकी धूम रही। उधर, दसवीं पर मंगलवार को दोपहर बाद फिर इमामबाड़ों में ढोल-ताशोें की धुनें गूंज उठीं। इमामबाड़ों में रखी ढाल, नेजा, अलम और ताजिये अलग-अलग जत्थों में कर्बला (केन नदी किनारे) की ओर चल पड़े। इमामबाड़े सूने हो गए। मयूर टाकीज रोड, जीजीआईसी, पदमाकर चौराहा, बलखंडी नाका चौराहा, कटरा रोड, क्योटरा चौराहा से लेकर केन नदी तक शाम को तिल रखने की जगह नहीं रही। ढाई हजार से ज्यादा ढाल-सवारियां लगभग आधा सैकड़ा छोटे-बड़े ताजिये और सैकड़ों नेजे व अलम सूरज ढलने के वक्त प्रतीकात्मक कर्बला पहुंचे। हरेक के साथ हुजूम था। यहां ढालों को खोलकर उनकी कुछ सामग्री जमीन में दफन कर दी गई। ताजियों को केन नदी में पानी के हवाले (ठंडा) कर दिया गया। यहां देर रात तक मेला रहा। इसके पूर्व दोपहर को पूर्वी कोठी शिया इमामबाड़ों से अलम और ताजिये केन किनारे स्थित कर्बला के लिए रवाना हुए। ताजियों को यहां दफनाया गया। आखिरी दिन भी जगह-जगह लंगर हुए। पुलिस और पीएसी का पहरा रहा। प्रशासन और पुलिस के अफसर भी पूरे समय मौजूद रहे। मोहर्रम कमेटी पदाधिकारी मोहम्मद शोएब, अब्दुल वहीद, अजीज उर्फ अज्जन उपस्थित रहे।
बबेरू। बड़े इमामबाड़े और आम चौहारे पर ताजियों के मिलाप के बाद ढाल सवारियां और ताजिया जुलूस निकाले गए। मुख्य मार्गों से गुजरने के बाद उन्हें कमासिन रोड पर स्थित कर्बला में ठंडा कर दिया गया। हरदौली, पतवन, सिमौनी, आलमपुर, बगेहटा, अनौसा, औगासी, तिलौसा, बछौंधा, कोर्रही आदि गांवों में भी 10वीं मोहर्रम पर ताजिए जुलूस निकले और विसर्जित किए गए। प्रशासनिक और पुलिस अधिकारी पूरे समय मौजूद रहे।
नरैनी। नौवीं की रात कई स्थानों पर दहकते अंगारों का अलाव खेला गया। तड़के ताजियों का मिलाप हुआ। दसवीं पर मंगलवार को पुराने इमामबाड़े में सुबह 11 बजे ताजियों का मिलाप हुआ। ढाल सवारियां निकाली गईं।
करतल और अतर्रा मार्ग पर मेला जैसा नजारा रहा। एमए हादी नियाजी, ब्लाक कर्मचारी जहान अली, भाजपा नेता अशोक कुशवाहा, मोहम्मद जमीर, नईम टेलर, इसरार अहमद आदि ने लंगर लुटाए। एसडीएम, कोतवाल और पुलिस मौजूद रहे। यहां बुधवार को ताजिए सुपुर्दे आब किए जाएंगे। हड़हा, कबौली, पनगरा, सरायं जदीद, नसेनी, लहुरेहटा, करतल और कालिजंर क्षेत्रों में भी मोहर्रम शांति पूर्वक और सद्भावपूर्ण मनाए गए। गिरवां, पिथौराबाद, हुसैनपुर, जमापुर, स्योढ़ा आदि गांवों में ताजिया जुलूस निकले। सभी ताजिये स्योढ़ा गांव में रात को इकट्ठा हुए।
अतर्रा। रजा मोहाल जामा मसजिद, इमामबाड़ा लालथोक, जरुहा चौकी तथा संतनगर से अलग-अलग ताजिए निकले। ताजिया जुलूस देखने को हजारों की संख्या में हिंदू-मुस्लिम परिवार मौजूद रहे। मौके पर हाजी मोहम्मद हनीफ सहित बड़ी संख्या में हिंद-मुसलिम मौजूद रहे।
ओरन। दसवीं पर दो ताजिये के जुलूस निकाले गए। बाद में उन्हें हरदौल घाट तालाब में ठंडा (विसर्जित) कर दिया गया। कमेटी मुतवल्ली डॉ.मकबूल अहमद, अध्यक्ष लाल मोहम्मद सहित अफसर अली खां, शकील अहमद, दिलदार खां, सईद अहमद, गिल्टू खां, सादिक हुसैन आदि शामिल रहे। शाम को नूरी मसजिद से ढाल सवारी जुलूस निकला जो सिंहपुर रोड पर खत्म हुआ। इसके पूर्व 9वीं की रात अलाव खेले गए। चौकी प्रभारी राकेश पाल फोर्स के साथ मौजूद रहे।
कोर्रही। दसवीं मोहर्रम को यहां तीन ताजियों के जुलूस निकाले गए। उन्हें तालाब में सुपुर्दे आब कर दिया गया। प्रधान अय्यूब खां समेत हाफिज अब्दुल गनी, इद्दू खां, शरीक रहे। बिसंडा थानाध्यक्ष अमर सिंह फोर्स के साथ मौजूद रहे।
तिंदवारी। सिंकदरपुरवा से साबिर, नई तिंदवारी से अब्दुल वसी गार्ड और जोगी मोहल्ला से ननकू कुंजड़ा के ताजिया निकाले गए। तीनों ताजिये ब्लाक के पास छोटी मजार होते हुए शहीद बाबा पहुंचे। यहां उन्हें ठंडा किया गया। नगर पंचायत अध्यक्ष बृजेश कुमार पटेल, पूर्व ब्लाब प्रमुख शंकर सिंह परिहार, बदलू गुप्ता, मनोज गुप्ता, राजेंद्र तिवारी, आनंद स्वारूप, असगर अली, साबिर, बउरा आदि शामिल रहे।
विज्ञापन

Recommended

महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई में कराएं दिवाली लक्ष्मी पूजा : 27-अक्टूबर-2019
Astrology Services

महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई में कराएं दिवाली लक्ष्मी पूजा : 27-अक्टूबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Banda

बालक की हत्या में दो पड़ोसियों को उम्रकैद

बालक की हत्या में दो पड़ोसियों को उम्रकैद

14 अक्टूबर 2019

विज्ञापन

आरबीआई की पीएमसी ग्राहकों को और राहत, खाते से रुपये निकालने की सीमा 25 से बढ़ाकर 40 हजार की

त्योहारी सीजन को देखते हुए आरबीआई ने पीएमसी बैंक पर लगी पाबंदियों के बीच ग्राहकों को बड़ी राहत दी है। पीएमसी ग्राहक अब खाते से 25 हजार के बजाय 40 हजार रुपये तक निकाल सकेंगे।

14 अक्टूबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree