लकी नंबरों से मालामाल होगा विभाग

Banda Updated Thu, 08 May 2014 05:30 AM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर Free में
कहीं भी, कभी भी।

70 वर्षों से करोड़ों पाठकों की पसंद

ख़बर सुनें
परिवहन विभाग इन नंबरों से कमाएगा 22 लाख रुपये
विज्ञापन

तीन से पंद्रह हजार रुपये तक में मिलेंगे पसंदीदा नंबर
शौकीनों के लिए 346 विशेष नंबरों की सूची जारी हुई
शमीम अहमद
बांदा। कुछ खास और लुभावने अंकों वाले नंबरों को बेचकर परिवहन विभाग शौकीन वाहन स्वामियों से अबकी फिर 22 लाख रुपए से ज्यादा आमदनी हासिल करेगा। ऐसे 346 नंबरों की सूची परिवहन विभाग ने जारी कर दी है। छह माह पूर्व ही ऐसे आकर्षक नंबरों से परिवहन विभाग ने लाखों रुपए कमाए थे।
कुछ खास अंक वाहन स्वामियों की खास पसंद होते हैं। उनके इस शौक का फायदा उठाकर परिवहन विभाग ऐसे नंबरों को ऊंचे भावों पर बेचता है। कई-कई लाख रुपये कीमत के वाहन खरीददार अपने इस कीमती वाहन का नंबर हासिल करने में भी 3 से 15 हजार रुपये तक खर्च कर देते हैं। परिवहन विभाग ने 346 विशेष नंबरों की सूची जारी की है। इनमें लकी नंबर कहे जाने वाले 40 नंबरों की कीमत 15-15 हजार रुपये है। यानि परिवहन विभाग इन नंबरों से 6 लाख रुपये कमाएगा। 7500 कीमत के 92 नंबरों से 6 लाख 90 हजार, 6000 कीमत के 105 नंबरों से 6 लाख 30 हजार, 3000 रुपए कीमत के 109 नंबरों से 3 लाख 27 हजार की आमदनी होगी। यानि कुल 346 नंबरों को परिवहन विभाग 22 लाख 47 हजार रुपये में बेचेगा।
3000 रुपये की कीमत वाले नंबरों में दो अंकों की जोड़ी जैसे 9393, 9898 है। 6000 कीमत के नंबरों में दो-दो अंकों की जोड़ियां जैसे 3322, 4411 और 4466 इत्यादि हैं। 7,500 रुपये कीमत के नंबरों में दो अंकों के बाद दो जीरो जैसे 1200, 1300, 7100 और 7200 हैं। सबसे महंगे 15 हजार रुपये कीमत के नंबरों में एक ही अंक चार मर्तबा होगा। जैसे 1111, 5555, 6666 इत्यादि। या फिर 0001, 0002 इत्यादि।
नेताओं और व्यापारियों की खास पसंद लकी नंबर
बांदा। करीब 6 माह पूर्व परिवहन विभाग ने इसी तरह विशेष लकी नंबरों के जरिए लक्जरी वाहनों के शौकीन मालिकों से लाखों रुपये कमाए थे। परिवहन विभाग को मुंहमांगी कीमत देकर अपने वाहनों के लिए लकी नंबर हासिल करने वालों में जिला पंचायत अध्यक्ष महेंद्र सिंह वर्मा, पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष कुशजध्वज सिंह और उनके भाई सीरजध्वज सिंह आदि शामिल हैं। इन्होंने क्रमश: 0111, 2002, 0001 नंबर हासिल किए थे। प्रतिष्ठित व्यवसायी रामकिशन बासू ने भी अपने लक्जरी वाहन के लिए 0001 नंबर खरीदा था। इनके अलावा हनुमान प्रसाद द्विवेदी, भूपेंद्र कुमार (मरका) आदि ने भी लकी नंबर प्राप्त किया था।
वाहन खरीदने से पहले भी मिलेगा लकी नंबर
बांदा। पसंदीदा नंबर हासिल करने के लिए वाहन स्वामियों को परिवहन विभाग में एडवांस बुकिंग करनी होगी। वाहन खरीदने से पहले भी यह बुकिंग की जा सकती है। इसके लिए वाहन रजिस्ट्रेशन के समय खरीदे गए नंबर की रसीद लगानी होगी। वाहन बदलने पर भी पसंदीदा नंबर बकरार रखा जा सकता है। अलबत्ता शुरु की सीरीज बदलेगी। लकी नंबर हासिल करने के लिए अक्सर कुछ वाहन स्वामी दलालों का भी सहारा लेते हैं।
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us