बुंदेलखंड की धरती से 2963 तालाब नदारद

Banda Updated Mon, 05 May 2014 05:30 AM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें
बांदा। बुंदेलखंड की धरती से तालाब तेजी से नदारद हो रहे हैं। तालाबों को पाटकर बस्तियां आबाद हो गई हैं। सुप्रीम कोर्ट के आदेशों के बाद पूरे प्रदेश में तालाब, पोखर, झील, कुआं आदि की खोजबीन की गई तो बुंदेलखंड में 2963 तालाब, कुएं गायब पाए गए। 4263 तालाबों पर अवैध कब्जे हैं। हालांकि सरकारी आंकड़ों में 3747 तालाबों से अवैध कब्जे हटा दिए जाने का आंकड़ा परोसा गया है। फिर भी 465 तालाब अभी अवैध कब्जों की गिरफ्त में हैं।
विज्ञापन

शासन की ओर से पिछले दिनों अवैध कब्जों के खिलाफ चलाए गए अभियान में बांदा, चित्रकूट, हमीरपुर, महोबा में 39,144 तालाब, पोखर, कुआं और रिजरवायर दर्ज पाए गए थे। इनका रकबा 72,247 हेक्टेयर था। उत्तर प्रदेश राजस्व विभाग के मुताबिक बुंदेलखंड के पांचों जनपदों में 4263 तालाब, कुओं आदि में अवैध कब्जे पाए गए। शासन का दावा है कि 3798 तालाब व कुओं आदि से अवैध कब्जे हटा दिए गए हैं। इन तालाब और कुओं का रकबा 1150 हेक्टेयर है। समाजसेवी आशीष सागर की ओर से मांगी गई सूचना में राजस्व परिषद ने जानकारी दी है कि सातों जनपदों में 39,144 तालाब, कुएं, पोखर आदि राजस्व अभिलेखों में दर्ज हैं। यह सभी 72,247 हेक्टेयर भूमि में स्थित हैं। अभियान के दौरान 159 तालाब, कुएं आदि गायब पाए गए। इनका रकबा 14,721 हेक्टेयर था। 4263 तालाब, कुओं आदि में अवैध कब्जे मिले। इनमें 3798 तालाब, कुओं से अवैध कब्जे हटा कर करीब 12 हेक्टेयर भूमि खाली कराई गई।
बांदा में 14,598 तालाब, कुएं दर्ज हैं। इनमें 869 नदारद हैं। 332 पर अवैध कब्जे हैं। चित्रकूट में 3692 तालाब, कुएं आदि दर्ज हैं। इनमें 151 का अता-पता नहीं है। 1730 में अवैध कब्जे हैं। हमीरपुर जनपद में 3079 तालाब, कुएं इत्यादि राजस्व अभिलेखों में दर्ज हैं। लेकिन 541 का कुछ अता-पता नहीं है। 655 में अवैध कब्जे पाए गए। महोबा में 8399 दर्ज तालाब, कुओं में 1402 नदारद है। 1495 में अवैध कब्जे हैं। जालौन में तालाब-कुओं आदि की स्थिति कुछ बेहतर है। यहां 9376 तालाब-कुएं आदि दर्ज हैं। राजस्व परिषद के मुताबिक कोई भी तालाब-कुआं गायब नहीं हुआ है। सिर्फ 51 पर अवैध कब्जे हैं।
तालाब-कुएं हड़प किए जाने से 14,721 हेक्टेयर भूमि अवैध कब्जों के हवाले हो गई। अभी भी 71 एकड़ से ज्यादा भूमि में अवैध कब्जे बताए गए हैं। प्रशासन का दावा है कि बांदा में 128, चित्रकूट में 1579, महोबा में 1495, हमीरपुर में 545 और जालौन में 51 तालाब-कुओं आदि से अवैध कब्जे हटाए गए हैं। अभी बांदा में 204, चित्रकूट में 151 और हमीरपुर में 110 कुएं-तालाबों में अवैध कब्जे शेष हैं।
तालाबों के पुनर्निर्माण की योजना हुई फेल
बांदा। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने दो वर्ष पूर्व 223.91 करोड़ के जल पैकेज योजना के साथ बुंदेलखंड के 15 तालाबों का पुनर्निर्माण व जीर्णोद्धार कराने का आदेश दिया था। इसमें बांदा, महोबा और झांसी के 5-5 तालाब शामिल थे। बजट एनएलसीपी कार्यक्रम और आरआरआर योजना से भारत सरकार को देना था।
तालाबों के बारे में प्रदेश के मुख्य सचिव की अध्यक्षता में झांसी में हुई बैठक में शामिल रहे समाजसेवी आशीष सागर ने बताया कि बांदा के छाबी तालाब को 54 लाख, बाबू साहब तालाब को 50 लाख, प्रागी तालाब को 52 लाख, गोसाईं तालाब को 51 लाख और नवाब टैंक को एक करोड़ 33 लाख रुपये स्वीकृत हुए थे। इसी तरह महोबा में कीरत सागर को 24 करोड़, रौपुरा को 58 करोड़, कुरवारा को 30 करोड़ और कुलपहाड़ तालाब को 16 करोड़ रुपये स्वीकृत हुए थे। लेकिन यह काम अभी तक पूरे नहीं हुए। केंद्र सरकार ने राष्ट्रीय झील संरक्षण कार्यक्रम के तहत पैकेज में अपने हिस्से का पैसा आवंटित नहीं किया। शासन ने 19 करोड़ रुपये महोबा और झांसी के लिए दिए थे। बताया कि छाबी तालाब (बांदा) का रकबा कुछ समाजसेवी 8 बीघा बता रहे हैं। यह आपत्तिजनक है। निर्माण के समय 1960 में इस तालाब का रकबा 50 बीघा था। अब 22 एकड़ शेष है। आसपास के लोग इसमें अवैध रुप से काबिज हैं। इस तालाब के घाट उस जमाने के मशहूर चोर आबिद बेग ने बनवाए थे। तालाब में गंदा पानी गिराया जा रहा है।
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us