मंडल स्तरीय रैली में उमड़े किसान

Banda Updated Tue, 28 Jan 2014 05:47 AM IST
बांदा। दैवीय आपदाओं और कर्ज से जूझ रहे किसानों का हुजूम सोमवार को यहां सड़कों पर उमड़ पड़ा। चित्रकूट धाम मंडल के चारों जनपदों से आए किसानों ने अपने हकों की तख्तियां लेकर कलेक्ट्रेट में प्रदर्शन किया। उनकी लंबी लाइन से देर तक आवागमन प्रभावित रहा। सिटी मजिस्ट्रेट को मांग पत्र सौंपा। यह मुख्यमंत्री को संबोधित था। किसानों की आत्महत्या का मुद्दा मुख्य रूप से छाया रहा।
जन केंद्रित विकास महासमिति और लोक हकदारी मोर्चा के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित प्रदर्शन में बड़ी संख्या में किसान शामिल हुए। कचहरी रोड पर नागरीय प्रचारक पुस्तकालय से जुलूस ने कलेक्ट्रेट के लिए कूच किया। दो पंक्तियों में चल रहे किसानों की लंबी लाइन से देर तक आवागमन रुका रहा। अगुवाई कर रहे किसान नेताओं ने कहा कि बुंदेलखंड में कृषि ही किसानों की आजीविका है। लेकिन किसान यहां बेहद दयनीय स्थिति में हैं। सरकार की उपेक्षा और दैवीय आपदाओं के चलते खेती घाटे का सौदा बन गई है। कर्ज लेकर भी हालात नहीं सुधरे। वसूली का शिकंजा कसे जाने पर आत्महत्याएं कर रहे हैं। यह सिलसिला दिनबदिन बढ़ रहा है। किसान नेताओं ने कहा कि अपनी इस बदहाली की तरफ सरकार का ध्यान आकृष्ट कराने के लिए यह एक दिवसीय रैली की गई है। इसमें बांदा, चित्रकूट, हमीरपुर और महोबा के सैकड़ों किसान शामिल हुए। रैली में संजय कुमार, ज्ञानेश्वर, रामकरन आदर्श, रामचरन निषाद (बांदा), एसके चक्रवर्ती (हमीरपुर), राजाराम (बदौसा), श्रवण कुमार व भइयालाल (चित्रकूट), अशोक कुमार (अतर्रा) आदि शामिल रहे।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

यूपी पुलिस की हैवानियत का चेहरा, पिटाई की वजह से पेट में ही बच्चे की मौत

बांदा जिले की एक महिला ने यूपी पुलिस पर गंभीर आरोप लगाये है। महिला का कहना है कि उसके पति को गिरफ्तार करने आई पुलिस ने उसकी पिटाई कर दी। पुलिस की पिटाई से महिला का तीन माह का गर्भ गिर गया।

19 जनवरी 2018