बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
TRY NOW

मांगों को लेकर जेई का धरना-प्रदर्शन

Banda Updated Fri, 12 Oct 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें
बांदा। राज्य विद्युत परिषद जूनियर इंजीनियर्स संगठन का कहना है कि बिजली से बाहरी व्यक्तियों, जानवरों और फसलों की दुर्घटना पर क्षतिपूर्ति के लिए प्रत्येक उपभोक्ता से बिल के जरिए बीमित धनराशि वसूली जाए। उपकेंद्रों का सामूहिक बीमा कराकर बीमा कंपनियों के द्वारा क्षतिपूर्ति का भुगतान कराया जाए।
विज्ञापन

संगठन ने बृहस्पतिवार को 17 सूत्री मांगों के समर्थन में यहां अधिशासी अभियंता कार्यालय परिसर में धरना दिया। पावर कारपोरेशन अध्यक्ष को भेजे ज्ञापन में संगठन की पहली मांग यही थी। इसके अलावा अन्य मांगों में विभागीय नियमों का कड़ाई से अनुपालन कराते हुए अवर अभियंताओं की वार्षिक गोपनीय आख्या अपडेट कराने और फ्रेंचाइजी के असफल प्रयोग को ध्यान में रखते हुए बिजली व्यवस्था का संचालन विभागीय कर्मियों से कराए जाने की मांग की गई है। अवर अभियंताओं को 30 लीटर पेट्रोल का मूल्य प्रत्येक माह और भंडार केंद्रों को कंप्यूटरीकृत किए जाने की मांग भी शामिल है। एकल खिड़की योजना में अवर अभियंताओं से सिर्फ चार किलोवाट तक के कनेक्शन करवाए जाएं।

संगठन ने चेतावनी दी है कि 26 अक्तूबर तक मांगों को समाधान न हुआ तो 27 अक्तूबर को क्षेत्र व परियोजना स्तर पर सत्याग्रह किया जाएगा। धरना में संगठन के स्थानीय अध्यक्ष केके जायसवाल सहित वीके शुक्ल, आरपी सिंह, श्यामजी श्रीवास्तव, आरके वर्मा, अमित सक्सेना, सरवन सिंह, मुकेश चौरसिया, एसयू बेग, एसपी वर्मा, राकेश सोनी, गोपी मिश्र, दिलीप कुशवाहा, डीपी सिंह, अफजल आदि शामिल रहे।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us