कब्रिस्तान के रास्ते का विवाद सुलझा

Banda Updated Tue, 09 Oct 2012 12:00 PM IST
नरैनी। पनगरा गांव में कब्रिस्तान जाने का रास्ता सरकारी विभाग बनवाएगा। एडीएम ने मौके पर पहुंचकर दोनों पक्षों से बातचीत के बाद यह व्यवस्था कराई। एक पक्ष ने आत्मदाह की चेतावनी दी थी।
कोटहरा पहाड़ के नीचे कब्रिस्तान स्थित है। यहीं कमल किशोर त्रिवेदी की 10 एकड़ कृषि भूमि है। कई वर्षों से कब्रिस्तान पहुंचने का रास्ता इसी भूमि से था। इस मामले को लेकर इलाहाबाद हाईकोर्ट में मामला विचाराधीन है। पिछले दिनों कमल किशोर ने मामला निस्तारित करने की मांग करते हुए आत्मदाह की चेतावनी दी थी। रविवार को एडीएम ने मौका मुआयना किया और दोनों पक्षों से बातचीत की। एडीएम ने बताया कि शुभेंदु कुमार गुप्ता अपनी सहमति से रास्ते के लिए जमीन देने को तैयार हैं। उन्हें इस जमीन के बदले कमल किशोर अपनी जमीन देगा, जिससे कब्रिस्तान जाने वाले लोग नहर पटरी के रास्ते गुप्ता की जमीन से बने रास्ते से होकर कब्रिस्तान पहुंचेंगे। एडीएम ने एसडीएम को निर्देश दिए कि पैमाइश कराकर तत्काल रास्ता खुलवा दें। एडीएम ने बीडीओ महुआ को रास्ते का स्टीमेट बनवाने का निर्देश दिया है। हालांकि मुस्लिम वर्ग के लोग खेत के बीच से रास्ता निकालने की मांग कर रहे थे। इस पर एडीएम ने कहा कि वहां से रास्ता देने में अधिक जमीन लगेगी। क्षेत्राधिकारी धर्म सिंह मरछल, कोतवाली प्रभारी निरीक्षक विवेकानंद तिवारी, तहसीलदार राजेश कुमार मिश्रा सहित कानूनगो और लेखपाल भी उपस्थित रहे।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

यूपी पुलिस की हैवानियत का चेहरा, पिटाई की वजह से पेट में ही बच्चे की मौत

बांदा जिले की एक महिला ने यूपी पुलिस पर गंभीर आरोप लगाये है। महिला का कहना है कि उसके पति को गिरफ्तार करने आई पुलिस ने उसकी पिटाई कर दी। पुलिस की पिटाई से महिला का तीन माह का गर्भ गिर गया।

19 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls