विज्ञापन
विज्ञापन

गंगा का जलस्तर ठिठका, नौ घर व एक मठिया कटान में जमींदोज

Varanasi Bureauवाराणसी ब्यूरो Updated Sun, 22 Sep 2019 12:48 AM IST
रामगढ़ के उदई छपरा के पीड़ितों को बाहर निकालते एनडीआर एफ के जवान
रामगढ़ के उदई छपरा के पीड़ितों को बाहर निकालते एनडीआर एफ के जवान - फोटो : BALLIA
ख़बर सुनें
बलिया। जनपद में बाढ़ का कहर जारी है। गंगा और घाघरा नदियां उफान पर हैं। इस दौरान जयप्रकाश नगर, बैरिया, दया छपरा, दुबे छपरा, रामगढ़ और बेल्थरारोड समेत कई क्षेत्रों बाढ़ से हजारों लोग परेशान हैं। इस दौरान करीब डेढ़ सौ गांव से अधिक प्रभावित हैं। लगातार अधिकारियों और नेताओं के मौके पर पहुंचने और राहत बचाव करेन के बावजूद प्राकृति के आगे सब बेबस नजर आ रहे हैं। नदियों का पानी लगातार बढ़ने और रिहायशी इलाकों में पहुंचने के कारण दिक्कतें और भी बढ़ती जा रही हैं। उधर, सभी प्रभावित लोगों को अब तक स्कूलों और सामुदायिक केंद्रों पर शरण नहीं दी जा सकी है।
विज्ञापन
गंगा की उफनाती लहरें डेंजर लेवल के करीब पहुंच कर शनिवार को स्थिर हो गई। नदी का जलस्तर स्थिर होने के बाद भी बाढ़ से घिरे गांव के लोगों की मुसीबतें अभी कम होती नहीं दिख रही हैं। अभी दर्जनों गांव भी बाढ़ से घिरे हुए हैं। सबसे दयनीय हालात केहरपुर, उदई छपरा, हरपुर, उदय छपरा, सोनरा टोला रामगढ़ का है जहां गंगा का तांडव जारी है। अभी भी खाली बची जमीन को गंगा की लहरें निगलती जा रही हैं जिसके चलते ग्रामीणों में अफरा तफरी का माहौल बना हुआ है।
केंद्रीय जल आयोग गायघाट के अनुसार गंगा का जलस्तर शनिवार की सुबह 8 बजे 59.900 मी. दर्ज किया गया साथ ही जलस्तर स्थिर है। उधर, चौबे छपरा में दो व उदई छपरा गाव में सात मकानों के साथ ही संत वेदांती महाराज की मठिया को जमीदोज कर दिया। इसके चलते गांवों में अफरा-तफरी मच गई।
हाई फ्लड लेवल के पास पहुंचने के बाद गंगा का जलस्तर स्थिर हो गया है। हालांकि अभी दर्जनों गांव बाढ़ के पानी से घिरे हुए हैं। प्रशासनिक उदासीनता का आलम यह है कि आज तक जिले के बड़े अधिकारियों ने केहरपुर सोनार टोला में पहुंचना मुनासिब नहीं समझा। इस गांव के लोग आज भी नाव, भोजन, तिरपाल आदि के लिए तरस रहे हैं। सोनार टोला रामगढ़ की हालत यह है कि आज तक न तो जिला प्रशासन और ना ही जनप्रतिनिधियों ने पीड़ितों के बीच अपना हाथ बढ़ाया। एक तरफ पूरा जिला प्रशासन दुबे छपरा में ही अपनी सारी ताकत लगाए बैठा है और दोआबा के बहुतेरे ऐसे बाढ़ से घिरे गांव हैं जहां तक जिला प्रशासन का कोई नुमाइंदा नहीं पहुंच पाया, वहां भी बाढ़ से घिरे लोग नाव और राहत के लिए तरसते नजर आ रहे हैं । उधर, चौबे छपरा में शनिवार को दिनेश यादव व विजय शंकर यादव का मकान गंगा में समाहित हो गया। इसके चलते गांव में अफरा-तफरी मच गई।
रामगढ़। जिले के पुलिस कप्तान देवेन्द्र नाथ ने शनिवार को दुबे छपरा, गोपालपुर, उदई छपरा के बाढ़ पीड़ितों में 1000 लंच का पैकेट व 250 सोलर लाइट का वितरण किया। बैरिया सीओ उमेश कुमार, थानाध्यक्ष बैरिया संजय त्रिपाठी के साथ अन्य पुलिस के जवानों ने सहभागिता की।
रामगढ़। उदई छपरा के उपाध्याय टोला के पास शनिवार को अचानक कटान तेज हो गया। इसके कारण लोगों में अफरा-तफरी मच गई। एनडीआरएफ की टीम ने अपने अदम्य साहस का परिचय देते हुए लोगों को घरों से निकालकर सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया। गंगा नदी के किनारे बने रिंग बांध के कटाव के कारण आस-पास के गांवों में अफरा-तफरी का माहौल बना हुआ है। हालांकि एनडीआरएफ की टीम भी पिछले पांच दिनों से लगातार आसपास के गांव से लोगों को सुरिक्षत स्थानों पर पहुंचाने में जुटी है। अब तक लगभग 1200 लोगों को बाहर निकाल कर सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया गया है। ऑपरेशन के दौरान टीमों का संचालन निरीक्षक गोपी गुप्ता और उपनिरीक्षक विक्रम सिंह के द्वारा किया जा रहा है।
बैरिया तहसील क्षेत्र में आई गंगा नदी की प्रलयकारी बाढ़ से तबाही का मंजर दिख रहा है। तिनका-तिनका जोड़कर बनाये गए आशियाना उजड़ जाने से अनेकों परिवार बेघर हो चुके हैं। बाढ़ से विस्थापित हो चुके परिवार एनएच 31 व रिश्तेदारों के यहा शरण लिए हुए हैं। प्रलयंकारी बाढ़ ने भीषण तबाही मचाकर बाढ़ पीड़ितों को लाचार, विवश व कंगाल बना दिया है। मवेशियों को चारा नहीं मिल पा रहा है और सरकार द्वारा मिले भूसे से मवेशियों के पेट नहीं भर रहा है। दुबेछपरा,गोपालपुर, उस्त्रत्त्दईछपरा, प्रसादछपरा, बुधनचक, मुरलीछपरा, पांडेयपुर, अठगावां गांव के बाढ़ पीड़ित खुले आकाश व चिलचिलाती धूप में तिरपाल टांगकर जीवन व्यतीत कर रहे हैं।
इन बाढ़ पीड़ितों के लिए बाढ़ राहत शिविर तक की व्यवस्था नहीं की गई है। कई दिनों से बाढ़ से जूझ रहे पीड़ितों की समस्याएं कम नहीं हो पा रही हैं। बैरिया ब्लॉक के दुबेछपरा से गोपालपुर होते हुए टेंगरही तक रिंग बांध को मजबूत बनाने के लिए 41 करोड़ से अधिक खर्च होने के बावजूद रिंग बंधा टूटने के बाद पानी ने भारी तबाही मचा दी। बाढ़ पीडित बेघर होकर विगत एक सप्ताह से एनएच 31 के दोनो किनारे शरण लिए हुए हैं। इतना ही नहीं अभी गंगा उसपार नौरंगा के अलावा गोपालपुर, दुबेछपरा आदि गांव में भी बहुत सारे लोग घरों में फंसे हुए हैं, तो कई लोग छतों पर शरण लिए हुए हैं। बाढ़ से विस्थापित परिवारों की हालत काफी खराब हो गई है। जबकि किसानों के खेतों में लगी फसल बर्बाद हो गई है। बाढ़ के पानी में घर उजड़ जाने से इन परिवारों के सामने रोजी रोटी का संकट है। पीड़ित बाढ़ से बर्बाद घरों को निहार रहे हैं। बाढ़ से गिर चुके घर को फिर से खड़ा करना कितना मुश्किल होगा सोच सोच कर बाढ़ पीड़ितों का कलेजा फटता जा रहा है।
एनएच पर शरण लिए बाढ़ पीड़ितों के लिए आपूर्ति विभाग की ओर से मिट्टी तेल वितरण तो शुरू कर दिया गया है। लेकिन गंगा उस पार 20 हजार के बाढ़ पीड़ितों वाले ग्राम पंचायत नौरंगा के लिए एक लीटर भी मिट्टी तेल आवंटित नही किया गया है। ऐसे में नौरंगा के बाढ़ पीड़ितों का कहना है हमारे साथ शासन व प्रशासन सौतेला व्यवहार कर रहा है। एनएच पर शरण लिए बाढ़ पीड़ितों में मिट्टी तेल का वितरण पूर्ति निरीक्षक श्यामनाथ के देख रेख में शुरू हुआ। जिला पूर्ति अधिकारी ने बाढ़ पीड़ितों को तीन-तीन लीटर मिट्टी तेल वितरण के लिए सरकारी कोटेदारों को तेल का आवंटन किया है। पूर्ति निरीक्षक श्यामनाथ ने बताया कि केहरपुर के कोटेदार राजू राम को 250 बाढ़ पीड़ित परिवारों के लिए 750 लीटर, सुरेन्द्र सिंह की दुकान पर 260 परिवारों के लिए 780 लीटर, गोपालपुर की भकोटेदार ज्ञानती देवी की दुकान पर 1100 परिवारों के लिए 3300 लीटर, प्रभुनाथ सिंह की दुकान पर 1100 परिवारों के लिए 3300 लीटर, दयाछपरा कोटेदार रेखा देवी की दुकान पर 400 परिवारों के लिए 1200 लीटर, ललिता पाण्डेय की दुकान पर 400 परिवारों के लिए 1200 लीटर, टेंगरही के कोटेदार राजेश्वर राम की दुकान पर 120 परिवारों के लिए 360 लीटर, जगदेवा कोटेदार प्रदीप कुमार सिंह की दुकान पर 700 परिवारोंब के लिए 2100 लीटर, शाह अली अंसारी की दुकान पर 650 परिवारों के लिए 1950 लीटर, सुशीला देवी की दुकान पर 650 परिवारों के लिए 1950 लीटर कुल 5630 बाढ़ पीड़ित परिवारों के लिए 16890 लीटर मिट्टी तेल आवंटित किया है।
बैरिया विधायक सुरेंद्र सिंह शनिवार को बाढ़ प्रभावित शिवपुर कपूर दियर पंचायत का दौरा कर बाढ़ पीड़ितों का हाल जाना। साथ ही अपने साथ ले गए 250 लोगों को चिउड़ा गुड़ व ब्रेड भी बांटे। विधायक अपने साथ स्वास्थ्य टीम को लेकर बाढ़ पीड़ितों के दरवाजे दरवाजे पहुंचे और उनका हाल जाना। लेखपाल सतीश यादव से बात कर बाढ़ पीड़ितों को सूची बनाकर तहसील पर जमा करने य्को कह ा औऱ नाव को उपलब्ध कराने को कहा। विधायक ने कहा इस क्षेत्र के बाढ़ पीड़ितों के लिए बहुत जल्द नाव व पका पकाया भोजन की व्यवस्था कर दी जाएगी। उधर, एसएचओ दोकटी अखिलेश मौर्य ने बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों का भ्रमण किया। सेमरिया ढाला के बगल में नदी के पानी मे तैर रहे बच्चों को मना किया। उसके बाद वी पुलिस बल के साथ मुरारपट्टी काली मंदिर और हृदयपुर बाढ़ चौकी पर गए जहां खतरों के बीच लोगषों के आने जाने को मना किया। विधायक के साथ मनोज तिवारी, छोटू तिवारी आदि रहे।
विज्ञापन

Recommended

महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई में कराएं दिवाली लक्ष्मी पूजा : 27-अक्टूबर-2019
Astrology Services

महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई में कराएं दिवाली लक्ष्मी पूजा : 27-अक्टूबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Ballia

संविदा विद्युतकर्मियों ने शुरु की हड़ताल, 150 गांवों की आपूर्ति प्रभावित

संविदा विद्युतकर्मियों ने शुरु की हड़ताल, 150 गांवों की आपूर्ति प्रभावित

14 अक्टूबर 2019

विज्ञापन

अयोध्या मामले पर सीजेआई रंजन गोगोई ने दोहराई अपनी बात, कहा- कल सुनवाई का आखिरी दिन

सुप्रीम कोर्ट में इस समय अयोध्या मामले की सुनवाई हो रही है। मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई के नेतृत्व वाली संवैधानिक पीठ इसकी सुनवाई कर रही है। सीजेआई ने कहा, 'आज सुनवाई का 39वां दिन है। कल मामले की सुनवाई का 40वां और आखिरी दिन है।'

15 अक्टूबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree