रसड़ा में भी चक्काजाम

Ballia Updated Sat, 21 Jul 2012 12:00 PM IST
रसड़ा। रसड़ा-बलिया राजधानी मार्ग पर कोटवारी मोड़ के समीप एक माह से बिजली आपूर्ति बाधित है। इससे आक्रोशित नगरवासियों का गुस्सा शुक्रवार को फूट पड़ा और करीब दो बजे सड़क पर उतर आवागमन बाधित कर दिया। दो घंटे तक चले इस बवाल की सूचना मिलते ही मौके पर पहुंचे पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों के आश्वासन पर नगरवासियाें ने जाम समाप्त किया। इस दौरान लोगों ने चेताया कि 24 घंटे के अंदर विद्युत व्यवस्था ठीक नहीं की गई तो आंदोलन तेज होगा और पुन: लोग सड़क जाम करने के लिए बाध्य होंगे।
स्थानीय नगर के वार्ड नंबर सात, 15 और 18 के रहवासी गत एक माह पहले ट्रांसफार्मर फुंक जाने से अंधेरे और उमस भरी गर्मी में रहने को बाध्य हैं। रमजान का महीना शुरू होते देख बिजली और पेयजल की समस्या को लेकर लोगों का गुस्सा फूट पड़ा। सभासद विजय कुमार उर्फ संटू, सर्फुदद्दीन व राकेश सिंह के नेतृत्व में नगर के वासियों ने सड़क जाम कर दिया। सूचना पर पहुंचे नायब तहसीलदार मुकेश कुमार सिंह व कोतवाली प्रभारी अजीत सिंह के आश्वासन पर करीब दो घंटे बाद विद्युत आपूर्ति बहाल कराने के आश्वासन पर जाम समाप्त कराया।
इस मौके पर बब्लू सिंह, विशाल चौरसिया, मेराज आलम, नजीमुल्ल, सदाबरजा, इरफान, तूफानी, मन्नू, सद्दाम, शकील सहित दर्जनों नगरवासी शामिल रहे।

Spotlight

Most Read

National

सियासी दल सहमत तो निर्वाचन आयोग ‘एक देश एक चुनाव’ के लिए तैयार

मध्य प्रदेश काडर के आईएएस अधिकारी और झांसी जिले के मूल निवासी ओपी रावत ने मंगलवार को मुख्य चुनाव आयुक्त का कार्यभार संभाल लिया।

24 जनवरी 2018

Related Videos

बीजेपी विधायक के बिगड़े बोल, कहा देश में बेहद कम मुसलमान देशभक्त

सत्ता सुख मिलने के बाद यूपी बीजेपी का कोई न कोई नेता लगातार विवादित बयान दे रहा है। अब बलिया से बीजेपी के विधायक सुरेंद्र सिंह ने कहा है कि देश के ज्यादातर मुसलमान देशभक्त नहीं है। वो खाते भारत का हैं, और चिंता पाकिस्तान की करते हैं।

15 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper