नदियों के कटान सेे तटीय इलाकों में दहश्‍ात

Ballia Updated Wed, 11 Jul 2012 12:00 PM IST
रामगढ। गंगा नदी में पानी का बहाव तेजी से बढ़ रहा है। जिसके चलते गंगा के किनारे वाले गांवों के बाश्ंिादों की धड़कनें एक बार फिर तेज हो गई हैं। उनको भय सता रहा है कि यदि गंगा ने पिछले वर्ष की तरह अपना कहर बरपाना शुरू कर दिया तो फिर उनका घरौंदा नदी की धारा में विलीन हो जाएगा। अब तक कटान को रोकने के लिए शासन ने कोई विशेष व्यवस्था नहीं की है। गंगा मंगलवार को अपने नीचे 49.340 मीटर पर एक सेंटीमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से बढ़ाव पर है।
गंगा नदी के डेंजर जोन पचरुखिया-मझौंवा के स्पर संख्या 19 व 20 के बीच करीब 180 मीटर की दूरी तक लगभग आठ लाख बालू से भरी बोरियों का प्लटेफार्म जीओ विधि द्वारा बनाया गया है। जिससे राष्ट्रीय राजमार्ग-31 पर मंड़रा रहे खतरे को रोका जा सके। इस बार शासन से बाढ़ विभाग को राहत एवं मरम्मत के नाम पर देर से पैसा अवमुक्त होने के कारण बचाव कार्य में विलंब हुआ। जिसका अब तक परिणाम यह रहा कि अभी करीब 60 फीसदी कार्य ही पूरा हुआ है। जबकि स्लोपिंग व पीचिंग का कार्य अभी पूरी तरह बाकी है। इससे ही अंदाजा लगाया जा सकता है कि शासन कटान के प्रति कितना गंभीर है। यही नहीं अब तक गांवों को बचाने के लिए शासन द्वारा कोई भी फंडा तैयार नहीं किया गया है।
इसके चलते ग्रामीणों को अपने अस्तित्व को लेकर चिंता बढ़ने लगी है कि यदि गंगा का तेवर उग्र हुआ और कटान शुरू हुआ तो वे कहां जाएंगे। कटान से भयाक्रांत बैरिया तहसील के केहरपुर ग्रामसभा के शाहपुर पुरवा के लोग बाढ़ से पहले ही अपने घरों को उजाड़ना शुरू कर अन्यत्र सुरक्षित जगह एनएच-31 व अपने रिश्तेदारों के यहां शरण लेना शुरू कर दिया है।
रेवती संवाददाता के अनुसार घाघरा का तेवर जैसे-जैस चढ़ रहा है, वैसे-वैसे तटवासियों में दहशत बढ़ रही है। चार दशकों में डेढ़ दर्जन गांवों को निगल चुकी घाघरा फिलहाल नवका गांव की तरफ वक्र दृष्टि से देख रही है। उधर टीएस बंधा पर नदी के खतरनाक बिंदुओं को देखते हुए सिंचाई विभाग के अधिकारी जीएस बैग को सजाकर टीएस बंधे के ऊपर सुरक्षा कवच चढ़ाने की मुहिम में लगे हुए हैं।
गंगा दशहरा के बाद घाघरा के पानी में निरंतर बढ़ाव जारी है। बीते माह के दूसरे सप्ताह में पानी आधा मीटर घटा था। फिर शनिवार से नदी चढ़ने लगी है। नदी निमभन जलस्तर 53 मीटर से बढ़ कर 56.5 मीटर पर नदी मंगलवार को बह रही थी। कटानी अवरोध के विरूद्ध इस बार सिंचाई विभाग जीएस बैग में बालू भर कर टीएस बंधा के डेंजर जोन 69.300 से लेकर 70 किमी. के आसपास तक जीएस बैग का एक कवच तैयार कर रहा है। ताकि घाघरा के कटानी तेवर से निजात पाया जा सके। सिंचाई विभाग के जेई आरएस यादव ने बताया कि बंधा के विभिन्न संवेदनशील स्थानों पर खतरे को देखते हुए लांचिंग एप्रान पर पीचिंग, रिपेयरिंग आदि कार्यों का 95 फीसदी कार्य पूरे किए जा सके हैं। यहां भी निरोधात्मक कार्य जीएस बैग द्वारा किया जा रहा है।


Spotlight

Most Read

National

इलाहाबाद HC का निर्देश- CBI जांच में सहयोग करे लोक सेवा आयोग

कोर्ट ने लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष को जवाब दाखिल करने के लिए छह फरवरी तक की मोहलत दी है।

19 जनवरी 2018

Related Videos

बीजेपी विधायक के बिगड़े बोल, कहा देश में बेहद कम मुसलमान देशभक्त

सत्ता सुख मिलने के बाद यूपी बीजेपी का कोई न कोई नेता लगातार विवादित बयान दे रहा है। अब बलिया से बीजेपी के विधायक सुरेंद्र सिंह ने कहा है कि देश के ज्यादातर मुसलमान देशभक्त नहीं है। वो खाते भारत का हैं, और चिंता पाकिस्तान की करते हैं।

15 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper