लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Uttar Pradesh ›   Bahraich ›   Sumerpur became the first village of the Mandal due to the efforts of Nirmala

निर्मला के प्रयासों से मंडल का पहला गांव बना सुमेरपुर

Lucknow Bureau लखनऊ ब्यूरो
Updated Sun, 21 Aug 2022 11:57 PM IST
उम्मीद की मशाल- पयागपुर के ग्राम सुमेरपुर की पूर्व प्रधान निर्मला को सम्मानित करते पीडी की फाइल फ
उम्मीद की मशाल- पयागपुर के ग्राम सुमेरपुर की पूर्व प्रधान निर्मला को सम्मानित करते पीडी की फाइल फ - फोटो : BAHRAICH
विज्ञापन
ख़बर सुनें
बहराइच। पयागपुर ब्लॉक की ग्राम पंचायत सुमेरपुर की पूर्व प्रधान निर्मला सिंह जिले के अन्य प्रधानों के लिए रोल मॉडल बन कर उभरी हैं। महिला सशक्तिकरण की मिसाल निर्मला की मेहनत का ही नतीजा है, कि सुमेरपुर ग्राम पंचायत मंडल मेें मुख्यमंत्री प्रोत्साहन पुरस्कार हासिल करने वाली पहली ग्राम पंचायत बनी है। निर्मला द्वारा कराए गए विकास कार्यों के लिए उन्हें पूर्व डीएम शंभु कुमार, परियोजना निदेशक अनिल सिंह प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित कर चुके हैं। इस बार संपन्न हुए पंचायत चुुनाव में सीट आरक्षित होने के चलते निर्मला समर्थित प्रधान रामधीरज निर्माण के विकासपरक नजरिए को आगे बढ़ा रहे हैं। वहीं जिले के कई अन्य ग्राम प्रधान निर्मला द्वारा कराए गए कार्यों से सीख लेकर उनके मॉडल पर अपनी ग्राम पंचायत को विकसित करने के लिए प्रयास कर रहे हैं।

पयागपुर ब्लॉक की ग्राम पंचायत सुमेरपुर की पूर्व ग्राम प्रधान निर्मला सिंह ग्राम प्रधानों के लिए मिसाल बनी हुई हैं।
उनके कार्यकाल में सुमेरपुर में करवाए गए कार्यों से सीख लेकर कई ग्राम प्रधान अपनी पंचायत का विकास करवा रहे हैं। निर्मला सिंह के विकास मॉडल की देन है, कि सुमेरपुर ग्राम पंचायत 2021-22 के मुख्यमंत्री पंचायत प्रोत्साहन पुरस्कार के लिए लिए चयनित हुई। सुमेरपुर ने प्रदेश में बेहतर विकास के लिए चयनित 301 ग्राम पंचायतों में तीसरा स्थान हासिल किया। जिसके परिणाम स्वरूप सुमेरपुर को विकास के लिए अतिरिक्त 62 लाख रुपये दिए गए। बीते वर्ष संपन्न हुए पंचायत चुनाव में सुमेरपुर पंचायत आरक्षित रही। जिस पर गांव में बेहतर विकास करवाने के चलते निर्मला समर्थित उम्मीदवार रामधीरज ने जीत दर्ज की और अब वह निर्मला के उद्देश्य व कार्यों को आगे बढ़ा रहे हैं। बताते चलें कि पूर्व ग्राम प्रधान निर्मला की ही देन है, कि सुमेरपुर ने जिले की पहली ओडीएफ पंचायत का तमगा हासिल किया। यही नहीं ग्राम पंचायत के सभी निवासियों के पास पक्का मकान, 78 प्रतिशत साक्षरता, शून्य शिशु मृत्युदर व कोरोना काल के दौरान शत-प्रतिशत टीकाकरण का भी तमगा सुमेरपुर के पास है। इससे पहले 2010 में निर्मला के बेटे धर्मेन्द्र सिंह प्रधान थे और तभी से सुमेरपुर में विकास कार्य करवाए जा रहे हैं।

सुमेरपुर में करवाए गए कार्य-
- हर 10 घर, सभी स्कूलों चौराहों पर डस्टबिन
-पूरे गांव में स्ट्रीट लाइट, सभी चौराहों पर स्ट्रीट लाइट
-सभी पुराने वृक्षों के चारो ओर चबूतरा बना कर वृक्षों का संरक्षण
- सभी 110 हैंडपंप चालू, एक दर्जन से अधिक उच्चीकृत
- सभी गलियां इंटरलॉकिंग व नाली निर्माण
-जल निकासी के लिए सभी 14 मजरों में 35 सोकपिट निर्माण
-जलनिकासी के लिए नाले की सफाई
- कृषकों की आय वृद्धि के लिए छह व्यक्तिगत व जलसंचयन के लिए तीन तालाबों का निर्माण
प्रस्तावित कार्य-
बहुउद्देशीय भवन- रोजगार सेवक दीपक सिंह ने बताया कि गांव में एक बहुउद्देशीय भवन निर्माण का प्रस्ताव बनाकर डीपीआरओ कार्यालय भेजा गया है। उन्होंने बताया कि बहुउद्देशीय भवन में वाईफाई से लैस जनसेवा केन्द्र, आरो प्लॉंट, ओपेन जिम, कूड़ा उठाने के लिए ट्राई सायकिल आदि का काम प्रस्तावित है।

खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00