सिनेमा हॉल में बम की अफवाह से हड़कंप

Bahraich Updated Mon, 27 Jan 2014 05:46 AM IST
बहराइच। शहर के सिविल लाइंस क्षेत्र स्थित कुमार सिनेमा हॉल में शनिवार दोपहर बम होने की अफवाह से हड़कंप मच गया। इसकी सूचना अज्ञात व्यक्ति ने मोबाइल पर एसपी को दी। एसपी के निर्देश पर पुलिस टीम ने पिक्चर पैलेस को सुरक्षा घेरे में ले लिया और फिर सभी दर्शकों को बाहर निकालकर परिसर का चप्पा-चप्पा खंगाला गया। एलआईयू और एंटी सैबोटाज दस्ते ने भी पिक्चर हॉल को खंगाला। करीब तीन घंटे बाद बम न होने की पुष्टि पर सभी ने राहत की सांस ली। फोन करने वाले की तलाश में सर्विलांस टीम जुटी है।
कुमार सिनेमा हॉल में अभी फिल्म जय हो लगी है। शनिवार दोपहर 12 बजे फिल्म का पहला शो शुरू हुआ। हॉल दर्शकों से भरा था। 12:30 बजे के आसपास पुलिस अधीक्षक मोहित गुप्ता के मोबाइल पर अज्ञात व्यक्ति ने फोन कर सिनेमा हॉल में टाइम बम होने की सूचना दी। यह भी कहा कि आधे घंटे में विस्फोट हो जाएगा। इस पर एसपी ने तत्काल सीओ सिटी एके सिंह व रिसिया सीओ राजीव सिंह की अगुवाई में मौके पर टीम भेजी। पुलिसकर्मियों ने सिनेमा हॉल की चेकिंग कराने की बात कहते हुए दर्शकों को किसी तरह बाहर किया। बाहर निकले दर्शकों को जब पता चला कि हॉल में टाइम बम है तो हड़कंप मच गया। लोकल इंटेलीजेंस ब्यूरो के अधिकारियों को भी बुलाया गया। मेटल डिटेक्टर से पड़ताल शुरू हुई लेकिन कुछ भी हाथ नहीं लगा। एक घंटे बाद पुलिस लाइन एंटी सैबोटाज दस्ते के जवान पहुंचे। जवानों ने बम की पहचान करने वाले उपकरणों से सिनेमा हॉल को फिर से खंगाला। बम न मिलने पर लोगों को राहत मिली। इसके बाद सिनेमा हॉल प्रबंधन ने दर्शकों के टिकट के पैसे लौटा दिए।
एसपी मोहित गुप्ता ने बताया कि अफवाह फैलाने की कोशिश की गई है। कॉल करने वाले व्यक्ति के मोबाइल नंबर को ट्रेस करने में सर्विलांस टीम लगी है। अराजक तत्व की तलाश कर उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।
जिला संवेदनशील और बम डिस्पोजल दस्ता नहीं
जिला काफी संवेदनशील है। दाऊद के खानसामा और लश्कर-ए-तैयबा समेत कई संगठनों के आतंकवादी जिले में पकड़े जा चुके हैं। आए दिन नेपाल की खुली सीमा से घुसपैठ की संभावना बनी रहती है। गणतंत्र दिवस पर हाई अलर्ट घोषित है लेकिन बम डिस्पोजल दस्ता जिले में मौजूद नहीं है। इसके कारण पुलिस को काफी दिक्कतें होती हैं। इसी तरह की स्थिति तीन वर्ष पहले छावनी चौराहे पर बनी थी, जब एक अटैची लावारिस हालत में मिली थी। उसमें बम होने की अफवाह थी। स्टीलगंज तालाब पर भी लावारिस बैग काफी पहले बरामद हुआ था। बम डिस्पोजल दस्ता के अभाव में पुलिस और एलआईयू को ही जूझना पड़ता है। इस मामले में एसपी मोहित गुप्ता का कहना है कि एंटी सैबोटाज टीम गठित है। उसके पास बम की पहचान वाले उपकरण हैं, जरूरत पड़ने पर फैजाबाद से दस्ते को बुलाया जाता है।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

जब रात में CM योगी के आवास के बाहर किसानों ने फेंके आलू

लखनऊ में आलू किसानों को जबरदस्त प्रदर्शन देखने को मिला। अपना विरोध जताते हुए किसानों ने लाखों टन आलू मुख्यमंत्री आवास, विधानसभा और राजभवन के बाहर फेंक दिया। देखिए आखिर क्यों भड़क उठा आलू किसानों का गुस्सा।

6 जनवरी 2018