हार्ट अटैक व दमा से पांच की मौत

Bahraich Updated Mon, 10 Dec 2012 05:30 AM IST
बहराइच। बढ़ती ठंड दमा और हृदय रोगियों पर भारी पड़ रही है। जिला अस्पताल में रविवार को हार्ट अटैक से तीन और अस्थमा से दो लोगों की जान चली गई। निमोनिया व कोल्ड डायरिया से पीड़ित 13 और मरीज भर्ती हुए हैं, जिनमें तीन की हालत नाजुक है।
रामगांव क्षेत्र के किशुनपुर मीठा गांव निवासी दुखहरन नाथ (55) को रविवार की सुबह नहाने के बाद अचानक दिल में दर्द महसूस हुआ। परिजनों ने आनन-फानन में उन्हें जिला अस्पताल पहुंचाया लेकिन इलाज शुरू होते ही दुखहरन ने दम तोड़ दिया। इसी तरह नानपारा के शंकरपुर चौराहा निवासी तसकीरुननिशा (17) पुत्री मोल्हे कुरैशी व गिलौला क्षेत्र के मानिकापुर खुर्द निवासी रामरानी (55) पत्नी रामचंदर यादव की भी मौत हुई। दूसरी ओर छोटेलाल (55) पुत्र प्रसाद निवासी बेरिया देहात कोतवाली व रामगांव क्षेत्र के टिकुआपारा गांव निवासी छोटेलाल (40) पुत्र कुंजीलाल को अस्थमा का अटैक पड़ने पर रविवार की सुबह जिला अस्पताल लाया गया लेकिन इलाज शुरू होते ही दोनों ने दम तोड़ दिया। वहीं, रविवार को निमोनिया व कोल्ड डायरिया से ग्रस्त 13 और मरीज जिला अस्पताल के चिल्ड्रेन वार्ड में भर्ती हुए। इनमें साक्षी (5) वजीरबाग कॉलोनी, सीमा (2) फखरपुर, फरहान (1) कानूनगोपुरा, संदीप (10) हेमरिया, निजामुद्दीन (2) मल्हीपुर, अजय (9) काजीपुरा, फातिमा (2) नाजिरपुरा, अनीश (5) भिनगा, शिवम (3) सिरसिया व दाउद (1) नानपारा शामिल हैं। अजय, फरहान व सीमा की हालत नाजुक बनी हुई है।
रोगी रखें खास एहतियात
जिला अस्पताल के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ. के. राम बताते हैं कि दुखहरननाथ, रामरानी और तसकीरुननिशा को गंभीरावस्था में अस्पताल लाया गया था। तीनों इलाज शुरू होते ही दम तोड़ा है। हालांकि, लक्षणों से हार्ट अटैक ही लगता है। वहीं, बाकी दोनों रोगी अस्थमा पीड़ित थे और उन्हें भी गंभीर हालत में लाया गया था, जिससे उनकी जान नहीं बचाई जा सकी। वह बताते हैं कि तराई में कड़ाके की ठंड शुरू हो चुकी है। ऐसे में हृदय व श्वांस रोगियों को खास ध्यान रखने की जरूरत है।

हृदयाघात व श्वांस रोगियों के लक्षण
रक्तचाप बढ़ जाना
पसीना आने लगना
बेचैनी होना
श्वांस की तीव्रता बढ़ना

ऐसे करें बचाव
श्वांस व हृदय रोगी शीत ऋतु में व्यायाम न करें
हृदय रोगी गुनगुने पानी से ही स्नान करें
श्वांस रोगी धुएं, अंगीठी व मॉस्क्यूटो क्वायल से बचें
दमा मरीज सदैव अपने साथ इन्हेलर व दवा रखें
रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाले खाद्य पदार्थों का सेवन करें
पानी खूब पिएं

घरेलू उपचार
आयुर्वेदिक चिकित्साधिकारी डॉ. अशोक पांडेय गुलशन बताते हैं कि हृदय रोगियों के लिए अर्जुन की छाल व चूर्ण रामबाण है। जबकि श्वांस रोगी वासा (रूसा) की पत्ती का काढ़ा बनाकर उपयोग में ला सकते हैं। उन्होंने बताया कि अदरक, अजवाइन, काली मिर्च, लौंग से निर्मित काढ़ा हृदय व श्वांस रोगियों के लिए लाभदायक है।

Spotlight

Most Read

Kanpur

एक्सप्रेस-वे का काम अधूरा, टोल टैक्स देना पड़ेगा पूरा 

लखनऊ-आगरा एक्सप्रेस-वे पर 19 जनवरी की मध्य रात्रि से टोल टैक्स तो शुरू हो जाएगा लेकिन एक्सप्रेस-वे पर तैयारियां आधी-अधूरी हैं। एक्सप्रेस-वे के किनारे न रेस्टोरेंट बने और न होटल। कई जगह पर बैरीकेडिंग टूटने से जानवर भी सड़क  पर आ जाते हैं।

18 जनवरी 2018

Saharanpur

हज

19 जनवरी 2018

Related Videos

जब रात में CM योगी के आवास के बाहर किसानों ने फेंके आलू

लखनऊ में आलू किसानों को जबरदस्त प्रदर्शन देखने को मिला। अपना विरोध जताते हुए किसानों ने लाखों टन आलू मुख्यमंत्री आवास, विधानसभा और राजभवन के बाहर फेंक दिया। देखिए आखिर क्यों भड़क उठा आलू किसानों का गुस्सा।

6 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper