गलत प्रश्नपत्र आने से बैकपेपर परीक्षा रद

Bahraich Updated Sun, 09 Dec 2012 05:30 AM IST
बहराइच। किसान महाविद्यालय में शनिवार सुबह स्नातक द्वितीय वर्ष की अंग्रेजी बैकपेपर की परीक्षा थी लेकिन सुबह जब महाविद्यालय प्रशासन ने प्रशभनपत्र का बंडल खोला तो उसमें एक प्रश्नपत्र पुराने पाठ्यक्रम का मिला। इसके चलते परीक्षा निरस्त कर दी गई। छात्र बैरंग लौटने को मजबूर हुए।
ठाकुर हुकुम सिंह किसान स्नातकोत्तर महाविद्यालय में इस समय बैक पेपर की परीक्षा चल रही है। शनिवार सुबह 8 बजे से बीए द्वितीय वर्ष की परीक्षा में सम्मिलित होने के लिए लगभग दो हजार छात्र परीक्षा केंद्र पहुंचे। इनमें अंग्रेजी विषय की परीक्षा देने वाले 122 छात्र शामिल थे। 8 बजे जब छात्रों को उत्तरपुस्तिका के बाद प्रश्नपात्र का वितरण किया गया तो प्रश्नपत्र पढ़ते ही अंग्रेजी के परीक्षार्थी असमंजस में पड़ गए। प्रश्नपत्र में जिस ड्रामे का हवाला देकर सवाल पूछे गए थे उसे छात्रों ने पढ़ा ही नहीं था। परीक्षार्थियों ने इसकी शिकायत कक्ष निरीक्षकों से की। महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ. शेरबहादुर सिंह व उप प्राचार्य डॉ. एसपी सिंह मौके पर पहुंचे। अंग्रेजी विषय के प्रवक्ता को बुलाया गया। तब पता चला कि काफी पुराने पाठ्यक्रम से प्रश्न पूछा गया है। यह पाठ्यक्रम इस समय कोर्स में नहीं है। विश्वविद्यालय ने भी तत्काल अंग्रेजी द्वितीय प्रश्नपत्र की परीक्षा निरस्त करने का आदेश दिया। प्राचार्य डॉ. एसबी सिंह ने बताया कि परीक्षा निरस्त कर अंग्रेजी द्वितीय प्रश्न पत्र के छात्रों को घर भेज दिया गया है।
अब 13 दिसंबर को होगा इम्तिहान
बहराइच। ठाकुर हुकुम सिंह किसान स्नातकोत्तर महाविद्यालय के उप प्राचार्य मेजर डॉ. एसपी सिंह ने बताया कि बीए द्वितीय वर्ष के अंग्रेजी द्वितीय प्रश्न पत्र बैक पेपर की निरस्त हुई परीक्षा 13 दिसंबर को होगी। उन्होंने कहा कि परीक्षा प्रात:काल 8 से 11 बजे तक होगी। बैक पेपर की सभी परीक्षाएं 11 दिसंबर को खत्म हो रही हैं सिर्फ निरस्त परीक्षा दो दिन बाद होगी।

Spotlight

Most Read

Lucknow

यूपी दिवस: प्रदेश को 25 हजार करोड़ की योजनाओं की सौगात, योगी बोले- आज का दिन गौरवशाली

यूपी दिवस के मौके पर प्रदेश को सरकार ने 25 हजार करोड़ करोड़ की योजनाओं की सौगात दी। मुख्यमंत्री योगी ने आज के दिन को गौरवशाली बताया।

24 जनवरी 2018

Related Videos

जब रात में CM योगी के आवास के बाहर किसानों ने फेंके आलू

लखनऊ में आलू किसानों को जबरदस्त प्रदर्शन देखने को मिला। अपना विरोध जताते हुए किसानों ने लाखों टन आलू मुख्यमंत्री आवास, विधानसभा और राजभवन के बाहर फेंक दिया। देखिए आखिर क्यों भड़क उठा आलू किसानों का गुस्सा।

6 जनवरी 2018