मंदिर से देवी काली की पंचधातु प्रतिमा चोरी

Bahraich Updated Wed, 21 Nov 2012 12:00 PM IST
महसी (बहराइच)। जैतापुर के देवपुरीधाम दुर्गा मंदिर में स्थापित मां काली की पंचधातु की बेशकीमती प्रतिमा पर सोमवार रात चोरों ने हाथ साफ कर दिया। चोर मंदिर का ताला काटकर घुसे थे। एसपी ने घटनास्थल का मुआयना किया है। गोंडा से डॉग स्कॉयड दस्ता भी बुलाया गया। मंदिर से कुछ दूरी पर चांदी का छत्र और सिंहासन बरामद हुआ है। इस मामले में मंदिर के पुजारी ने रिपोर्ट दर्ज करायी है। पुलिस ने पांच लोगों को हिरासत में लिया है। पूछताछ की जा रही है।
बौंडी थाना अंतर्गत ग्राम जैतापुर में देवपुरीधाम दुर्गा मंदिर स्थापित है। इस मंदिर में मां दुर्गा के विभिन्न स्वरूपों के साथ ही काली की प्रतिमा भी स्थापित थी। यह प्रतिमा पंचधातु (सोना, चांदी, तांबा, पीतल और कांसा) की बतायी जाती है। मंदिर के पुजारी रामगोपाल सोमवार रात 10 बजे पूजा अर्चना और आरती करने के बाद मंदिर का कपाट बंद कर अपने घर चले गए। सुबह 6 बजे जब वह पहुंचे तो मंदिर के मुख्य द्वार का ताला टूटा हुआ था। पुजारी अंदर गए तो पूजा सामग्री और बर्तन बिखरे पड़े थे। काली की प्रतिमा सिंहासन और छत्र समेत गायब थी। इस पर पुजारी सकते में आ गए। उन्होंने तत्काल गांव के लोगों को घटना की जानकारी दी। ग्रामीणों की सूचना पर पुलिस अधीक्षक जीपी कनौजिया, अपर पुलिस अधीक्षक विजय यादव, कैसरगंज, महसी और नानपारा के पुलिस क्षेत्राधिकारी मौके पर पहुंचे। एसपी ने तत्काल डीआईजी बीपी त्रिपाठी को घटना से अवगत कराया। डीआईजी के निर्देश पर गोंडा से डॉग स्कॉयड दस्ता प्रभारी प्रेमचंद की अगुवाई में घटनास्थल पर पहुंचा। दस्ते ने घंटे भर मंदिर परिसर व आसपास के क्षेत्र को खंगाला। इस दौरान नहर के किनारे काली का सिंहासन और बाग के निकट छत्र बरामद हुआ। मूर्ति का पता नहीं चल सका है। मंदिर के पुजारी रामगोपाल की तहरीर पर पुलिस ने घटना की रिपोर्ट दर्ज की है। पांच लोगों को हिरासत में लिया गया है। एसपी ने बताया कि अपर पुलिस अधीक्षक को मौके पर कैंप के निर्देश दिए गए हैं।
चार टीमें गठित
पुलिस अधीक्षक जीपी कनौजिया ने बताया कि इस मामले में चार टीमें गठित की गई हैं। सीओ कैसरगंज, महसी और नानपारा के नेतृत्व में एक-एक टीमें काम करेंगी जबकि एसओजी टीम अलग से मामले की पड़ताल करेगी। उन्होंने कहा कि शीघ्र ही खुलासा कर दिया जाएगा।
पहले भी मंदिर में हो चुकी छिटपुट चोरी
देवपुरीधाम दुर्गा मंदिर में वर्ष 1996 व 98 में लाउडस्पीकर पर चोरों ने हाथ साफ किया था। 1997 में घंटा चुराया गया था जबकि 1999 में काली मां के प्रतिमा की नथ और दानपात्र से चोरों ने नकदी उड़ाई थी।
1994 में हुई थी प्रतिमा की स्थापना
मंदिर के पुजारी रामगोपाल ने बताया कि वर्ष 1994 में काली की प्रतिमा जैतापुर निवासी दीनानाथ सोनी और उग्रसेन सिंह जयपुर से लेकर आए थे। पंचधातु की यह प्रतिमा विधि विधान से स्थापित की गई थी। चोरी हुई प्रतिमा की कीमत मंदिर समिति के पदाधिकारियों के मुताबिक लगभग ढाई से तीन लाख के आसपास है।
व्यापारियों ने एसपी को सौंपा ज्ञापन
महसी। देवपुरीधाम दुर्गा मंदिर में चोरी के बाद मंगलवार को जब एसपी जीपी कनौजिया पहुंचे तो ग्राम प्रधान देवी प्रसाद की अगुवाई में जैतापुर बाजार के व्यापारियों उनसे मिले। सभी ने मूर्ति चोरी की घटना से आहत होने की बात कहते हुए एसपी को ज्ञापन सौंपा। यह भी कहा है कि अगर शीघ्र ही मूर्ति चोरों को गिरफ्तार कर प्रतिमा की बरामदगी न हुई तो अनिश्चितकाल के लिए बाजार की बंदी कर धरना-प्रदर्शन शुरू किया जाएगा। इस दौरान रामलखन गुप्ता, राधे पांडेय, संजय गुप्ता, श्रवण कुमार, रामप्रकाश, प्रभाकांत, नागेश, सुबोध, पूरनचंद, पंकज, रवि, सोनू, अमित, रामकिशन, देवमणि, जनकलाल, आनंद पाठक आदि मौजूद रहे।

Spotlight

Most Read

Shimla

वन भूमि से 416 पेड़ काटने के मामले में आरोपी गिरफ्तार

वन भूमि से 416 पेड़ काटने के मामले में आरोपी गिरफ्तार

20 जनवरी 2018

Related Videos

जब रात में CM योगी के आवास के बाहर किसानों ने फेंके आलू

लखनऊ में आलू किसानों को जबरदस्त प्रदर्शन देखने को मिला। अपना विरोध जताते हुए किसानों ने लाखों टन आलू मुख्यमंत्री आवास, विधानसभा और राजभवन के बाहर फेंक दिया। देखिए आखिर क्यों भड़क उठा आलू किसानों का गुस्सा।

6 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper