बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
TRY NOW

तेंदुए को पकड़ने के लिए लगा पिंजरा

Bahraich Updated Sat, 13 Oct 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें
बिछिया (बहराइच)। संरक्षित वन क्षेत्र के कतर्नियाघाट और निशानगाड़ा रेंज में पखवारे भर से एक तेंदुआ आए दिन हमला कर रहा है। गुरुवार रात को तेंदुए ने एक किशोरी को हमला कर जख्मी कर दिया था। तेंदुए की दहाड़ से लोग रात भर सो नहीं सके। ग्रामीणों की सूचना पर वन विभाग ने उत्पाती तेंदुए को पकड़ने की योजना बनाई है। इसके तहत शुक्रवार दोपहर में गांव के बाहर पिंजरा लगाया
विज्ञापन

गया है।
कतर्नियाघाट संरक्षित वन क्षेत्र के कतर्नियाघाट और निशानगाड़ा रेंज में स्थित गांवों में पखवारे भर से तेंदुआ लोगों पर हमला कर रहा है। गिरिजापुरी, जमुनिहा कारीकोट, रमपुरवा मटेही, आंबा, बर्दिया गांव के लोग तेंदुए के हमले से दहशत मे हैं। हद तो तब हो गई जब गुरुवार रात जंगल से निकलकर आए तेंदुए ने जमुनिहा कारीकोट गांव निवासी राजेंद्र के घर में घुसकर रिंकी (14) पर हमला कर उसे लहूलुहान कर दिया। किसी तरह ग्रामीणों ने शोर मचाकर तेंदुए के शिकंजे से रिंकी को छुड़ाया गया। मौके पर तो तेंदुआ जंगल की ओर चला गया लेकिन रात 12 बजे के आसपास गांव की पगडंडियों पर तेंदुए ने चहलकदमी करते हुए दहाड़ लगाई। सुबह पहुंचे वनकर्मियों ने पगचिन्हों के आधार पर तेंदुए के आमद की पुष्टि भी की। निरंतर हो रहे हमले और गांव में पूरी रात तेंदुए के चहलकदमी को गंभीरता से लेते हुए वन विभाग ने गांव में पिंजरा लगा दिया। वन क्षेत्राधिकारी वसी इकबाल नकवी ने बताया कि तेंदुए का हमला रोकने के लिए पिंजरा लगाया गया है। उसे पकड़ने के बाद गेरुआ नदी के उस पार छोड़ा जाएगा जिससे कि गांव में हमले कम हो सके।

आदमखोर नहीं है : डीएफओ
तेंदुए को पिंजरा लगाकर पकड़ने के मामले में प्रभागीय वनाधिकारी आरके सिंह का कहना है कि तेंदुआ आदमखोर नहीं हुआ है। लेकिन बढ़ रहे हमले के चलते यह एहतियात बरती जा रही है। उन्होंने कहा कि कोई भी बाघ या तेंदुआ तब आदमखोर होता है जब वह तीन से अधिक मनुष्यों का शिकार करे। उन्होंने कहा कि हो सकता है जंगल के किनारे पर रहने के चलते तेंदुआ आबादी में दस्तक दे रहा हो। पिंजरे में पकड़कर उसे घने जंगल में पहुंचाया जाएगा।
पिंजरे में बांधी गई बकरी
डीएफओ ने बताया कि तेंदुए को काबू में करने के लिए पिंजरे में बकरी बांधी जाएगी। इस बकरी के लिए ही तेंदुआ पिंजरे तक पहुंचेगा। उन्होंने कहा कि दो वन रक्षकों की ड्यूटी भी लगा दी गई है जो पिंजरे पर नजर रखेंगे।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us