बाघ के शिकार की फिराक में एक धरा गया

Bahraich Updated Sun, 07 Oct 2012 12:00 PM IST
बहराइच। कतर्नियाघाट संरक्षित वन क्षेत्र के निशानगाड़ा रेंज में पुलिस और वन विभाग ने संयुक्त कांबिंग के दौरान बाघ के शिकार की फिराक में एक व्यक्ति को दबोचा है। वह हरियाणा का निवासी बताया जाता है। पूछताछ के दौरान गिरफ्तार व्यक्ति ने अपने को बावरिया गिरोह का सदस्य भी बताया है। शिकार की फिराक में वह एक माह से जंगल के आसपास रह रहा था। कांबिंग टीम ने उसके पास से बाघ के शिकार में प्रयुक्त होने वाला कुड़का और तेज जहर भी बरामद किया है। तीन अन्य सहयोगी फरार हो गए हैं। उनकी तलाश में छापेमारी की जा रही है।
कतर्नियाघाट संरक्षित वन क्षेत्र नेपाल सीमा से सटा हुआ है। इस जंगल में लगभग 38 बाघ विचरण करते हैं। तेंदुओं की संख्या भी 30 के आसपास है। इन दुर्लभ वन्यजीवों पर शिकारियों की नजर अरसे से गड़ी हुई है। बाघ का शिकार करने के लिए माह भर पूर्व हरियाणा से दो शिकारी बहराइच आए थे। इसकी सूचना भी वन विभाग को मिली थी जिसके चलते एसएसबी और पुलिस के सहयोग से निरंतर कांबिंग चल रही थी। शुक्रवार रात दो बजे के आसपास वन क्षेत्राधिकारी, वन दरोगा, वन रक्षक, मुर्तिहा कोतवाली के प्रभारी निरीक्षक, उपनिरीक्षक और दो सिपाही जंगल में गश्त कर रहे थे। इसी दौरान निशानगाड़ा रेंज के बीट संख्या 12 व कक्ष संख्या एक में चार लोग संदिग्ध हालत में छिपते दिखे। पुलिस और वनकर्मियों ने घेराबंदी की तो सभी भागने लगे। एक व्यक्ति को दबोच लिया गया। उसके पास से कुड़का(बाघ के शिकार में प्रयोग किया जाने वाला औजार), कुल्हाड़ी, टॉर्च और जहर की शीशी बरामद हुई है। दबोचे गए व्यक्ति की पहचान प्रताप सिंह, निवासी डाटा थाना हांसी हरियाणा के रूप में हुई है। प्रताप ने स्वीकार किया कि वह बाघ का शिकार करने की फिराक में एक माह से क्षेत्र में रह रहा है। प्रभागीय वनाधिकारी आरके सिंह ने बताया कि प्रताप के खिलाफ वन्यजीव संरक्षण अधिनियम के तहत केस दर्ज कर जेल भेज दिया गया है।
बाघ के शिकार के बाद 50 हजार रुपये मिलते
दस हजार में तैयार किया था साथियों को
अमर उजाला ब्यूरो
बहराइच। बाघ के शिकार की फिराक में पकड़े गए प्रताप सिंह ने बताया कि बाघ का शिकार करने के बाद उसे खाल व अन्य अवयवों को दिल्ली पहुंचाना था। वहां पर उसे 50 हजार रुपये शिकार व कैरिंग के मिलते।
उसने खुलासा किया उसने पृथ्वीपुरवा हरखापुर निवासी जगदीश व उर्रा निवासी प्रेम पाल को 10 हजार रुपये शिकार के बाद देने की बात कहकर उनका सहयोग लिया था। यह भी बताया कि उसके साथ पंजाब निवासी देशराज नामक युवक भी आया था लेकिन वह सभी कांबिंग टीम को चकमा देकर फरार होने में सफल रहे। प्रभागीय वनाधिकारी आर के सिंह ने बताया कि पूछताछ के दौरान प्रताप ने बताया कि शिकार के बाद उसे खाल व अन्य अवयवों को दिल्ली पहुंचाना था। वहां पर उसे 50 हजार रुपये शिकार व कैरिंग के लिए दिए जाते। गिरफ्तार प्रताप ने बताया कि वह बावरिया गिरोह का सक्रिय सदस्य है।
क्या है कुड़का
प्रभागीय वनाधिकारी आरके सिंह ने बताया कि कुड़का लोहे का बाघ के पंजे का आकारका बनाया जाता है। जो चंद्राकार होता है। इसमें स्प्रिंग लगी होती है। जंगल में बाघ के निकलने वाले रास्ते पर गड्ढा खोदकर उसमें कुड़का लगा दिया जाता है। बाघ के निकलने पर कुड़का उसके पंजे में कस जाता है। जिससे न वह शिकार कर पाता है न ही भाग पाता है। आसानी से शिकारियों के हत्थे चढ़ जाता है।
चीन को होती है खाल व अवयव की तस्करी
वन व पुलिस महकमे के हत्थे चढ़े हरियाणा निवासी प्रताप ने बताया कि बाघ के खाल और अवयव की तस्करी दिल्ली के रास्ते चीन को होती है। बाघ की एक खाल चीन समेत अन्य राष्ट्रों में 70-80 लाख रुपये में बिकती है। हड्डी व अन्य अवयव का उपयोग दवाइयां बनाने के काम में आता है।
पहले भी हुआ है शिकार
वर्ष 2005 में मिहींपुरवा रेलवे स्टेशन पर बावरिया गिरोह की एक महिला को बाघ की खाल व अवयव के साथ पकड़ा गया था। इसके बाद 20 जनवरी 2009 को रुपईडीहा थानाक्षेत्र के बस स्टेशन रुपईडीहा से बाघ की दो खालें सूटकेस से बरामद हुई थीं। कीमत 1 करोड़ 28 लाख आंकी गई थी। 14 फरवरी 2009 को जरवलरोड पुलिस ने लकड़बग्घे की खाल सहित तीन लोगों को गिरफ्तार किया था। खाल की कीमत 5 लाख रुपए आंकी गई थी।

Spotlight

Most Read

Gorakhpur

मानबेला : अफसरों के जाते ही किसानों ने उखाड़ फेंका कब्जे का खूंटा

जीडीए ने पैमाइश के बाद खूंटा गाड़कर राप्ती नगर विस्तार आवासीय योजना के आवंटियों को दिया था कब्जा

19 जनवरी 2018

Related Videos

जब रात में CM योगी के आवास के बाहर किसानों ने फेंके आलू

लखनऊ में आलू किसानों को जबरदस्त प्रदर्शन देखने को मिला। अपना विरोध जताते हुए किसानों ने लाखों टन आलू मुख्यमंत्री आवास, विधानसभा और राजभवन के बाहर फेंक दिया। देखिए आखिर क्यों भड़क उठा आलू किसानों का गुस्सा।

6 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper