दिमागी बुखार से दो की जान गई

Bahraich Updated Wed, 29 Aug 2012 12:00 PM IST
बहराइच। वायरल के साथ एक्यूट इंसेफ्लाइटिस (दिमागी बुखार) भी कहर बरपने लगा है। जिला अस्पताल में एक्यूट इंसेफ्लाइटिस से भर्ती दो युवकों की इलाज के दौरान मंगलवार सुबह मौत हो गई। 29 नए रोगी भर्ती हुए हैं। इनमें नौ की हालत नाजुक है। एक रोगी को चिकित्सा विश्वविद्यालय लखनऊ रेफर किया गया है। अचानक मरीजों की संख्या बढ़ने और संसाधनों की कमी सभी को बेहाल कर रही है। बेड के अभाव में रोगी जमीन पर भर्ती होकर इलाज कराने को मजबूर हैं। किसी की ड्रिप रोशनदान में टंगी हुई है तो किसी की पेड़ की डाल पर। मरीजों की दुर्दशा है।
जिले में पहले डायरिया फिर वायरल और अब दिमागी बुखार कहर बरपा रहा है। स्थिति दिनों-दिन बिगड़ती जा रही है। जिला चिकित्सालय में दो दिन पूर्व बुखार से ग्रसित होकर श्रावस्ती के भिनगा निवासी पीतांबर (27) को भर्ती किया गया था। इसी दौरान रानीपुर निवासी सुरेंद्र (40) को भी परिजनों ने जिला अस्पताल में पहुंचाया था। बुखार के इन दोनों रोगियों की हालत मंगलवार सुबह बिगड़ गई। जीवनरक्षक दवाइयों का इस्तेमाल करने के बावजूद दोनों की जान नहीं बच सकी। 29 नए रोगी भर्ती हुए हैं। इनमें तिलकराम (6) परसा, पवन (2) गोड़हिया, प्रवीन (4) धर्मपुर, संतोष (5) बनकटी, प्रभाकर (11) परसिया, पिंकू (4) जमुनहा, मोती (7) चंदापुर, पूनम (10) राजा रेहुआ, शिवम (4) रुपईडीहा, अंकित (9) ललिया, अनुभव (10) खमरिया, सिराजुल (11) गुरघुट्टा, संदीप (7) टेपरहा, अंसारी (10) भकला बाजार, शबनम (3) अलीनगर, नीलम (5) गेंधरिया, शोभी (5) अवस्थीपुरवा, उत्तम (10) लौकाही, शबा (10) किला, ममतादेवी (11) गलगलकोटिया, सावित्री (3) बैकुंठा, तौफीक (10) बघौली, अली खान (12) दरगाह, अभिषेक (3) बाजपेईपुरवा, सचिन (6) हुजूरपुर, विकास (10) श्यामपुर नदौना औहरुलन्निशां (10) सेमगढ़ा शामिल हैं। इनमें पवन, शिवम, नीलम, शोभी, उत्तम, सबा, ममता, सावित्री और अभिषेक की हालत नाजुक है। पवन को डॉक्टरों ने चिकित्सा विश्वविद्यालय लखनऊ के लिए रेफर कर दिया है। इन 29 मरीजों के भर्ती होने के साथ ही चिल्ड्रेन वार्ड में बुखार ग्रसित रोगियों की संख्या 100 पार हो गई है। यही स्थिति जिला अस्पताल के पुरुष विभाग की है। चिल्ड्रेन वार्ड और पुलिस अस्पताल में मरीजों को बेड नहीं मिल पा रहे हैं जमीन पर लेटाकर ड्रिप चढ़वाई जा रही है। मुख्य चिकित्सा अधीक्षक के मुताबिक बुखार से दम तोड़ने वाले दोनों लोगों में दिमागी बुखार के लक्षण मिले हैं।
380 मरीजों का हुआ परीक्षण
जिला चिकित्सालय के चिल्ड्रेन वार्ड की ओपीडी में अभी तक अधिकतम मरीजों की संख्या सवा दो सौ तक ही रहती थी लेकिन तराई में मौसम परिवर्तन के चलते अचानक मरीजों के बढ़ने से मंगलवार को चिल्ड्रेन वार्ड के ओपीडी में 380 मरीजों का परीक्षण हुआ। जिला चिकित्सालय के बाल रोग विशेषज्ञ डा. केके वर्मा ने बताया कि अचानक मरीजों की संख्या बढ़ी है जिससे कुछ परेशानियां आ रही हैं।
मच्छर के काटने से होता है
जिला चिकित्सालय के बाल रोग विशेषज्ञ डॉ. केके वर्मा ने बताया कि इंसेफ्लाइटिस का बुखार मच्छर के काटने से होता है। एनाफिलीज मादा मच्छर जब सुअर को डंक मारनेे के बाद मनुष्य के शरीर में डंक चुभोती है। तभी इंसेफ्लाइटिस का बुखार शुरू होता है। इसके लिए सुअर बाड़ों की साफ सफाई करते रहना चाहिए। मच्छर न काटे इसके लिए व्यक्ति को शरीर ढककर रखना चाहिए।
हो सकते हैं अपंग
जिला चिकित्सालय के वरिष्ठ फिजीशियन डॉ. आरबी सिंह ने बताया कि इंसेफ्लाइटिस ऐसा बुखार है जिसके ठीक होने के बावजूद 60 फीसदी रोगी अपंगता के शिकार हो जाते हैं।

Spotlight

Most Read

Lucknow

रायबरेली: गुंडों से दो बहनों की सुरक्षा के लिए सिपाही तैनात, सीएम-पीएम को लिखा था पत्र

शोहदों के आतंक से परेशान होकर कॉलेज छोड़ने वाली दोनों बहनों की सुरक्षा के लिए दो सिपाही तैनात कर दिए गए हैं। वहीं एसपी ने इस मामले में ठोस कार्रवाई के निर्देश दिए हैं।

24 जनवरी 2018

Related Videos

जब रात में CM योगी के आवास के बाहर किसानों ने फेंके आलू

लखनऊ में आलू किसानों को जबरदस्त प्रदर्शन देखने को मिला। अपना विरोध जताते हुए किसानों ने लाखों टन आलू मुख्यमंत्री आवास, विधानसभा और राजभवन के बाहर फेंक दिया। देखिए आखिर क्यों भड़क उठा आलू किसानों का गुस्सा।

6 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper