सहमी-सहमी सी है हर ‘बाला’

Baghpat Updated Thu, 20 Dec 2012 05:30 AM IST
बागपत।
: बदनजर उठने ही वाली थी किसी की जानिब
अपनी बेटी का ख्याल आया तो दिल कांप गया
- डाक्टर नवाज देवबंदी

: बेटियां जबसे मेरी बड़ी होने लगी हैं
मुझको इस दौर के गाने नहीं अच्छे लगते
- डाक्टर उर्मिलेश शंखधर

एक उर्दू का शायर। दूसरा हिन्दी का कवि। दोनों के सीने में एक जैसा दर्द। और ये पीड़ा सिर्फ कवि और शायर की नहीं, हर मां-बाप की है। बेटी जैसे ही घर की देहरी से कदम बाहर रखती है, मां का दिल यह सोचकर घबराने लगता है कहीं उसके साथ कुछ हो न जाए। और तो और, जब ऐसी खबरें आएं दिल्ली में चलती बस में गैंगरेप। बागपत के हमीदाबाद में बच्ची से रेप के बाद बेरहमी से कत्ल। ऐसे में जब तक बेटी सुरक्षित घर नहीं पहुंचती है, मां-बाप के आंखों की नींद उड़ी रहती है। सवाल यह उठता है कि आखिर बेटियां महफूज क्यों नहीं हैं? क्यों वहशी नजरें घूरती हैं स्कूल जाती लड़कियों को? उन्हें क्या-क्या सहना पड़ता है?
देखिए यह लाइव रिपोर्ट....

- सीन - 1 : दोपहर के डेढ़ बजे हैं। चमरावल रोड पर डिग्री कॉलेज से छात्राएं निकल रही हैं। तभी अचानक बाइक दौडा़ते मनचले पहुंच गए हैं। लड़कियों के आस पास तेजी से बाइक घुमा रहे हैं। फब्तियां कस रहे हैं।
- सीन - 2 : पौने दो बजे हैं। दिल्ली रोड पर एक बाइक पर सवाल तीन लड़के लड़कियों का पीछा कर रहे हैं। बाइक कार से टकराती है, हंगामा शुरु हो जाता है।
- सीन - 3 : दोपहर के दो बजे हैं। दो लड़कियां जीप में सवार हो रही हैं। यह देख वहां खड़े युवक भी उनके पीछे पीछे सवार होने लगते हैं।
- सीन - 4 : ढाई बजे हैं। अहेड़ा रेलवे हाल्ट पर लड़कियां ट्रेन पर लटक रही हैं। यह देख एक लड़का भी लड़की के हाथ से हाथ सटाकर लटक गया।
इस दौरान कॉलेज से लेकर रेलवे हॉल्ट तक कहीं कोई पुलिस वाला नहीं दिखा। महिला थाना डिग्री कॉलेज के पास ही है लेकिन मनचलों में पुलिस का जरा भी डर नजर नहीं आता।


दरिंदगी की दास्तां
- 10दिसंबर : इद्रीशपुर गांव की महिला को लिफ्ट देकर किया दुष्कर्म
- 9दिसंबर : हमीदाबाद में छह वर्षीय बच्ची से रेप कर हत्या
- 3दिसंबर : खेकड़ा अस्पताल में उपचार कराने आई किशोरी से छेडछाड़
- 1 दिसंबर : शहर के हनुमान मंदिर की महिला से छेड़छाड़ कर दुष्कर्म का प्रयास
- 28 नवंबर : दोघट की किशोरी का अपहरण कर दुष्कर्म किया गया।
- 25 नवंबर : खेकड़ा की किशोरी का अपहरण कर दुष्कर्म किया

क्या कहतीं हैं छात्राएं
:: कॉलेज की छुट्टी होते ही मनचले आ जाते हैं। छात्राओं पर फब्ती कसते हैं। पुलिस छेड़छाड़ को लेकर गंभीर नहीं - पारुल
:: कॉलेज के आस पास ही नहीं, बाजार में भी लड़कियों से छेड़छाड़ होती हैं। पैंठ में मनचले अश्लील हरकतें करते हैं - रितिमा
:: पुलिस के भरोसे रहने से कुछ नहीं होगा। अब तो लड़कियों को मनचलों को खुद ही सबक सिखाना होगा - निशा कर्णवाल।
:: मनचले बाइकों पर स्टंट दिखाते हैं। लड़कियों को देखकर फब्तियां कसते हैं। पुलिस को अभियान चलाना चाहिए - चंचल
:: कॉलेज खुलने और छुट्टी के समय सबसे ज्यादा छेड़छाड़ होती है। अगर पुलिस चेकिंग करे तो मनचले पकड़े जाएं - निधि।




जिम्मेदार कौन ?

सुरक्षित नहीं महिलाएं
एसपीसी डिग्री कॉलेज की जीव विज्ञान की विभागाध्यक्ष रजनी चौहान कहती है कि आज की पीढ़ी में नैतिकता और संस्कारों की कमी है। इसके चलते इस तरह की घटनाएं बढ़ रही हैं।

परिजन नहीं देते ध्यान
कामर्स की प्रोफेसर डॉक्टर बबली कहती है कि अभिभावकों के पास बच्चों के लिए समय नहीं। वे नहीं देख रहे कि बच्चे बिगड़ रहे हैं। उन्हें पता ही नहीं चलता बच्चा कब हाथ से निकल जाता है।

तमाशबीन न बने लोग
अंग्रेजी की प्रोफेसर आरती भेड़ा का कहना है छेड़छाड़ की ज्यादातर घटनाएं भीड़भाड़ वाली जगहों पर होती हैं। लोग मनचलों को देखते रहते हैं। उन्हें कोई रोकता नहीं, इससे उनका हौंसला बढ़ता है।

कमजोर समझी जाती है महिला
मनोविज्ञान की प्रोफेसर डॉक्टर विद्योत्तमा कहती है कि समाज में अभी भी शिक्षा का अभाव है। महिलाओं को कमजोर समझा जाता है। यही वजह है कि महिलाओं के साथ छेड़छाड़, दुष्कर्म जैसी घटनाएं लगातार बढ़ रही हैं।

नेट और सिनेमा भी है जिम्मेदार
डाक्टर राजलक्ष्मी कहती हैं कि बच्चे इंटरनेट और सिनेमा से गलत शिक्षा ग्रहण कर रही हैं, जो उन्हें बिगाड़ रही है। मां-बाप को देखना चाहिए कि बच्चा नेट पर क्या देख रहा है।

Spotlight

Most Read

Kanpur

एक्सप्रेस-वे का काम अधूरा, टोल टैक्स देना पड़ेगा पूरा 

लखनऊ-आगरा एक्सप्रेस-वे पर 19 जनवरी की मध्य रात्रि से टोल टैक्स तो शुरू हो जाएगा लेकिन एक्सप्रेस-वे पर तैयारियां आधी-अधूरी हैं। एक्सप्रेस-वे के किनारे न रेस्टोरेंट बने और न होटल। कई जगह पर बैरीकेडिंग टूटने से जानवर भी सड़क  पर आ जाते हैं।

18 जनवरी 2018

Saharanpur

हज

19 जनवरी 2018

Related Videos

NGT के एक आदेश पर ये बोले केंद्रीय राज्यमंत्री डॉ सत्यपाल सिंह

बागपत में केंद्रीय मानव संसाधन राज्यमंत्री डॉ सत्यपाल सिंह ने एनजीटी के इस आदेश का सही बताया जिसमें NGT ने फैक्ट्रियों की जांच के लिए कहा था।

18 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper