मूलभूत समस्याओं पर चिंतन करें किसान : जयंत

Baghpat Updated Mon, 03 Dec 2012 05:30 AM IST
बड़ौत। गुरुकुल इंटरनेशनल स्कूल जिवाना गुलियान में सम्मेलन में किसान की दशा पर विस्तार से विचार से चर्चा की गई। किसान नेताओं ने सुझाव दिए कि किसान बिरादरी जब तक एक मंच पर नहीं आएगी, तब तक उनके साथ अन्यायपूर्ण रवैया बंद नहीं हो सकेगा।
किसान सम्मेलन में सांसद और रालोद के राष्ट्रीय महासचिव जयंत चौधरी ने कहा कि वे किसान की राजनैतिक पहचान को लेकर चिंतित हैं। आज संसद में भी किसानों की आवाज कमजोर पड़ जाती है। उन्होंने कहा कि नौजवानों को संस्कारवान बनाकर उन्हें आगे लाने की जरूरत है। हमें ऐसे सम्मेलनों में बैठकर किसानों की मूलभूत समस्याओं पर चिंतन करना चाहिए। उन्होंने कहा कि आज किसानों को बिजली, नहरोें से पानी, खाद, बीज नहीं मिल रहा है और उन्हें उनकी फसल का उचित मूल्य भी नहीं मिल पा रहा है। उन्होंने कहा कि मंडी के भाव कौन निर्धारित करे, इसको लेकर उनके बाबा ने भी आवाज उठाई थी। किसानों से कहा कि आज पैदावार बढ़ाने की जरूरत है। विज्ञान बहुत आगे बढ़ चुका है। चीन ने काफी प्रगति की है। उन्होंने एफडीआई पर अधिक न बोलते हुए इतना कहा कि यह मामला संसद में उठा हुआ है और उस पर चर्चा चल रही है। इस पर अभी बोलना ठीक नहीं है। भूमि अधिग्रहण पर जयंत चौधरी ने कहा कि अफसर बैठकर भूमि का भाव तय न करें और भूमि सीधे भूमि मालिकों से खरीदी जाए।
सम्मेलन की अध्यक्षता करते हुए राजस्थान से आए स्वामी ओम पूर्ण स्वतंत्र ने कहा कि देश आजाद हो चुका है, लेकिन आजादी अभी लाल किले पर है। वह इस देश की जमीन पर नहीं आई है। इस देश में गांवों की संख्या 70 फीसदी है और गांव के ही लोग वोट देकर सरकार बनाते हैं लेकिन किसान एकजुट नहीं हैं। इसके चलते वह आत्महत्या तक करने को मजबूर है। यदि किसान चाहे किसान भी प्रदेश का हो एकजुट नहीं होगा तो वह अपने हकों की लड़ाई न लड़ पाएगा। इसी को लेकर उन्होने दो अक्तूबर 2012 में देश के किसान को जगाकर आंदोलन छेड़ा है। रालोद के प्रदेश अध्यक्ष मुन्ना सिंह चौहान ने कहा कि आज किसानों की स्थिति बदतर है और सभी सरकारें किसानों की दुश्मन है। आज भी वही कानून भूमि अधिग्रहण पर लागू है जो अंग्रेजी शासन में था। इसके विरुद्ध जयंत चौधरी संसद में लड़ रहे हैं। अभी तक कुछ गन्ना मिलें ही चल पाई हैं और सरकार ने गन्ना मूल्य तक घोषित नहीं किया है। इसके लिए भी रालोद लड़ाई लड़ रहा है। सम्मेलन में हरियाणा से सत्यवीर चाहल, सुप्रीम कोर्ट के सदस्य मोहर सिंह आदि ने भी विचार रखे।
सम्मेलन का संचालन संयोजक प्रोफेसर बलजीत आर्य ने किया। इस अवसर पर रालोद के मंडल अध्यक्ष सुखवीर सिंह गठिना, जिलाध्यक्ष अनिल जैन, धनपाल निबाली, विधायक वीरपाल राठी, पूर्व विधायक डा. अजय तोमर, धर्मेंद्र प्रमुख, नीलदमन खत्री, कर्नल ब्रह्म सिंह तोमर, रामकुमार चेयरमैन, बाबा रामकृष्ण देव, डा. अनिल आर्य, महिपाल नैन, अश्वनी चेयरमैन आदि उपस्थित रहे।

पगड़ी पहनाकर स्वागत
बड़ौत। सम्मेलन में आए किसान नेताओं का सांसद जयंत चौधरी द्वारा पगड़ी भेंटकर स्वागत कराया गया। इसके उपरांत जयंत चौधरी का प्रोफेसर बलजीत सिंह ने पगड़ी बांधकर स्वागत किया। उन्हें स्कूली बच्चों के बैंड के साथ मंच तक लाया गया। सभी अतिथियों को प्रतीक चिन्ह देकर सम्मानित किया गया।

जयंत का स्वागत
बड़ौत। मेरठ से जिवाना गुलियान आते समय बरनावा गांव में रालोद कार्यकर्ताओं ने जयंत चौधरी व रालोद के प्रदेश अध्यक्ष मुन्ना सिंह का स्वागत किया। स्वागत करने वालों में जिलाध्यक्ष अनिल जैन, कर्नल ब्रह्मपाल तोमर, डा. अनिल आर्य, राजू तोमर सिरसली, प्रवीण तोमर सिरसली, अनवार प्रधान, बिजेंद्र गुर्जर, उत्तम त्यागी, नरेश त्यागी, भूरू कुरैशी, प्रवेंद्र तोमर, अजय रमाला, दीपू तोमर, अमित, गजेंद्र, मोनू शर्मा, राहुल पटवारी, महताब आलम, मनोज जैन आदि शामिल रहे।

Spotlight

Most Read

Lucknow

यूपी में नौकरियों का रास्ता खुला, अधीनस्‍थ सेवा चयन आयोग का हुआ गठन

सीएम योगी की मंजूरी के बाद सोमवार को मुख्यसचिव राजीव कुमार ने अधीनस्‍थ सेवा चयन बोर्ड का गठन कर दिया।

22 जनवरी 2018

Related Videos

‘आओ साइकिल चलाएं’ कार्यक्रम का आयोजन, होगा ये फायदा

बागपत में एक पेट्रोल पंप पर 'आओ साइकिल चलाएं' कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में केंद्रीय मानव संसाधन राज्यमंत्री डॉ सत्यपाल सिंह भी शामिल हुए।

22 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper