राजतिलक की भई तैयारी, कैकेयी की मति गई मारी

Baghpat Updated Thu, 18 Oct 2012 12:00 PM IST
बागपत। अयोध्या में राजतिलक की तैयारी चल रहीं हैं। राजभवन में खुशियां मनाई जा रहीं हैं। तीनों रानियां खुश हैं, लेकिन दासी मंथरा मन ही मन में षड्यंत्र रच रही है, कैकेयी को भड़का दिया और कैकेयी की मति मारी गई, कोप भवन में पहुंच गई।
शहर में चल रही रामलीलाओं में राम के राजतिलक से लेकर राम वन गमन तक की लीला का मंचन किया गया। श्री रघुवर लामलीला समिति द्वारा ठाकुरद्वारा में आयोजित रामलीला में तथा श्री आदर्श रामलीला मंडल द्वारा कस्बा स्थित बागेश्वर महादेव मंदिर में आयोजित रामलीला में राम जनकपुरी से अपने तीनों भाइयों एवं सभी की पत्नियों के साथ अयोध्या पहुंचे तो अयोध्यावासी खुशी से झूम उठे। लोग उनकेस्वागत के लिए दौड़ पड़े। महलाें में खुशियां मनाई गईं, माताओं ने आरती उतारी और आशीर्वाद दिया। भरत और शुत्रघ्न अपने ननिहाल चले गए।
उधर राजा दशरथ ने मंत्रियों से मंत्रणा कर राम के राजतिलक की तैयारी शुरू कर दीं। राजभवन में खुशियां मनाई जाने लगीं। कौशल्या, सुमित्रा और कैकेयी भी खुश नजर आ रहीं थीं, लेकिन कैकेयी की दासी मंथरा का कुछ और ही इरादा था। उसने कैकेयी को भड़काना शुरू किया, उसने कैकेयी की बुद्धि बांध दी, जिससे कैकेयी की मति मारी गई। उसने अपने दोनों वरदान मांगने के लिए कहा, जिसमें राम को 14 वर्ष का वनवास और भरत को राजगद्दी मांगने के लिए कहा। कैकेयी सीधे कोप भवन में पहुंच गई। राजा दशरथ उसे मनाने के लिए पहुंचे तो उसने दोनों वरदान देने के लिए कहा। कैकेयी के दोनों वरदान सुनकर राजा दशरथ के होश उड़ गए। उन्होंने कैकेयी को काफी समझाने का प्रयास किया, लेकिन वह नहीं मानी। आखिरकार राजा दशरथ ने अपने प्राणों से भी अधिक महत्व रघुकुल रीति का दिया और दिल पर पत्थर रखते हुए राम को वन जाने की आज्ञा दे दी। राम वन जाने की तैयारी करने लगे तो पत्नी सीता और भाई लक्ष्मण भी साथ हो लिए। जिससे अयोध्या में शोक छा गया।
श्री आदर्श रामलीला समिति द्वारा बड़ा बाजार में आयोजित रामलीला में राम सीता विवाह का मंचन किया गया।
अग्रवाल मंडी टटीरी। आदर्श रामलील कमेटी द्वारा रेलवे मैदान में आयोजित रामलीला में दशरथ मरण की लीला का मंचन किया गया। रामलीला में प्रेमशंकर शर्मा, अनिल कुमार, यूनुस खान, संदीप पांचाल, जतिन शर्मा, पराग गर्ग, रामकुमार, सूरज, सुभाष आदि ने सहयोग दिया।
अमीनगर सराय में श्री सनातन धर्म समाज की रामलीला में केवट संवाद का मंचन किया गया। भगवान राम ने केवट से सरयू नदी पार कराने के लिए कहा तो केवट ने नद पार कराने से मना कर दिया और कहने लगा कि आपके चरणों से तो सिला भी अहिल्या बन गई थी तो मेरी नाव तो मेरी रोजी रोटी है, पहले आम मुझे अपने चरणों को धो लेने दीजिए, उसके बाद ही मैं आपको सरयू नदी पार कराउंगा। केवट ने उनके चरण धोकर जल पीया।

Spotlight

Most Read

Chandigarh

पंजाब: कैबिनेट मंत्री राणा गुरजीत सिंह ने दिया इस्तीफा

पंजाब के कैबिनेट मंत्री राणा गुरजीत सिंह ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। राणा गुरजीत ऊर्जा एवं सिंचाई विभाग के मंत्री थे।

16 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: BSP समर्थकों ने मायावती के केक खाने को लेकर की छीनाझपटी

बागपत में मायावती के जन्मदिन का केक काटते वक्त लूट मच गई। जन्मदिन का केक काटने पहुंचे बीएसपी समर्थक केक की छीनाझपटी पर उतर आए।

16 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper