सोनीपत में अल्ट्रासाउंड, गाजियाबाद में अबॉर्शन

Baghpat Updated Tue, 02 Oct 2012 12:00 PM IST
बागपत। बेटी बचाने के लिए भले ही कितना हल्ला मचाया जा रहा हो, लेकिन कन्याओं का कोख में कत्ल रुक नहीं है। स्वास्थ्य विभाग की ताजा सर्वे रिपोर्ट में एक बार फिर झकझोर देने वाला यह भयावह सच सामने आया है। पानीपत और सोनीपत के अल्ट्रासाउंड सेंटरों पर चोरी छिपे लिंग निर्धारण किया जा रहा है। शामली, मेरठ, गाजियाबाद और शाहदरा में अबार्शन से बेटियों को जन्म लेने से पहले ही मारा जा रहा है। सबसे हैरानी तो ये जानकर होती है कि कई ऐसे सेंटर भी हैं जो लिंग का पता लगाकर लड़की होने की सूरत में उसकी हत्या करने तक का पैकेज बता रहे हैं।
बागपत में सोमवार को पीसीएनडीटी एक्ट कमेटी, एनजीओ वात्सल्य, एक्शन एड, समर्थ फाउंडेशन ने एक सेमिनार में एनुअल हेल्थ सर्वे रिपोर्ट 2010-2011 के हवाले से मीडिया को इसकी जानकारी दी। रिपोर्ट के खास तौर से ऐसे जिलों का उल्लेख किया गया है जहां गर्भधारण के तीन महीने बाद महिलाओं ने अबॉर्शन कराया और इससे पहले अल्ट्रासाउंड कराया गया। ये केस कन्या भ्रूण हत्या के माने जाते हैं। कारण ये है कि भ्रूण तीन महीने का होने पर ही अल्ट्रासाउंड से लिंग का पता चलता है। एनआरएचएम के मेरठ मंडल के परियोजना प्रबंधक सचिन ने बताया कि सोनीपत और शाहदरा में ऐसे अल्ट्रासाउंड सेंटर चल रहे हैं जहां लिंग निर्धारण किया जा रहा है। लोनी बार्डर में तो मोबाइल वैन खड़ी रहती है जिनमें एजेंट के माध्यम से महिलाओं को ले जाया जाता है। सीएमओ डा. जेपी शर्मा ने भी इस बात की तसदीक की। उनका कहना है कि स्वास्थ्य विभाग ने एनजीओ, ग्रामीण संगठनों और अन्य माध्यमों से सर्वे कराया है। इसमें भी यही आया है कि बागपत के आस पास ऐसे अल्ट्रासाउंड सेंटर चल रहे हैं जहां चोरी छिपे लिंग निर्धारण किया जा रहा है। कई जगह तो लिंग निर्धारण से अबॉर्शन तक का पैकेज तय कर दिया गया है। इस बारे में मेरठ, गाजियाबाद, शामली, सोनीपत के सीएमओ को लिखा भी जा चुका है। वहां कार्रवाई भी हुई है।

जनपद अबॉर्शन से लिंगानुपात
पहले अल्ट्रासाउंड
बागपत 38.0 प्रतिशत 850
बिजनौर 35.0 प्रतिशत 870
बुलंदशहर 38.2 प्रतिशत 844
गौतमबुद्धनगर 46.6 प्रतिशत 845
गाजियाबाद 41.8 प्रतिशत 850
मुजफ्फरनगर 22.0 प्रतिशत 858
सहारनपुर 24.9 प्रतिशत 883
मेरठ 26.2 प्रतिशत 850

बिजनौर में हालत ज्यादा खराब
बागपत। 2001 और 2011 की जनसंख्या के आंकड़ों में शून्य से छह वर्ष तक के शिशु लिंगानुपात गिरावट में प्रदेश के 13 जिलों में हालत ज्यादा खराब मिली है। इनमें बिजनौर भी शामिल है। यहां 2001 में 1000 बच्चों पर 905 लड़कियां थी जबकि 2011 में 35 की गिरावट के साथ 870 पाई गई। 51 की गिरावट के साथ हरदोई टॉप पर है।

Spotlight

Most Read

Lucknow

यूपी पुलिस भर्ती को लेकर युवाओं में जोश, पहले ही दिन रिकॉर्ड रजिस्ट्रेशन

यूपी पुलिस में 22 जनवरी से शुरू हुआ फॉर्म भरने का सिलसिला पहले दिन रिकॉर्ड नंबरों तक पहुंच गया।

23 जनवरी 2018

Related Videos

बागपत: पत्नी की हत्या के आरोप में बीएसएफ जवान गिरफ्तार

बागपत में पत्नी की हत्या के आरोप में बीएसएफ के जवान को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने आरोपी जवान की पत्नी गीता की लाश बरामद कर पोस्टमार्टम के लिए भेज दी है।

23 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper