योजना फेल हुई तो कम कर दिया अंशदान

Baghpat Updated Sun, 23 Sep 2012 12:00 PM IST
बागपत। गांवों के लिए बनाई गई स्वजल धारा योजना जनपद में दो कदम भी नहीं चल पाई। ग्राम पंचायतों ने अंशदान नहीं किया तो योजना फेल हो गई। अब फिर से इस योजना को जिंदा करने का प्रयास किया जा रहा है। शासन ने योजना में ग्राम पंचायतों के अंशदान को कम कर दिया है।
ग्रामीण क्षेत्रों में स्वच्छ पेयजल उपलब्ध कराने के लिए केंद्र सरकार की स्वजलधारा पेयजल योजना जनपद में दो कदम भी नहीं चल सकी। जनपद के हर गांव के लिए तैयार की गई इस योजना पर ग्राम पंचायतों का दस प्रतिशत अंशदान भारी पड़ गया। सभी ग्राम पंचायतें यह तो चाहतीं थीं कि उनके यहां जल निगम इस योजना को तैयार करे, लेकिन अंशदान के मामले में पीछे हट गईं। नतीजन यह योजना जनपद में पूरी तरह से फेल हो गई। पूरे जनपद में मात्र एक गांव में ही इस योजना के तहत प्रोजेक्ट के लिए ग्राम पंचायत ने अंशदान उपलब्ध कराया।
योजना फेल होती देख प्रशासनिक अधिकारियों के होश उड़ गए। शासन ने भी इस मामले में सख्ती कर दी। जिस पर इस योजना में ग्राम पंचायतों का अंशदान दस प्रतिशत से घटाकर मात्र पांच प्रतिशत कर दिया गया। अधिकारियों को उम्मीद है कि अंशदान कम करने से ग्राम पंचायतों से प्रस्ताव आ जाएंगे। इसके अलावा अधिकारियों ने एक और छूट दे दी। निर्मल ग्राम बनने वाली ग्राम पंचायत को दिए जाने वाले 7 लाख से 20 लाख रुपये तक के अतिरिक्त बजट से भी इस अंशदान की भरपाई की जा सकेगी। जिला पंचायत राज अधिकारी दिवाकर बाबू सक्सेना ने बताया कि अब अंशदान दस प्रतिशत से कम करके पांच प्रतिशत कर दिया गया है। निर्मल गांवों के लिए मिलने वाले बजट से भी इसकी भरपाई की जा सकती है।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

बागपत: पत्नी की हत्या के आरोप में बीएसएफ जवान गिरफ्तार

बागपत में पत्नी की हत्या के आरोप में बीएसएफ के जवान को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने आरोपी जवान की पत्नी गीता की लाश बरामद कर पोस्टमार्टम के लिए भेज दी है।

23 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls