दुआओं संग हज के लिए रवाना हुए जायरीन

Azamgarh Updated Mon, 24 Sep 2012 12:00 PM IST
आजमगढ़। जनपद में हज यात्रा पर जाने वाले यात्रियों का रवाना होने का सिलसिला 20 सितंबर से शुरु हो गया है, इस क्रम में नगर क्षेत्र से जायरीनों का पहला जत्था रविवार को रवाना हुआ। मुहल्ला बाजबहादुर से रवाना होने वाले इस जत्थे को लोगों ने गले लगा कर विदा किया।
मुहल्ला बाजबहादुर निवासी वसीम अहमद अपनी पत्नी शबाना वसीम और भाई अब्दुल खालिक के साथ हज यात्रा के लिए रवाना होने से पहले अपने आवास पर सभी से गले मिले और लोगों की दुआआें के साथ रवाना हुए। रविवार की शाम को वे कैफियात एक्सप्रेस से दिल्ली पहुंचेंगे। जहां से वे 30 सितंबर को उड़ान भरेंगे। वसीम के हज पर जाने की खबर को पाकर उनके मित्र ,रिश्तेदार तथा अन्य पहचान वाले उनसे मिलने के लिए घर पर गए और गले मिले तथा यात्रा की सफलता के लिए दुआएं दी तथा अपने लिए भी काबा में दुआ करने की बात कही। कुछ लोग तो उन्हें छोड़ने रलवे स्टेशन तक भी गए। उधर मुबारकपुर संवाददाता के अनुसार मुबारकपुर कस्बे से हज यात्रा के क्रम में 24 सितंबर को जायरीनों का पहला काफिला मक्का के लिए रवाना होगा।
बता दें कि मुसलमानों में हज करना पंाचवा फरीजा है। जिसको अदा करने के लिए मक्का मदीना जाना पड़ता है। पहला फरीजा कलमा तौहीद की जबान से कूबूल करना और दिल से मानना, दूसरा नमाज पढ़ना, तीसरा रोजा रखना, चौथा जकात देना और पांचवां हज करना है। जिसमें जकात देना और हज करना अर्थ व्यवस्था पर आधारित है। शेष तीन फरीजा हर मुसलमानों को अदा करना जरूरी है। उसी के उद्देश्य से हर साल दर्जनों महिला और पुरुष हज के लिए मुकद्दस फरीजे को अदा करने के लिए मक्का जाते हैं। इस वर्ष भी नगर और ग्रामीण इलाकों से दो दर्जन से अधिक लोग हज यात्रा की तैयारी में लगे हुए हैं। पहला काफिला 24 सितंबर को रवाना होगा।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

बिजली कनेक्शन काटने पर SDO की हुई पिटाई

आजमगढ़ में बिजली बिल वसूल करने गए बिजली विभाग के SDO की जमकर पिटाई हो गई।

23 दिसंबर 2017