जमकर बरसे मेघ,जलमगभन हुए मुहल्ले

Azamgarh Updated Sun, 16 Sep 2012 12:00 PM IST
आजमगढ़। लगातार दूसरे दिन शनिवार को भी उमड़-घुमड़ रहे बादल झमाझम बरसे। उमस भरी गर्मी से जहां लोगों को राहत मिली वहीं शहर में जगह-जगह जलजमाव से लोग परेशान रहे। रोडवेज से लेकर आरटीओ आफिस और पांडेय बाजार सहित कई मुहल्लों में की सड़कें कीचड़ में सन गयी है। मेंहनगर के कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय गौरा के प्रांगण में पानी भर गया है। इससे पठन-पाठन बाधित हो गया। लेकिन इस बरसात से किसानों को काफी राहत मिली। किसानों के चहरे खिले तो दूसरी तरफ लोगों को गर्मी से राहत मिली।
शुक्रवार सुबह से झमाझम बारिश जो शुरू हुई तो दोपहर तक लगातार जारी रही। दिन में भी रुक-रुक कर बरसात होती रही और शाम तक काले बादल छाए रहे। इसके चलते शनिवार को दिन भर मौसम खुशनुमा रहा। हालांकि इस बरसात से लगभग आधा शहर जलजमाव की जद में आ गया था। नगर क्षेत्र के एसकेपी इंटर कालेज के सामने, दलसिंगार मोहल्ला, लालडिग्गी, गांधी चौराहा रैदोपुर, कालीनगंज, दलालघाट, अटलस पोखरा पर घुटनों भर पानी लग गया। इसकी वजह से लोगों को आवागमन में कठिनाई उठानी पड़ी। साथ ही कई मुहल्ले कीचड़ में तब्दील हो गए। रोडवेज परिसर का तो हाल ही बुरा था। यहां कीचड़ और जलजमाव शुक्रवार से होने के कारण यात्री परेशान नजर आए। उधर दलसिंगार मुहल्ले में पानी भरा तो बदरका होते हुए ब्रह्मस्थान जाने वाले मार्ग पर पूरी तरह पानी लग गया। इससे ज्योति निकेतन स्कूल के बच्चों को परेशानी हुईं। दोपहर एक बजे तक रिमझिम बारिश होती रही, इसकी वजह से स्कूली बच्चे भीगते हुए अपने घरों को रवाना हुए। बिंद्रा बाजार संवाददाता के अनुसार ठेकमां विकास खंड के उच्च प्राथमिक विद्यालय खुंदनपुर में चारों तरफ जलजमाव हो गया है। इससे छात्रों को पढ़ने में कठिनाई हो रही है। मेंहनगर संवाददाता के अनुसार कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय गौरा मेंहनगर के प्रांगण में बारिश का पानी घुस गया है। इसकी वजह से छात्राओं का पठन-पाठन पूरी तरह बाधित हो गया है।


जूनियर हाईस्कूल के कमरों से टपक रहा पानी
प्रधानाचार्य ने बीएसए से की शिकायत
बरामदे में बैठकर पढ़ रही हैं छात्राएं
फोटो
अमर उजाला ब्यूरो
आजमगढ़। शहर कोतवाली के बड़ादेव स्थित कन्या जूनियर हाईस्कूल का भवन पूरी तरह से जर्जर हो गया है। लगातार दो दिनों से हो रही बारिश की वजह से छत टपक रही है। छात्राएं बरामदें में बैठकर पढ़ रही हैं। इसे लेकर विद्यालय की प्रधानाचार्य ने लिखित रूप से जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी को अवगत करा दिया है।
बड़ादेव का यह भवन वर्ष 1965 का बना हुआ है। समय-समय पर इसकी छिटपुट मरम्मत भी करायी गयी। इस समय भवन का छत बिल्कुल जर्जर हो गया है। बरसात के दिनों में सारी छत टपक रही है। इससे चारों कमरों में बैठने के लिए जगह नहीं बची है। इसकी वजह से छात्राएं बरामदें में बैठकर पठन-पाठन कर रहीं है। सीढ़ी भी गीली हो गयी है, जिसकी वजह से सीढ़ी से उतरते समय छात्राएं गिरकर चोटिल हो रही हैं। विद्यालय के चाराें कमरे पूरी तरह जर्जर हो गए हैं। इससे किसी भी समय यह ढह सकता है। शनिवार को हुई बारिश के बीच चारों कमरे टपक रहे थे। इससे छात्रों को काफी दिक्कत हुई। दूसरी तरफ विद्यालय का अभिलेख भी भीगकर क्षतिग्रस्त हो सकता है। ऐसे में विद्यालय में पठन-पाठन सुरक्षित नहीं हैं। इस संबंध में बेसिक शिक्षा अधिकारी रमेश यादव ने बताया कि अभी तक उनके यहां इस तरह की शिकायत नही पहुंची हैं। अगर पानी टपक रहा है तो वह इसका निरीक्षण कर जायजा लेंगे।

Spotlight

Most Read

Dehradun

आरटीओ में गोलमाल, जांच शुरू

आरटीओ में गोलमाल, जांच शुरू

21 जनवरी 2018

Related Videos

बिजली कनेक्शन काटने पर SDO की हुई पिटाई

आजमगढ़ में बिजली बिल वसूल करने गए बिजली विभाग के SDO की जमकर पिटाई हो गई।

23 दिसंबर 2017

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper