विज्ञापन
विज्ञापन

शाम होते ही अंधेरे में डूब गया शहर और देहात

Azamgarh Updated Wed, 01 Aug 2012 12:00 PM IST
ख़बर सुनें
आजमगढ़। पावर ग्रिड फेल होने का परिणाम रहा कि मंगलवार की शाम होते-होते जिला मुख्यालय से लेकर पूरा जिला अंधेरे में डूब गया। दिन में आपूर्ति न मिलने पर लोगों ने इस नियमित कटौती समझा। लेकिन शाम छह बजे के बाद जब बिजली नहीं आई तो लोगों ने पता करना शुरू किया। आपूर्ति ठप रहन का परिणाम रहा कि लोगों का जन-जीवन अस्तव्यस्त हो गया। इसीक्रम में सरकारी अस्पतालों में बत्ती गुल होने से मरीज बेहाल दिखे। इस दौरान दिन में जनरेटर चलाया गया, यह हाल सरकारी और गैर सरकारी दोनों अस्पतालों में रहा। नगर में पेयजल आपूर्ति ध्वस्त होने से पानी के लिए हाहाकार मचा रहा। देर रात तक बिजली के लिए लोग जनरेटर पर आश्रित रहे।
विज्ञापन
विज्ञापन
इससे पहले रविवार की रात को ग्रिड फेल से आपूर्ति ठप रही। लेकिन सुबह होने तक लोगों को जबतक इसकी जानकारी हुई आपूर्ति सुचारु हो गई। हालांकि उस दौरान सिर्फ ट्रेनें ही प्रभावित हुईं। लेकिन दोबारा मंगलवार की दोपहर में अचानक उत्तरी ग्रिड फेल होने का असर देखने को मिला। इस दौरान बिजली धीरे-धीरे बैठ गई। साथ ही सिधारी सब स्टेशन, बलरामपुर, जाफरपुर, भवंरनाथ सब स्टेशन के सभी फीडर ट्रिप कर गए, इससे जिला अस्पताल, महिला अस्पताल, कलेक्ट्रेट, विकास भवन, आफिसर्स कालोनी, मंडलायुक्त, डीआईजी, डीएम, एसपी आवास सहित पूरे नगर की बत्ती गुल हो गई। पूरे शहर में जनजीवन ठहर सा गया। जिला अस्पताल और महिला अस्पताल में 24 घंटे मिलने वाली बिजली गुल होने से मरीज काफी परेशान दिखे। इधर शहर में पेयजल आपूर्ति की व्यवस्था ध्वस्त होने से शाम होते ही घर-घर में हाहाकार मच गया। सरकारी हैंडपंपों पर महिलाओं और बच्चों में पेयजल के लिए मारा-मारी मच गई। उधर, हरबंशपुर स्थित इंडस्ट्रियल फीडर के ठप हो जाने से दर्जनों लघु उद्योग ठप रहे। रोडवेज और रेलवे स्टेशन पर भी यात्री उमस भरी गर्मी से बेहाल रहे। दूसरी तरफ मुबारकपुर सब स्टेशन से विद्युत आपूर्ति ठप होने से मुबारकपुर कस्बे में बुनकरों के करघे बंद हो गए। रोजदोरों में शाम होते ही बिजली-पानी को लेकर हाहाकार मच गया। बिलरियागंज, फूलपुर, जीयनपुर, मेहनगर, सरायमीर, अतरौलिया, लालगंज, कप्तानगंज, निजामाबाद आदि कस्बों में दूसरे दिन भी विद्युत आपूर्ति ठप होने से लोगों के काम-धंधे ठप रहे।


रोजेदारो को हुई दिक्कत
आजमगढ़। ग्रिड फेल होने का परिणाम रहा कि मंगलवार को पूरा जिला अंधेरे में चला गया। इस बात की किसी को आशंका भी नहीं थी कि शाम को इफ्तारी के समय तक बिजली नहीं रहेगी और पेयजल का संकट गहरा जाएगा। शाम होने के दौरान रोजेदार पानी के लिए हैंडपंपों पर लाइन लगाए दिखे। साथ ही नमाज पढ़ने के दौरान आदि काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा।


चौपट हुआ बाजार और व्यवसाय
आजमगढ़। जिला मुख्यालय पर बिजली कटौती का शेड्यूल दोपहर एक बजे से शाम को छह बजे तक का है। इस दौरान व्यापारी अपनी दुकानों पर उसी तरह से उजाले के प्रबंध की व्यवस्था करते है। दिन में उनका काम इनवर्टर आदि से चल जाता है, इस बीच शाम को आपूर्ति बहाल होने से पुन: उनकी दुकान चमकने लगती है। लेकिन मंगलवार को उल्टा हुआ। इर्वटर आदि दिन में ही बोल गए। शाम को बिजली का दूर-दूर तक पता नहीं था। ऐसे में बाजार और व्यवसाय दोनों प्रभावित हुआ।


शहर में पेयजल आपूर्ति की व्यवस्था चरमराई
आठ हजार उपभोक्ताओं में हाहाकार
पालिका प्रशासन आपूर्ति की कवायद में जुटा
आजमगढ़। ग्रिड क्या फेल हुई पेयजल आपूर्ति व्यवस्था भी ध्वस्त हो गई। नगर पालिका के 22 नलकूपों में 20 के अचानक ठप हो जाने से वाटर सप्लाई ठप हो गई। शाम होते ही आठ हजार परिवारों में पीने के पानी को लेकर हाहाकार मच गया।
नगर में लगभग आठ हजार परिवार नगर पालिका के पेयजल पर आश्रित हैं। 22 नलकूपों से पेयजल आपूर्ति की जाती है। बिजली रहने पर हर नलकूप से प्रति घंटे एक लाख 25 हजार लीटर वाटर की सप्लाई होती है। बिजली के न रहने पर दो जनरेटर की व्यवस्था की गई है। मंगलवार को दोपहर में ग्रिड फेल होने से पूरे शहर की बिजली गुल होते ही नगर पालिका के दो नलकूपों को छोड़ कर अन्य नलकूपों से वाटर सप्लाई ठप हो गई। शाम होने पर भी वाटर सप्लाई बहाल न होने पर लगभग आठ हजार परिवारों में हाहाकार मच गया। पानी के लिए इंडिया मार्का हैंडपंपों में लंबी लाइन लग गई। नगर पालिका अध्यक्ष श्रीमती इंदिरा जायसवाल ने बताया कि बिजली संकट को देखते हुए सभी नलकूपों पर जनरेटर की व्यवस्था की जा रही है। इसके अलावा पालिका प्रशासन के पास पानी के सात टैंकर हैं। इसमें से दो टैंकर पानी मड़या और जजेज कालोनी के पास भेज गए, जहां सोमवार की शाम से ही बिजली ठप है। पांच टैंकरों को भी अलग-अलग मोहल्लों में भेजे जा रहे हैं।


सामान्य रही ट्रेन सेवा, फिर भी गर्मी से हलाकान रहे यात्री
आजमगढ़। पूर्वी ग्रिड फेल होने से जिले में ट्रेन सेवा आम दिनों की तरह सामान्य रही। सिर्फ इलेक्ट्रिक आधारित दिल्ली से चली कैफियात एक्सप्रेस ट्रेन दो घंटे विलंब से पहुंची। हालांकि यहां से राइट समय पर दिल्ली के लिए रवाना हुई। इधर रेलवे स्टेशन पर बिजली गुल हो जाने से उमस भरी गर्मी में ट्रेनों के इंतजार में यात्री हलाकान रहे। प्लेट फार्म का पंखा बंद रहने से यात्री पसीने से तर-बतर दिखे। यही हाल रोडवेज पर भी रहा। यात्री शेड के नीचे लगे पंखों के न चलने से गर्मी में यात्री बिलबिलाते रहे। रेलवे स्टेशन अधीक्षक पीआर गौतम ने बताया कि जिले से जाने वाली सभी ट्रेनें डीजल पर आधारित हैं। ऐसे में ट्रेनों के संचालन में कोई दिक्कत नहीं आई। सभी ट्रेने राइट समय पर रहीं। सिर्फ कैफियात एक्सप्रेस कानपुर तक इलेक्ट्रिक पर आधारित रहती है। मंगलवार को ग्रिड फेल होने से पूर्व ही लगभग 12 बजे कैफियात एक्सप्रेस स्टेशन पर पहुंच गई थी और राइट समय पर दिल्ली के लिए रवाना हुई। उन्होंने बताया कि बिजली संकट को देखते हुए जनरेटर से बिजली, पानी की व्यवस्था की गई है।

Recommended

Uttarakhand Board 2019 के परीक्षा परिणाम जल्द होंगे घोषित, देखने के लिए क्लिक करें
Uttarakhand Board

Uttarakhand Board 2019 के परीक्षा परिणाम जल्द होंगे घोषित, देखने के लिए क्लिक करें

सवाल करियर का हो या फिर हो नौकरी से जुड़ा,  पाएं पूरा समाधान विश्वप्रसिद्व ज्योतिषाचार्यो से
ज्योतिष समाधान

सवाल करियर का हो या फिर हो नौकरी से जुड़ा, पाएं पूरा समाधान विश्वप्रसिद्व ज्योतिषाचार्यो से

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

लोकसभा चुनाव 2019 (lok sabha chunav 2019) के नतीजों में किसने मारी बाजी? फिर एक बार मोदी सरकार या कांग्रेस की चुनावी नैया हुई पार? सपा-बसपा ने किया यूपी में सूपड़ा साफ या भाजपा का दम रहा बरकरार? सिर्फ नतीजे नहीं, नतीजों के पीछे की पूरी तस्वीर, वजह और विश्लेषण। 23 मई को सबसे सटीक नतीजों  (lok sabha chunav result 2019) के लिए आपको आना है सिर्फ एक जगह- amarujala.com  Hindi news वेबसाइट पर.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Azamgarh

गड़बड़ी की आशंका के बीच डीएम से मिले सपाई और बसपाई

गड़बड़ी की आशंका के बीच डीएम से मिले सपाई और बसपाई

21 मई 2019

विज्ञापन

कांग्रेस का सीएम त्रिवेंद्र पर बड़ा हमला, दिखाई करीबी के स्टिंग की वीडियो

मंगलवार को कांग्रेस ने सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत पर सीधा और बड़ा हमला किया। कांग्रेस ने व्यवसायी संजय गुप्ता और सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत के करीबी रिश्तों का जिक्र किया और दोनों को बिजनेस पार्टनर बताया।

21 मई 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election