पीजीआई चक्रपानपुर को लगे पंख

Azamgarh Updated Fri, 13 Jul 2012 12:00 PM IST
आजमगढ़। बसपा सरकार में हाशिए पर चले गए पीजीआई चक्रपानपुर को जल्द ही पंख लगने वाले हैं। निर्माण के लिए निगम को बजट भी स्वीकृत हो गया है। केवल अभी धन नहीं आया है। धन आते ही एक साल के अंदर पीजीआई कालेज को पूर्ण रूप से चालू कर दिया जायेगा। पीजीआई का निरीक्षण करने एक सप्ताह के अंदर प्रमुख सचिव आने वाले हैं। इसे लेकर तैयारियां जोरशोर से की जा रही हैं।
पिछली दफा अपने शासनकाल में सपा सरकार ने चक्रपानपुर में पीजीआई अस्पताल बनाने का निर्णय लेकर जिले को तोहफा दिया था। इसके निर्माण के लिए 500 करोड़ रुपये स्वीकृत भी किए गए थे, जिससे निर्माण कार्य भी शुरू हो गया। इसी क्रम में 385 डाक्टरों की तैनाती कर ओपीडी सेवाएं शुरू कर दी गईं। लेकिन बीच में सपा सरकार चली गई और बसपा सरकार ने कैबिनेट के फैसले से वर्ष 2010 में पीजीआई कालेज को निजी क्षेत्र में संचालित करने का निर्देश दे दिया। इसके बाद यहां के स्टाफ, मेज, कुर्सी, उपकरण आदि सामान वापस कर लिये गए। यहीं नहीं यहां के 345 स्टाफ को गोरखपुर, इलाहाबाद, लखनऊ, कानपुर, अम्बेडकरनगर, झांसी, मेरठ आदि मेडिकल कालेजों से अटैच कर दिया गया। यहां केवल 40 का स्टाफ रह गया। इसी से अस्पताल की सेवाएं प्रदान की जा रहीं थी। इस बीच सपा की सरकार फिर बनी और अखिलेश यादव मुख्यमंत्री बनें। उन्होंने कैबिनेट के फैसले से ही पीजीआई कालेज चक्रपानपुर को निजी क्षेत्र से मुक्त कर सरकारी क्षेत्र में कर दिया, क्योंकि सपा सरकार ने चुनावी घोषणा पत्र पीजीआई कालेज को अपने एजेंडे में रखा था। बसपा सरकार द्वारा 500 करोड़ में से कुछ धन दूसरे मद में भी ट्रांसफार्मर कर दिया गया था। अब सपा सरकार ने पीजीआई को पूरी तरह से लैस करने का फैसला लिया है। इसके लिए निर्माण विभाग को बजट भी स्वीकृत हो चुका है। जल्द ही अवरुद्ध निर्माण पूरा करके 2013 तक अस्पताल को चालू करने का निर्देश दिया गया है।

इनसेट
चल रही है ओपीडी
पीजीआई कालेज चक्रपानपुर में ओपीडी सेवाएं चल रही हैं। यहां चालीस स्वास्थ्यकर्मियों को लगाया गया है। ओपीडी में मेडिसिन, स्किन सर्जरी आदि का कार्य हो रहा है। यहां प्रतिदिन 500 से 600 मरीजों का उपचार भी हो रहा है। स्टाफ वापस आने के बाद से यह अस्पताल सुविधाआें से लैस हो जायेगा।

इनसेट.
सरकार ने 14 जून को ही सरकारी सेवाएं बहाल कर दीं। जल्द ही निर्माण कार्य के लिए मजदूरों को लगा दिया जाएगा। बजट का इंतजार हो रहा है। बजट आते ही मेडिकल कालेज के सारी प्रक्रियाएं पूरी हो जायेगी।
-डा. एसके आर्या- प्रिंसिपल मेडिकल कालेज

Spotlight

Most Read

National

इलाहाबाद HC का निर्देश- CBI जांच में सहयोग करे लोक सेवा आयोग

कोर्ट ने लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष को जवाब दाखिल करने के लिए छह फरवरी तक की मोहलत दी है।

19 जनवरी 2018

Related Videos

बिजली कनेक्शन काटने पर SDO की हुई पिटाई

आजमगढ़ में बिजली बिल वसूल करने गए बिजली विभाग के SDO की जमकर पिटाई हो गई।

23 दिसंबर 2017

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper