विज्ञापन

मंत्री सहित विधायकों का रहा जमावड़ा

Azamgarh Updated Sat, 12 May 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
ख़बर सुनें
आजमगढ़। बसपा की जिला पंचायत अध्यक्ष मीरा आजाद के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव को लेकर शुक्रवार को सपा जिला कार्यालय पर गहमा-गहमी रही। पार्टी कार्यालय से लेकर विकास भवन तक सत्तारुढ़ नेताओं के लग्जरी वाहनों का रेला लगा रहा। अविश्वास प्रस्ताव पर बहस से लेकर मतदान तक मंत्री सहित विधायक पार्टी कार्यालय में ही जमे रहे। इस दौरान मंत्री और विधायक नेहरू हाल में चल रही जिला पंचायत सदस्यों की बैठक और बहस पर पल-पल की जानकारी लेते रहे। इतना ही नहीं प्रतिबंध के बाद भी सपा विधायकों का जिला पंचायत भवन परिसर में आना-जाना लगा रहा।
विज्ञापन
बता दें कि वर्ष 2005 में सपा शासन में जिला पंचायत अध्यक्ष पद पर सपा के हवलदार यादव निर्वाचित हुए थे। सपा के सत्ता से बेदखल होते ही वर्ष 2010 चुनाव में अध्यक्ष सीट आरक्षण के तहत महिला सीट घोषित कर दी गई। सपा अपनी सीट पर कब्जा बरकरार रखने के लिए 12 दिसंबर 10 को हुए चुनाव में जहां पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष हवलदार यादव की बहू मीरा यादव को मैदान में उतारा था,वहीं सपा के मुकाबले बसपा ने पूर्व राज्य सभा सदस्य गांधी आजाद की भयोहू मीरा आजाद को चुनाव लड़ाया था। 42 मत पाकर मीरा आजाद पंचायत अध्यक्ष निर्वाचित हुई थीं। सपा की मीरा यादव को 31 मत पाकर करारी हार का सामना करना पड़ा था।
शुक्रवार को बसपा जिला पंचायत अध्यक्ष मीरा आजाद के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पर नेहरू हाल में जिला पंचायत सदस्यों की बैठक शुरू होने से पूर्व ही सपा कार्यालय पर सदस्यों का आना शुरू हो गया था। राज्यमंत्री वसीम अहमद के साथ ही विधायक डा. संग्राम यादव, आदिल शेख, बृजलाल सोनकर, श्यामबहादुर सिंह यादव के पहुंचते ही पार्टी कार्यालय पर कार्यकर्ताओं का रेला लग गया। अविश्वास प्रस्ताव पर बहस और मतदान में जीत पर सपाई खुशी से झूम उठे।

पंचायत अध्यक्ष ने अविश्वास प्रस्ताव का किया बहिष्कार
जिला पंचायत सदस्यों की हुई खरीद-फरोख्त-मीरा आजाद
अमर उजाला ब्यूरो
आजमगढ़। जिला पंचायत अध्यक्ष मीरा आजाद ने कहा कि मेरे खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने के लिए सपा ने सत्ता का दुरुपयोग करते हुए धन बल का इस्तेमाल किया। सपा की इस साजिश से आहत हो कर मैंने अविश्वास प्रस्ताव का बहिष्कार करते हुए बैठक शुरू होने से पूर्व ही जिला प्रशासन को अवगत करा दिया था।
जिला पंचायत अध्यक्ष मीरा आजाद शुक्रवार को अविश्वास प्रस्ताव पर बैठक होने से पूर्व अपने मुंडा स्थित आवास पर पत्रकारों से बात-चीत कर रही थीं। उन्होंने कहा कि मैंने 14 जनवरी 10 को जिला पंचायत अध्यक्ष पद पर कार्यभार ग्रहण किया। पूरे कार्यकाल में जिला पंचायत के सभी सदस्यों को बराबर का सम्मान दिया। सभी सदस्यों के विकास से संबंधी प्रस्ताव को स्वीकृत किया। सदस्यों को किसी तरह की शिकायत नहीं थी और न ही कोई भ्रष्टाचार का ही आरोप लगा। इसके बाद भी समाजवादी पार्टी द्वारा सत्ता और धनबल का इस्तेमाल कर अविश्वास प्रस्ताव लाया गया। श्रीमती आजाद ने आरोप लगाया कि जिला पंचायत सदस्यों की खुलेआम खरीद-फरोख्त की गई।

इनसेट
12 सदस्य बसपा के वफादार बने रहे
आजमगढ़। बसपा की जिला पंचायत अध्यक्ष मीरा आजाद के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव के दौरान बसपा के 12 जिला पंचायत सदस्य पार्टी के प्रति वफादार बने रहे। बैठक के दौरान 12 सदस्य जिला पंचायत अध्यक्ष मीरा आजाद के मुंडा स्थित आवास पर जमे रहे। ये सदस्य अविश्वास प्रस्ताव पर बैठक में भाग लेने नहीं गए।
जिला पंचायत अध्यक्ष मीरा आजाद ने कहा कि 12 दिसंबर 10 को हुए चुनाव में उन्हें 42 सदस्यों ने मतदान किया था। इसमें से 12 सदस्य आज भी पार्टी के साथ मजबूती के साथ खड़े रहे। इसमें प्रमुख रूप से रामअशीष यादव, शीला यादव, श्यामली राजभर, ज्योति विश्वकर्मा, अरूण विश्वकर्मा, अमरजीत बागी, किरन यादव, किरन वर्मा, भानू यादव, अरविंद यादव, सुबाष यादव, राजकुमार गौतम आदि जिला पंचायत सदस्य शामिल हैं।


इनसेट
12 दिसंबर10 को मीरा आजाद अध्यक्ष निर्वाचित
14 जनवरी011 को अध्यक्ष पद की ली शपथ
16 अप्रैल012 को अविश्वास प्रस्ताव को लेकर डीएम को नोटिस
21 अप्रैल012 को डीएम ने बैठक के लिए 11 मई की तारीख तय की
11 मई 012 को बैठक में बहस के बाद अविश्वास प्रस्ताव पारित

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Varanasi

आजमगढ़ में अराजक तत्वों ने तोड़ी शिव की प्रतिमा, गांव में तनाव

आजमगढ़ के कप्तानगंज थाना क्षेत्र के मीरपुर नवे गांव के सिवान स्थित भगवान शिव की प्रतिमा सोमवार रात अराजक तत्वों ने तोड़कर खंडित कर दी।

13 नवंबर 2018

विज्ञापन

Related Videos

बीजेपी महिला विधायक का ऑडियो वायरल, अवैध कामों के लिए मांग रही ‘कट’

उत्तर प्रदेश के गाजीपुर से भारतीय जनता पार्टी की महिला विधायक का एक ऑडियो वायरल हुआ है। जमानियां से बीजेपी विधायक सुनीता सिंह किसी से अपने इलाके में किए जा रहे अवैध कामों के बारे में बात करते हुए उसमें से हिस्सा देने को कह रही हैं।

5 जून 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree