बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

लोक सेवा आयोग की परीक्षा में लहराया परचम

Azamgarh Updated Sat, 05 May 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
ख़बर सुनें
आजमगढ़। भारतीय प्रशासनिक सेवा में जिले के तीन होनहारों ने जगह पाकर जिले का मान बढ़ाया है। लोक सेवा आयोग की परीक्षा में सगड़ी तहसील के भटनी गांव निवासी चंद्रशेखर पांडेय के सपूत अश्वनी पांडेय ने 805वीं रैंक हासिल की है। जबकि मेहनगर तहसील के गोपालपुर निवासी मेकैनिकल इंजीनियर आनंद सिंह ने 110 और निजामाबाद तहसील के फत्तनपुर गांव निवासी सप्लाई इंस्पेक्टर प्रताप गोपेंद्र यादव ने 298वीं रैंक हासिल कर जिले का नाम रोशन किया।
विज्ञापन

मेहनगर संवाददाता के अनुसार मेहनगर तहसील के गोपालपुर गांव निवासी डा.रामाश्रय सिंह के होनहार सपूत आनंद सिंह के लोक सेवा आयोग की परीक्षा में कामयाबी मिलने की खबर मिलते ही गांव में खुशी की लहर दौड़ गई। रामाश्रय सिंह बिहार राज्य के मधेपुरा विश्वविद्यालय से जुलोजी विभागाध्यक्ष से रिटायर होने के बाद से मधेपुरा में ही रहते हैं। डा. रामाश्रय सिंह के इकलौते पुत्र संतोष सिंह ने प्राथमिक शिक्षा गोपालपुर गांव में ही ली। छठवीं कक्षा से इंटर तक की शिक्षा जीयनपुर स्थित नवोद्य विद्यालय से हासिल की। वर्ष 2004 में मोतीलाल नेहरू इंजीनियरिंग कालेज इलाहाबाद से बीटेक किया। वर्तमान में एनपीटीसी टांडा में मेकैनिकल इंजीनियर हैं। वर्ष 2008 में एनटीपीसी में चयन के बाद भी वे लोक सेवा आयोग की परीक्षा तैयारी में लगे रहे। वर्ष 2011 की आयोग परीक्षा में 110वीं रैंक मिलने पर गोपालपुर गांव में रह रहे उनके चचेरे भाई लक्षिराम सिंह, रामनरायन सिंह, राजेंद्र सिंह का परिवार खुशी से झूम उठा। निजामबाद संवाददाता के अनुसार वाराणसी में सप्लाई इंस्पेक्टर के पद पर तैनात प्रताप गोपेंद्र यादव को आयोग की परीक्षा मेें कामयाबी मिलने पर निजामबाद तहसील के फत्तनपुर गांव निवासी डा. रामसमुझ यादव को बधाई देने वालों का तांता लग गया। डा. रामसमुझ यादव के छह पुत्रियों और दो भाइयों में प्रताप गोपेंद्र ने प्राथमिक शिक्षा आदर्श किसान पूर्व माध्यमिक बघौरा फरिहां से ग्रहण की थी। जनता इंटर कालेज निजामाबाद से हाई स्कूल और शिब्ली नेशनल इंटर कालेज से इंटर की शिक्षा ली थी। वाराणसी के उदयप्रताप कालेज से बीए और आजमगढ़ के पूर्वांचल डिग्री कालेज से प्राचीन इतिहास से एमए किया। वर्तमान में वाराणसी में सप्लाई इंस्पेक्टर के पद रहते हुए भी उन्होंने आईएएस की परीक्षा में 298 रैंक हासिल की है। कटानी बाजार, गोरिया बाजार संवाददाता के अनुसार सगड़ी तहसील के भटनी गांव निवासी चंद्रशेखर पांडेय घर पर ही रह कर खेती करते हैं। उनके चार पुत्रों में सबसे छोटे अश्वनी पांडेय को आयोग की परीक्षा में 805वीं रैंक मिलने पर गांव में जश्न का माहौल है। अश्वनी पांडेय ने भी प्राथमिक और जूनियर तक की शिक्षा गांव में ही हासिल की थी। हाई स्कूल तपेश्वरी इंटर कालेज सरदहां और इंटर नगर के शिब्ली इंटर कालेज से किया। लखनऊ विश्वविद्यालय से बीए, एमए और बीएड करने के बाद लखनऊ में ही रह कर आईएएस की तैयारी में लगे रहे। इस दौरान वर्ष 2004 में आजमगढ़ से विशिष्ट बीटीसी की ट्रेनिंग की और वर्ष 2006 में गोरखपुर जिले के जंगल कौडि़या ब्लाक में प्राथमिक विद्यालय में सहायक अध्यापक के पद पर नियुक्त हुए। सहायक अध्यापक पद रहते हुए भी उन्होंने आईएएस की तैयारी से पीछे नहीं हटे।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us