विज्ञापन
विज्ञापन

ससुर को मारने से क्षुब्ध पति ने खाया जहरीला पदार्थ, मौत

Kanpur	 Bureauकानपुर ब्यूरो Updated Sat, 20 Jul 2019 12:03 AM IST
poison
poison - फोटो : AURAIYA
ख़बर सुनें
दिबियापुर (औरैया)। गुरुवार को रामगढ़ रोड पर एक नर्स का सास-ससुर एवं पति के साथ विवाद ने बड़ा रूप ले लिया। नर्स ने अपने बेटे के साथ मिलकर सास-ससुर से मारपीट की तो क्षुब्ध होकर उसके पति ने जहर खा लिया। सीएचसी में उपचार के दौरान युवक ने दम तोड़ दिया। पिता ने थाना पुलिस और एसपी से एवं दिन में पुलिस अधीक्षक से पुत्रवधू एवं नाती के खिलाफ शिकायत की है।
विज्ञापन
मूल रूप से खरगपुर सरैया रामगढ़ के निवासी रामरतन शर्मा दिबियापुर में रामगढ़ रोड पर मकान बनाकर रहते हैं। वह अपने बेटे के साथ मेलों में जाकर दुकान लगाते रहे हैं। रामरतन की पुत्रवधू एक निजी अस्पताल में नर्स है। उसका सास-ससुर एवं पति से विवाद चल रहा है। जिले के ग्राम भदौरा में रहने वाली ननद सुधा ने बताया कि उसकी भाभी ने न्यायालय में 10 हजार रुपये मेंटीनेंस का मुकदमा भी दाखिल कर रखा है। गुरुवार सुबह नर्स का सास-ससुर से विवाद हो गया। दोपहर तक विवाद ने बड़ा रूप ले लिया। रामरतन के अनुसार, बहू ने बड़े बेटे के साथ मिलकर उसके सिर पर धारदार हथियार से हमला कर दिया। सास का चूल्हा भी फोड़ दिया। इसी बात से क्षुब्ध होकर बेटा सुशील कुमार शर्मा (40) बिना कुछ खाए पिए मकान के ऊपरी हिस्से में चला गया। देर शाम तक जब सुशील नीचे नहीं उतरा तो परिजनों को आशंका हुई। इस पर छत पर जाकर देखा तो सुशील के जहर खाने की जानकारी हुई। उसकी हालत बिगड़ चुकी थी। आसपास के लोगों की मदद से सुशील को सीएचसी में भर्ती कराया। देर रात सुशील ने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। रात में ही थाना पहुंचे रामरतन ने अपनी पुत्रवधू एवं बड़े पौत्र के खिलाफ कई गंभीर आरोप लगाए। प्रभारी निरीक्षक विनोद कुमार शुक्ला का कहना है कि शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। तहरीर मिलने पर रिपोर्ट दर्ज कर ली जाएगी।
बहू के साथ रोज-रोज के झगड़ों से परेशान होकर ससुर और पति पास में ही दूसरा मकान बना रहे थे। तय किया था कि नए मकान में एक कमरा बनाकर सास, ससुर एवं पति शिफ्ट हो जाएंगे। पूर्व में बना मकान अपनी बहू एवं बच्चों को रहने के लिए दे देंगे। इस बारे में मोहल्ले के लोगों से वह चर्चा करता रहता था। पर विधान को कुछ और ही मंजूर था।
मोहल्ले के लोगों के अनुसार, रामरतन एवं उसका पुत्र सुशील वर्ष के आठ महीने में तो मेले में रहकर ही दुकान लगाते थे। शेष चार महीने में मेले में कमाए गए रुपयों से अपना घर बनाते थे। पिता-पुत्र मकान बनाने में अकेले ही मेहनत करते थे, कोई मजदूर भी नहीं लगाते थे। पिछले कई वर्षों से रोज-रोज के पारिवारिक कलह से परेशान होकर पिता-पुत्र ने पास में ही एक प्लाट लिया था। पिछले कुछ दिनों से पिता-पुत्र अकेले ही इसमें कमरा बना रहे थे। लोगों का कहना है कि पिता-पुत्र ने तय किया था कि पहले से बना मकान पुत्रवधू एवं उसके चार बेटे-बेटियों को रहने के लिए दे देंगे। जबकि माता-पिता और पुत्र सुशील नए मकान में रहने लगेंगे पर विधि को कुछ और ही मंजूर था। गुरुवार को भी पिता-पुत्र ने दोपहर तक नए मकान में कमरे का निर्माण कार्य किया। परंतु गुरुवार को सुबह से शुरू हुए विवाद के कारण दोपहर एक बजे पिता-पुत्र काम बंद कर घर लौट आए थे। आसपास के लोगों का कहना कि पिता-पुत्र अपने काम पर ध्यान ज्यादा देते थे। पड़ोसियों से कम ही मतलब रखते थे। बहू द्वारा10 हजार रुपये महीने का मेंटीनेंस मांगे जाने से वे लोग ज्यादा परेशान रहते थे। क्योंकि उनकी आमदनी भी इतनी ज्यादा नहीं थी।
विज्ञापन

Recommended

13 सितम्बर से शुरू इस पितृ पक्ष कराएं गया में श्राद्ध पूजा, मिलेगी पितृ दोषों से मुक्ति
Astrology Services

13 सितम्बर से शुरू इस पितृ पक्ष कराएं गया में श्राद्ध पूजा, मिलेगी पितृ दोषों से मुक्ति

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Auraiya

मारपीट के दो दोषियों को दो वर्ष की कैद

मारपीट के दो दोषियों को दो वर्ष की कैद

15 सितंबर 2019

विज्ञापन

यूपी के बलिया में गंगा का रौद्र रूप, पलक झपकते ही ढह गया 2 मंजिला मकान

उत्तर प्रदेश के बलिया में गंगा के उफान ने लोगों की मुसिबतें बढ़ा दी है। यहां बलिया के केहरपुर गांव में गंगा तट के कटान की वजह से एक दो मंजिला मकान पलक झपकते ही मिट्टी में मिल गया।

15 सितंबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree